thermostat wall in car – अगर थर्मोस्टेट वाल को बाहर निकाला तो आपको भारी नुक्सान हो सकता है |

thermostat wall in car , आज हम बात करेगे थर्मोस्टेट वाल के बारे मैं ये वाल क्या होता है इसके कार में से बाहर निकालने से क्या क्या नुक्सान होते है |

बहुत आसानी से इसे बाहर निकालके फेक देते है क्या कोई भी ऑटोमोबाइल कंपनी एक पेच भी फ़ालतू लगा के देती है अगर नहीं तो कंपनी इंजन में 300 से 3000 तक का सामान लगा कर क्यों देती है |

तो इसी के बारे में हम बात करेगे की इसके क्या फायदे है और इसके बाहर निकालने से   क्या क्या नुक्सान हो सकते हे |

थर्मोस्टेट वाल क्या है ? इसको बाहर निकालने से क्या क्या हो सकते है नुक्सान |

 थर्मोस्टेट  क्या है

थर्मोस्टेट वाल  लोहे का होता हे जिसके अन्दर छोटा सा स्प्रिंग लगा होता है

और ये वाटर वाले एल्बो में लगा होता है जिसका कनेक्शन रेडिअटर से होता है

थर्मोस्टेट वाल  इंजन को सही टेम्प्रेचर में रखता है इंजन को ओवर हीट नही होने देता |ये कुलेंट का टेम्प्रेचर गर्म होने के बाद आटोमेटिक खुल जाता है |

 थर्मोस्टेट वाल के फायदे

थर्मोस्टेट वाल इंजन को सही टेम्प्रेचर प्रोवाइड करवाता है

यह जल्दी से जल्दी सही टेम्प्रेचर इंजन को देता है जितना टेम्प्रेचर इंजन को चाहिए ,अगर इंजन को 90 से 100 डिग्री टेम्प्रेचर इंजन को चाहिए तो ये जल्दी से इंजन को प्रोवाइड करवाता है

और कंटिन्यू  इतना हे टेम्प्रेचर रखता है जिसे इंजन सही काम करता है ,और इंजन की परफॉरमेंस सही रहती है |

थर्मोस्टेट वाल के बाहर निकालने के नुक्सान

थर्मोस्टेट वाल के बाहर निकालने से आपकी कार में 4 बड़े नुक्सान है जिसे आपको जायदा प्रॉब्लम हो सकती है वो 4 नुक्सान ये है >

1 . इंजन लाइफ ख़तम  हो जाती है

थर्मोस्टेट वाल के बाहर निकालने से सबसे पहला नुक्सान इंजन पे पड़ता है|

80 से 90 डिग्री इंजन का टेम्प्रेचर होता है जिसे इंजन सही काम करता है

जब हम थर्मोस्टेट वाल निकाल देते है तो इंजन का टेम्प्रेचर सही नहीं होता अप डाउन होता रहता है या तो टेम्प्रेचर बहुत जायदा बढ़ जाता है या तो टेम्प्रेचर उठता ही नहीं है

इस सेच्वेसन पर इंजन का इग्नेसियन सही नहीं होता कोम्ब्सन अच्छा नहीं होता जिसके कारण इंजन की लाइफ ख़तम हो जाती है |

2 . हेड गेस्कीट का बार बार फटना

हेड गेस्कीट का बार बार फटना

थर्मोस्टेट बाहर निकालने से से हेड गेस्कीट बार बार फटता है |

एसा इसलिए होता है ,थर्मोस्टेट वाल का जो छेद होता है वो छोटा होता है

जिसे कूलैंट का टेम्प्रेचर सही रहता है जब हम थर्मोस्टेट वाल को बाहर निकाल कर फेक देते है

तो इंजन में कुलेंट का सिस्टम डायरेक्ट हो जाता है कुलेंट का सिर्कल ओवर फलो हो जाता है  और जब गाडी जायदा चल जाती है तो थर्मोस्टेट वाल न होने के कारण कुलेंट बहुत गरम होता है

