coolant temperature sensor क्या है function कैसे काम करता है और इसके ख़राब होने पर क्या करे

आपने सभी कारो में बहुत से sensor को लगा देखा होगा उन sensor में से एक sensor होता है coolant temperature sensor जो वाटर एल्बो में लगा होता है

इस sensor का इस्तेमाल इंजन के अन्दर चल रहे coolant का temperature मापने के लिए किया जाता है लेकिन अगर यह sensor खराब हो जाता है तो इसे बहुत ज्यदा समस्या हो सकती है

Coolant temperature sensor के खराब होने से आपकी कार का इंजन तक सीज हो सकता है और हो भी जाता है हर दुसरे दिन एक कार का इंजन सीज coolant temperature sensor के खराब होने के वजह से होता है

लेकिन समस्या यह है की अभी तक बहुत से लोगो को पता नहीं है की यह sensor खराब होने पर क्या symptoms देखने को मिलते है या dashboard में कोनसी warning light जलती है

आज हम आपको बतायेगे की क्या होता है coolant temperature sensor और यह कैसे काम करता है इसके खराब होने पर क्या symptoms आपको अपनी कार में देखने को मिल जायेगे जानते है –

क्या होता है Coolant temperature sensor 

coolant temperature sensor सभी कारो में वाटर एल्बो में लगा होता है इस sensor का आगे वाला हिसा coolant के अन्दर डूबा होता है ताकि यह coolant का temperature माप सके

यह sensor गोल्डन color का होता है यह sensor 2 पिन का होता है और इस sensor के साथ आपकी कार का रेडिअटर फेन जुड़ा होता है अगर यह sensor खराब होता है

तो आपकी कार का रेडिअटर फेन चालु नहीं होगा क्युकी यह sensor ecm को signal नहीं बेझ पाता जिसके कारण ecm फेन को on नहीं करता और कार का इंजन गर्म हो जाता है

इस sensor की एक ख़ास बात यह है जब आपकी कार का coolant बिलकुल ठंडा होगा तो coolant temperature sensor का om 2000 होता है और जब आपकी कार का coolant गर्म हो जाता है तो यह om 200 पर आ जाते है

Coolant temperature sensor function क्या  है 

Coolant temperature sensor वाटर एल्बो में लगा होता है और इसके साथ ही थर्मोस्टेट वाल भी लगा होता है इस एल्बो में से coolant पुरे इंजन में घूमता है ताकि coolant इंजन के temperature को बराबर रखे इंजन को गर्म ना होने दे क्युकी coolant का मुख्या काम इंजन को उचित तापमान पर रखना है

उसी जगह लगा होता है Coolant temperature sensor जो coolant के temperature को सेन्स करता है की coolant कितना गर्म है और कितना ठंडा और इस signal को यह sensor ecm तक भेजता है

और इस signal से ही ecm को इंजन का सही temperature पता चल पाता है लेकिन coolent temperature sensor का जो रजिसटेन्स होता है वह coolant के temperature के हिसाब से बदलता रहता है

जब इंजन के अन्दर coolant का temperature बढ जाता है या coolant गर्म हो जाता है तो coolant temperature sensor का रजिस्टेंस कम हो जाता है

और जब coolant का temperature कम होता है या coolant ठंडा होता है तो coolant temperature sensor का रजिस्टेंस बहुत जादा होता है

जब coolant बिलकुल गर्म होता है उस समय sensor का रजिस्टेंस 200 Ω ohm  होता है , और जब coolant ठंडा हो जाता है तब sensor का रजिस्टेंस 2000 से 3000 Ω ohm पर होता है

coolant temperature sensor ही कार की स्टार्टिंग को बनाए रखता है क्युकी जब आपकी कार का इंजन ठंडा होता है तो इंजन को उस समय जादा फ्यूल की जरूरत होती है और जब इंजन गर्म होता है

तो उसे कम फ्यूल और जादा air की जरूरत होती है  और यह सब जानकारी ecm को coolant temperature sensor देता है और ecm इस सभी जानकारी से स्टार्टिंग को control करता है

फ्यूल इंजेक्टर को कितना फ्यूल देना है यह सब काम करता है , इस प्रकार यह sensor काम करता है |

bad Coolant temperature sensor Symptoms क्या है 

यह सभी कारो में लगा होता है और जब आपकी कार का coolant temperature sensor खराब होता है तो आपको बहुत से symptoms देखने को मिल जायेगे जानते है उन symptoms के बारे में

check engine light 

आपकी कोई भी कार हो अगर coolant temperature sensor खराब होता है तो आपको सबसे पहले dashboard मीटर में check engine light देखने को मिल जाती है

यह light हमें warning देती है कार रोकने की इसलिए जब भी आपकी कार में check engine light on हो तो साथ ही कार रोक दे और चेक करे

