आज हम coolant क्या है इसके बारे में आपको बताएगे coolant का इस्तेमाल कार , बस , ट्रक आदि में किया जाता है और अब तो स्पोर्ट्स बाइक में भी coolant का इस्तेमाल किया जाने लगा है

coolant का इस्तेमाल इंजन को जंग से बचाने के लिए और cooling system को सही रखने के लिए किया जाता है coolant के इस्तेमाल से इंजन में overheat होने की समस्या नहीं होती है

वैसे तो coolant बहुत छोटा सा सब्द है और बहुत ही सस्ता है परन्तु इसके न होने से आपकी गाड़ी में बहुत से समस्या उत्पन हो सकती है गाडी का इंजन तक खराब हो सकता है

coolant इंजन को ठंडा करने का कार्य करता है जिसे इंजन का तापमान सही बना रहता है coolant अलग अलग रंग का होता है लाल , हरा , नीला आदि सबसे ज्यादा हरा coolant इस्तेमाल होता है

coolant की जगह पानी का इस्तेमाल किया जाता है परन्तु हम आपको बता दे की coolant की जगह पानी का इस्तेमाल करना बहुत नुक्सानदायक हो सकता है

एक तरफ आप 300 रूपये तो बचा लेंगे परन्तु coolant की जगह पानी के इस्तेमाल से हजारो का नुकसान होगा इसलिए गाडी में coolant का इस्तेमाल ही करे जिसे इंजन का तापमान सही रहे

coolant मुख्या रूप से रेडिएटर में डलता है और रेडिएटर से ही coolant इंजन cylinder में जाता है और इंजन को ठंडा करता है जानते है coolant के बारे में

coolant क्या है

coolant क्या है

coolant एक तरह का एथिलीन ग्लाइकोल होता है जो की पानी के solution के साथ बना होता है और coolant के साथ पानी का भी इस्तेमाल किया जाता है

जब हम गाडी को स्टार्ट करते है और इंजन कार्य करता है तो फ्यूल जलता है जिसके कारण इंजन में heat और energy उत्पन होती है और 40 % heat और energy मकेनिकल कार्य में लग जाती है

और बाकी बची 60 % heat और energy heat में बदल जाती है और यह आधी heat silencer से निकल जाती है और बाकी इंजन में ही रह जाती है और बढती रहती है

अगर यह heat अधिक बढ़ जाती है तो इंजन को पिघला सकती है इसलिए इंजन की इस heat को कम करने के लिए ही coolant का इस्तेमाल किया जाता है

coolant रेडिएटर में डलता है और वहा से वह इंजन के सभी भाग में जाता है और जब इंजन में heat पैदा होती है तो यह coolant इस heat को अपने अंदर ग्रहण करता है

और रेडिएटर फेन के माध्यम से बाहर छोड़ देता है और coolant ठंडा होकर दोबारा cylinder और इंजन के बाकी भाग में जाता है और इंजन को ठंडा करता है

इस प्रकार coolant पुरे इंजन में घूमकर इंजन के heat को कम करता है और इंजन को ठंडा रखता है जिसे इंजन कार्य करता रहता है आपने coolant के साथ anti freeze का नाम भी सुना होगा जानते है anti freeze के बारे में

coolant anti freeze क्या है

anti freeze एक तरह का केमिकल होता है जिसको पानी के साथ मिलाकर coolant की तरह इस्तेमाल किया जाता है इसलिए anti freeze को coolant नहीं कहाँ जा सकता है

परन्तु अगर इसे पानी के साथ मिलाया जाए तो इसे coolant कहाँ जा सकता है anti freeze डिस्टिल वाटर और एल्कोहल का मिश्रण होता है या फिर डिस्टिल वाटर और ग्लाइकोल का मिश्रण होता है

anti freeze का इस्तेमाल इसलिए किया जाता है की ठण्ड के दिनों में coolant इंजन के अंदर न जमे यह cylinder के अंदर coolant को जमने से रोकता है