और ओवर फलो  होने के करण होस पाइप या हेड गेस्कीट फट जाता है |

3 . माइलेज कम हो जाती है

जिस कार में थर्मोस्टेट वाल बाहर निकाल दिया जाता है उस कार में माइलेज की बहुत प्रॉब्लम होती है .वो कार माइलेज बिलकुल नहीं देती | थर्मोस्टेट वाल निकाल देने से माइलेज इसलिए कम होती है ,कार में एक ECU/ECM लगा होता है |

ECU में सिंग्नल टेम्प्रेचर से आते है जिसके वजह से ECU को पता चलता है की कार गरम जगह  में है या ठंडे जगह में खड़ी है मान लीजिये अगर कार ठंडी जगह या बरफ में खड़ी है तो ECU कार स्टार्ट में कोई प्रोब्लम न आये तो Ecu फ्यूल डिलेवरी  को बढ़ा देता है |

और जब तक बढ़ा कर रखता हे जब तक इंजन का टेम्प्रेचर 90 डिग्री तक नहीं आ जाता | और   कार जल्दी और आसानी से स्टार्ट हो जाती है |

और अगर थर्मोस्टेट वाल बाहर निकाल दिया जाता है तो कार जल्दी से गरम नहीं होगीं लो टेम्प्रेचर रहेगी जिसके कारण Ecu को यही लगेगा की कार बर्फ में खड़ी और Ecu  बार बार फ्यूल सप्लाई को बढाता रहेगा जब तक आपकी कार गरम नहीं हो जाती|

  इसी कारण से थर्मोस्टेट वाल के बाहर निकालने के कारण कार माइलेज नहीं देती |अगर आपकी कार में माइलेज की प्रोब्लम है तो आप थर्मोस्टेट वाल जरुर चेक करवाए |

4 . AC का परफोरमेंस कम हो जाना

यदि थर्मोस्टेट वाल नहीं है तो टेम्प्रेचर या तो हाई हो जायेगा या बिलकुल लो रहेगा यह दिकत जायदा हाईवे रोड पर जायदा होती है जब आप कार को जायदा चलाते  है | एसा इसलिए होता है जब थर्मोस्टेट वाल लगा होता है तो टेम्प्रेचर 80 से 90 डिग्री तक रखता है  और AC ठीक काम करता है |

और जब वाल निकाल दिया जाता है तो टेम्प्रेचर हाई होने के कारण AC कोल्लिंग में प्रॉब्लम होगी ac कट of करेगा ठीक से काम नहीं करेगा |क्युकी वाल न होने के कारण टेम्प्रेचर बहुत बढ़ जायेगा या फिर कम रहेगा , टेम्प्रेचर के बढ़ते ही AC में प्रॉब्लम आएगी |

थर्मोस्टेट वाल न होने के कारण ये नुक्सान हो सकते हे |

थर्मोस्टेट का क्या उपयोग है जाने 

थर्मोस्टेट वाल का उपयोग हर गाडी में किया जाता है और इसका कार बस ट्रक में बहुत महत्वपूर्ण काम होता है यह कार की पानी वाली एल्बो में लगा होता है यह कार को जल्दी गर्म नहीं होने देता और इंजन के temprecture को बनाए रखता है |

जब हमारी कार में थर्मोस्टेट वाल लगा होता है उस समय , जब हम गाडी को start करते है तो जब तक इंजन का temprecture 90 डिग्री तक नहीं जाता थर्मोस्टेट वाल नहीं खुलता परन्तु temprecture 90 डिग्री से ऊपर जाते ही यह वाल खुलता है और रेडिएटर फेन को चलाता है और इंजन को ठंडा करता है |

इंजन के temprecture को बनाये रखने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है , अगर इसको निकालकर बाहर फेक दिया जाए तो माइलेज की समस्या हो सकती है हेडगेस्किट बार बार फटता है और रेदिअटर का फेन जल्दी जल्दी चलता है | 

थर्मोस्टेट वाल का इस्तेमाल इंजन के temprecture को बनाये रखने के लिए किया जाता है | 