Mileage ड्राप होना 

दूसरा symptoms आपको जो देखने को मिलेगा इस sensor के ख़राब होने पर वह है mileage का ड्राप हो जाना जब coolant temperature sensor खराब होता है

तो mileage कम हो जाती है क्युकी यह sensor को ecm को signal नहीं भेज पाता जिसे ecm को पता नहीं चल पाता coolant का तापमान जिसे ecm अपनी मर्जी से इंजेक्टर को फ्यूल की सप्लाई करता है

रेडिअटर फेन बंद हो जाना 

एक बात हमेशा ध्यान रखना की जब भी आपकी कार का coolant temperature sensor खराब होता है तो सबसे पहले आपकी कार का रेडिअटर फेन बंद हो जाएगा

जिसके कारण आपकी कार का इंजन गर्म होने के कारण सीज भी हो सकता है इसलिए जब भी फेन बंद हो जाए तो संबसे पहले coolant temperature sensor को check करे

black smoke की समस्या होना 

इंजन का temperature और फ्यूल मिक्सर खराब होने के कारण आपकी कार में black smoke की समस्या हो जाती है और मिक्सर ख़राब coolant temperature sensor खराब होने के वजह से होता है

इसलिए जब आपकी कार का coolant temperature sensor खराब होता है तो आपकी कार में black smoke की समस्या हो सकती है

स्टार्टिंग लेट हो जाना 

स्टार्टिंग का लेट हो जाना जब coolant temperature sensor खराब होता है तो यह ecm को signal नहीं भेज पाता coolant गर्म है या ठंडा जिसके कारण ecm को पता ही नहीं चल पाता इंजन ठंडा है या गर्म

जिसके कारण ecm इंजेक्टर को फ्यूल की सप्लाई कम जादा करते रहता है जिसके कारण आपकी कार की स्टार्टिंग लेट हो जाती है तो coolant temperature sensor बड़ा कारण है स्टार्टिंग लेट होने का

इंजन गर्म हो जाना 

जब coolant temperature sensor ख़राब होता है तो आपकी कार जल्दी जल्दी गर्म हो जाती है आप कुछ दूर कार चलाओगे और coolant पूरा गर्म हो जाएगा

एसा इसलिए होता है क्युकी coolant temperature sensor खराब हो जाता है जिसके कारण फेन on नहीं हो पाता जिसके कारण कार गर्म हो जाती है

rough idling की समस्या होना 

rough idling की समस्या कार के अधिकतर sensor के खराब होने के वजह से होती है उन्ही में से एक coolant temperature sensor है जब यह खराब होता है तो rough idling की समस्या होती है

इंजन की पॉवर कम हो जाना 

अगर आपकी कार का इंजन जल्दी जल्दी गर्म होगा फ्यूल का मिक्सर सही नहीं होगा तो यह जाहिर सी बात है आपकी कार की पॉवर कम हो जायेगी  लेकिन जब यह sensor खराब होता है

तो भी इंजन की पॉवर कम हो जाती है इंजन लोड बहुत लेने लगता है , तो यह सभी symptoms आपको देखने को मिल जायेगे इस sensor के खराब होने से

Coolant temperature sensor के खराब होने के कारण 

bad Coolant temperature sensor 

सबसे पहला कारण होता है coolant temperature sensor का ही खराब होना यह sensor 100 में से 50 कारो का खराब हो जाता है क्युकी यह sensor coolant के अन्दर डूबा होता है

और मोस्चर के कारण यह sensor खराब हो जाता है यह sensor जादा महंगा नहीं होता आप इसे आसानी से चेंज करा सकते है

fuse और रीले का खराब होना 

coolant temperature sensor का काम ना करने का दूसरा कारण होता है फ्यूज या  रीले  का खराब होना अगर आपकी कार का coolant temperature sensor का फ्यूज खराब हो जाता है

तो भी आपका यह sensor काम करना बंद कर देगा क्युकी सेंसर ecm से 5 वाल्ट का signal नहीं मिल पायेगा इसलिए एक बार फ्यूज और रीले  चेक कर ले

वायरिंग का ख़राब होना 

coolant temperature sensor के फ़ैल होने का एक बड़ा कारण होता है वायरिंग का कट जाना सबसे जादा कार में coolant temperature sensor की ही वायर टूटती  है

जिसके वजह से signal नही मिल पाता सेंसर को , टाटा इंडिगो , ford Figo , इन कारो में आपको वायर टूटी जादा देखने को मिलेगी

connecter का खराब होना 

connecter किसी भी sensor और वायरिंग को जोड़ने के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते है क्युकी कई बार sensor भी ठीक होता है और वायरिंग और फ्यूज रीले  सब सही होता है

लेकिन connecter में समस्या होती है connecter के पास वायरिंग टूट जाती है या connecter ढीला पड़ जाता है , connecter को हमेशा चेक करे

ecm में समस्या होना 

ecm engine control module यह सभी कारो में लगा होता है और सभी sensor को ecm ही control करता है कार स्टार्ट भी इसी के कारण होती है