इसलिए अगर आप 50 % anti freeze और 50 पानी का इस्तेमाल करते है तो बहुत ठंडी जगह पर भी coolant इंजन के अंदर नहीं जमता है

इसके साथ ही anti freeze coolant के boiling point को भी बढ़ा देता है देखा गया है की नार्मल पानी 100 डिग्री सेंटी ग्रेट पर उबलने लगता है

परन्तु अगर आप 50 % पानी और 50 % anti freeze का इस्तेमाल करते है तो यह 250 या 300 डिग्री सेंटी ग्रेट पर उबलता है जिसे इंजन का तापमान सही बना रहता है

इसलिए आप anti freeze या coolant का इस्तेमाल कर सकते है और इसके अलग अलग फायदे है इसलिए ध्यान रहे की आप सादे पानी का इस्तेमाल न करे

coolant के क्या फायदे है

बहुत से व्यक्ति गाडी में पानी का इस्तेमाल करते है परन्तु अगर आपको coolant के फायदे के बारे में पता चलेगा तो आप भी coolant का इस्तेमाल करने लगेगे जानते है coolant के फायदे के बारे में

(1) . इंजन के अंदर जंग लगने से रोकता है

coolant का सबसे बड़ा फायदा है की वह इंजन के अंदर जंग लगने नहीं देता है जिसे इंजन सही कार्य करता है आपने देखा होगा की जिन गाड़ी में पानी का इस्तेमाल करते है उनके रेडिएटर में आपको जंग लगा पानी देखने को मिलेगा

पानी का रंग लाल हो जाता है इसलिए अगर आप पानी की जगह coolant का इस्तेमाल करते है तो इंजन में जंग नहीं लगेगा और इंजन cylinder या head gaskit खराब नहीं होगा

(2) . इंजन को गर्म नहीं होने देता है

coolant का एक बड़ा फायदा और है यह इंजन को गर्म नहीं होने देता है क्युकी इसका boiling point बहुत ज्यादा होता है अगर आप सादे पानी का इस्तेमाल करते हो तो वह बहुत जल्दी उबलने लगेगा जिसे इंजन heat हो जाएगा परन्तु उसी जगह coolant जल्दी नहीं उबलता है जिसके कारण इंजन ठंडा रहता है

(3) . head gaskit को फटने नहीं देता है

हमने देखा है की 100 % में से 50 % गाड़ी का head gaskit पानी के इस्तेमाल करने से फटता है क्युकी पानी के इस्तेमाल से head gaskit में जंग लगने लगता है जिसे वह खराब और कमजोर हो जाता है और जब पानी अधिक heat होता है तो head फट जाता है coolant head gaskit को फटने नहीं देता है

(4) . रेडिएटर को सही रखता है

coolant का एक फायदा और है यह रेडिएटर को सही रखता है coolant के कारण रेडिएटर के अंदर के फिन्स सही रहते है रेडिएटर चोक नहीं होता है जिसके कारण इंजन का तापमान सही बना रहता है

(5) . इंजन लाइफ को बढ़ा देता है

coolant का जो सबसे बड़ा फायदा देखा गया है वह है इंजन लाइफ जो व्यक्ति शुरू से अपनी गाड़ी में coolant का इस्तेमाल कर रहा है उसकी गाड़ी की इंजन लाइफ बहुत बढ़ जाती है इंजन गर्म नहीं होता है किसी प्रकार की समस्या नहीं होती है इंजन जंग नहीं लगता है

coolant के प्रकार

अब हम आपको coolant के अलग अलग प्रकार के बारे में बताएगे आप coolant को अलग अलग रंग से जानते है और सोचते है की हरा coolant नीले से अच्छा है एसा सोचना गलत है