थर्मोस्टेट स्विच क्या होता है 

थर्मोस्टेट स्विच क्या होता है 

थर्मोस्टेट स्विच को temprecture स्विच भी कहाँ जाता है और यह भी थर्मोस्टेट वाल के पास एल्बो में लगा होता है और थर्मोस्टेट स्विच खराब होने  की वजह से बहुत सी समस्या भी हो सकती है |

थर्मोस्टेट स्विच  का आगे वाला हिसा कुलेंट में डूबा होता है और जब हम कार चलाते है और इंजन गरम होना सुरु होता है और साथ में कुलेंट का temprecture भी बढ़ता है|

और यह और  कुलेंट के temprecture को सेन्स कर सिग्नल ecm को बेझता है और ecm रेदिअटर फेन को चला देता है और जब इंजन ठंडा हो जाता है तो इसी सेंसर की मदत से ecm फेन को बंद कर देता है 

तो थर्मोस्टेट स्विच इंजन के temprecture को ecm को बताता है ताकि ecm फेन को चला सके और इंजन के temprecture को ठीक रख सके |

थर्मोस्टेट स्विच के खराब होने से क्या समस्या आती है 

अगर थर्मोस्टेट स्विच खराब हो जाता है तो यह ecm को सिग्नल नहीं बेझ पाता जिसके कारण ecm फेन को चालु नहीं कर पायेगा जिसके कारण आपकी कार बहुत जल्दी overhit हो जाएगी और हेडगेस्किट फट जाएगा जिसके कारण आपकी कार का आधा इंजन खुल सकता है |

नए मोडल की कार में जो पेट्रोल है उनमे थर्मोस्टेट स्विच अगर खराब हो जाए तो गाडी start नहीं होती , जब थर्मोस्टेट स्विच  खराब होता है तो स्टार्टिंग बहुत हार्ड हो जाती है और थर्मोस्टेट स्विच के ग्रिप को निकालते ही गाडी जल्दी start हो जाती है | 

इसलिए जब नए मोडल की कार में स्टार्टिंग की समस्या हो तो एक बार थर्मोस्टेट स्विच को जरुर चेक करे | 

थर्मोस्टेट स्विच की  कीमत कितनी होती है 

                            car                  tharmostet vall
    alto     450
    swift     500
    verna     500
    i 20     400
    totya     450

निष्कर्ष – आशा करते है की आपको थर्मोस्टेट क्या है इसके बारे मैं पता चल गया होगा अगर आपको हमारा काम पसद आता है तो इसको शेयर जरुरु करे

जानिये कुछ सवालों के जवाब 

Q . थर्मोस्टेट वाल क्या होता है ?

ans . थर्मोस्टेट वाल गोल लोहे का होता है जिसमे स्प्रिंग लगा होता है यह कार को जल्दी से गर्म नहीं होने देता , जब कार का temprecture बढ़ जाता है और यह वाल खुल जाता है और रेडिअटर फेन को on करने में मदत करता है |

Q . थर्मोस्टेट वाल को बाहर निकालने से क्या होता है ?

ans . अगर इस वाल को बाहर निकाल दिया जाता है तो पानी का सिस्टम डाइरेक्ट हो जाता है , जिसके कारण headgaskit बार बार फटता है और माइलेज कम हो जाती है और कई बार तो इंजन के ख़त्म हो जाता है |

Q . थर्मोस्टेट वाल लगा कहाँ होता है ?

ans . यह हर कार में पानी की एल्बो के अन्दर लगा होता है जिसके पाइप रेडिअटर में लगे होते है |

Q . थर्मोस्टेट वाल कितने का आता है ?

ans . थर्मोस्टेट वाल आपको 450 रूपये में मिल जाएगा अच्छी कंपनी का |

Q . थर्मोस्टेट वाल को बाहर निकालने से माइलेज में कितना फर्क पड़ता है ?

ans . अगर petrol कार है तो एक या दो किलोमीटर अगर disel कार है तो 2 से जादा किलोमीटर में फर्क पड़ता है |

 

Leave a Comment