अगर आपकी कार में सब कुछ सही है sensor भी सही है वायरिंग भी सही है connecter भी सही है तो आपको एक बार ecm को चेक कर सकते है लेकिन उसे पहले ecm के भी connecter चेक कर ले डस्ट तो नहीं है |

Coolant temperature sensor light on Dashboard क्या है 

एक check engine light और दूसरी होती है coolant temperature sensor light जो red color की होती है यह light dashboard में तब आती है

जब आपकी कार overhit हो गयी हो बहुत गर्म हो जाती है तब यह warning light हमें dashboard में देखने को मिलती है यह light on होते ही कार को बंद कर देना पड़ता है

और यह light कई कारण से आती है  , एक बात का हमेशा ध्यान रखे की जब भी आपकी कार गर्म हो जाती है तो आपको सबसे पहले इंजन को ठंडा करना है इंजन के ऊपर पानी डालकर

एकदम से रेडिअटर का ढकन खोलकर रेडिअटर में पानी नहीं डालना है पहले इंजन को ठंडा करना है फिर आराम से रेडिअटर का ढकन खोलना है उसके बाद

कार को स्टार्ट करना है और फिर पानी डालना है , कभी भी गर्म कार को बंद करके रेडिअटर में पानी नहीं डालना चाहिए इसे आपको बड़ी समस्या का सामना करना पड़ सकता है

यह light आती है इंजन गर्म होने के वजह से और इंजन overhit कई कारणों से होता है

फेन का बंद हो जाना

अगर चलती कार का फेन बंद हो जाए तो भी आपकी कार overhit होगी चलते चलते गर्म हो जायेगी

Coolant temperature sensor का खराब होना

कार के overhit होने का दूसरा कारण है coolant temperature sensor का खराब होना क्युकी यह ecm को signal भेज पाता है और ना ecm से signal ले पाता है और फेन on नहीं हो पाता और कार overhit होती है

थर्मोस्टेट वाल का ख़राब होना

थर्मोस्टेट वाल जादातर मिस्त्री इस वाल्व को बाहर निकाल कर फेक देते है क्युकी कार बार बार overhit होती है लेकिन इसको बाहर निकालने के बहुत निकसान होते है

अगर थर्मोस्टेट वाल्व खराब हो गया हो तो दूसरा डाल दे एसे ही कार ना चलाये , नहीं तो आपकी कार में समस्या हो सकती है

रेडिअटर में Coolant का ना होना

कार overhit होने का एक बड़ा कारण होता है coolant का ख़त्म होना या लिक हो जाना अगर आपकी कार के रेडिअटर में coolant नहीं होगा तो आपकी कार overhit होगी

वाटर बॉडी का टूट जाना

आपने देखा होगा कुछ लोग कहते है की उनकी कार 2 या 4 किलोमीटर चलते ही overhit होने लगती है और फिर नार्मल हो जाती है इसका कारण होता है वाटर बॉडी का टुटा होना

वाटर बॉडी के अन्दर से टूटे होने के कारण पानी का सर्कल सही नहीं चलता और कार overhit होती है चलते ही

head gasket का फटा होना

head gasket जब आपकी कार का फटता है तो आपकी कार के रेडिअटर में पानी नहीं रुकता बाहर निकल जाता है कार स्टार्ट करते ही बहुत जल्दी गर्म हो जाती है और स्टार्ट लेट होती है

यह सभी कारण है जिनके वजह से कार overhit होती है

Coolant temperature sensor कहाँ लगा होता है 

coolant temperature sensor सभी कारो में वाटर एल्बो में लगा होता है और यह एल्बो head से जुडी होती है और इस एल्बो में पाइप लगे होते है जो रेडिअटर से जुड़े होते है

और हीटर coil से जुड़े होते है और एल्बो के अन्दर ही थर्मोस्टेट वाल लगा होता है और coolant temperature से sensor इस एल्बो में एक साइड लगा होता है

और sensor का आगे वाला हिसा एल्बो के अन्दर coolant में डूबा होता है |

Coolant temperature sensor को कैसे check करे 

coolant temperature sensor को चेक करना बहुत आसान है आपको गर्म पानी कर लेना है और coolant temperature sensor के पिनो में दो वायर लगा देनी है

आपको मल्टीमीटर को ohm  पर सेट कर लेना है और पहले बाहर ही coolant temperature sensor का रजिस्टेंस चेक करना है बहुत बढ़ा हुआ होगा

उसके बाद आपको sensor का अगले वाला हिसा गर्म पानी में डालना है और फिर रजिस्टेंस को चेक करना है रजिस्टेंस कम होना चाहिए अगर sensor में कोई पॉइंट नहीं आते इसका मतलब sensor खराब है

इस तरीके से आप coolant temperature sensor को चेक कर सकते है

Leave a Comment