क्युकी कई बार एक ही रंग के coolant अलग अलग हो सकते है coolant को अलग अलग रंग इसलिए दिया है अगर इंजन से coolant लिक होता है तो रंग के कारण leakage का आसानी से पता लगाया जा सके

coolant मुख्या 3 प्रकार के होते है जिसके बारे में आपको निचे देखने को मिल जाएगा जो इस प्रकार है

(1) . Iat (Organic Additive Technology)

iat coolant का इस्तेमाल पहले किया जाता था और इसका रंग green होता था और यह बहुत जल्दी जल्दी खराब हो जाता था और इसे जल्दी बदलवाना भी पड़ता था

(2) . Oat (Organic Acid Technology)

oat coolant में anti freeze सिस्टम का इस्तेमाल होता है और इसमें organic acid के रूप में कार्बनिक अम्लो का इस्तेमाल किया जाता है और इसका रंग orange होता है

(3) . Hoat (hybrid Organic acid technology)

hoat coolant iat और oat coolant को मिलाकर बनाया जाता है और इस coolant का रंग पिला होता है और इसका इस्तेमाल ford की गाड़ी में ज्यादा किया जाता है

coolant को कब बदलना चाहिए

coolant को समय पर बदल देना बहुत जरुरी होता है जानते है coolant को कब बदल देना चाहिए

(1) . coolant की मात्रा कम होने पर

अगर आपकी गाड़ी में coolant की मात्रा कम हो गई है तो आपको coolant को बदलवा लेना चाहिए जिसे आपकी गाडी का इंजन सही रहे

(2) . coolant खराब होने पर

अगर आपकी गाडी के coolant का रंग बदल गया है या खराब हो गया है coolant की मात्रा भी कम है तो आपको coolant को बदलवा देना चाहिए

(3) . मोश्म के अनुसार

कई बार आपको coolant मोश्म के अनुसार भी बदलवा देना चाहिए जब भी मोश्म बदलता है तो coolant को बदलवा दे क्युकी कई बार मोश्म बदलने पर भी coolant खराब हो जाता है

coolant बदलने का समय coolant के बोतल पर भी लिखा होता है इसलिए एक बार coolant को बदलते समय उसकी समय की जांच कर ले

coolant बदलते समय कुछ बातो का ध्यान रखे

अगर आप coolant को बदलना चाहते है तो आपको कुछ बातो का ध्यान रखना चाहिए जो आपको निचे देखने मको मिल जाएगी

(1) . एक coolant में दुसरे coolant को न मिलाए

(2) . coolant में पानी या anti freeze को मिलाने से पहले उसकी मात्रा की जांच कर ले

(3) . पुराने coolant को पूरा निकाल ले

(4) . coolant को बदलने से पहले ध्यान रखे की इंजन पूरा ठंडा हो गया हो

(5) . coolant को बदलने से पहले coolant की बोतल पर लिखे निर्देश को अछे से पढ़ ले

coolant को बदलने से पहले उपर बताई गई सभी बातो का ध्यान रखे

निष्कर्ष

आशा करते है की आपको coolant क्या है और इसके प्रकार फायदे के बारे में जानकारी मिल गई होगी अगर आप coolant का इस्तेमाल करते है तो आपकी गाड़ी के इंजन की लाइफ डबल हो जाएगी और इंजन overheat नहीं होगा अगर आपको coolant से जुडी कोई समस्या है तो आप comment करे हम आपकी मदत करेगे

related topic

Car me Coolant kaise dale | How to change coolant step-by step

car water pump क्या है | Car water pump symptoms

जानिए कुछ सवालों के जवाब

Q . coolant को कितने किलोमीटर पर बदल देना चाहिए ?

ans . coolant को बदलने का समय coolant बोतल पर ही लिखा होता है परन्तु फिर भी आप 5 या 6 सर्विस के बाद coolant को बदलवा दे |

Q . कोंसे रंग का coolant सही होता है गाडी के लिए ?

ans . coolant को बदलवाते समय उसके रंग को न देखे coolant को चेक करे अच्छा है या खराब |