डीजल कार की माइलेज कैसे बढाये | diesel car ka mileage kaise badhaye

डीजल कार माइलेज की समस्या सभी की कार में कभी ना कभी एक बार जरुर होती है जैसा की आप जानते ही होगे की पेट्रोल और डीजल के दाम बहुत बढ़ चुके है और अगर ऐसे में आपकी कार माइलेज ना दे तो यह बहुत बड़ी समस्या है |

क्युकी आज के समय में सभी पैसे बचाना चाहते है और कार की माइलेज कम होने के कारण बार बार आपको डीजल डलवाना पड़ेगा जो बहुत जादा नुक्सान दायक होता है , खासकर तब जब डीजल का दाम बहुत अधिक जादा हो |

आज हम डीजल कार की माइलेज की समस्या के ऊपर आपको बतायेगे , क्यों होती है माइलेज कम डीजल कार की और कैसे हम डीजल कार की माइलेज को बढ़ा सकते है |

बहुत से लोगो को लगता है की सर्विस ना करवाने के कारण कार की माइलेज कम हो गयी है एसा बोल सकते है लेकिन सर्विस के अलावा भी कई कारण होते है जिसे डीजल कार की माइलेज कम हो जाती है |

डीजल कार की माइलेज कैसे बढाये | How to increase mileage of diesel car

क्यों होती है माइलेज कम डीजल कार की – why diesel cars give more mileage

आपको पता ही होगा की डीजल कार 22 या 23 की माइलेज देती है लेकिन कई कारण से एकदम से माइलेज 10 या 11 की हो जाती है और आप परेशान हो जाते हो और जब आप मिस्त्री के पास जाते हो तो वह आपको बताता है की सर्विस होगी |

लेकिन जब आप सर्विस भी करवा लेते हो कार की तब भी माइलेज कम ही रहती है कोई फर्क नहीं पड़ता और मिस्त्री आपको और कुछ न कुछ बताते रहता है  लेकिन माइलेज नहीं बढती |

माइलेज कम होने के बहुत से कारण हो सकते है जिसमे सर्विस तो है ही इसके साथ कुछ सेंसर भी होते है जिसके कारण कार की माइलेज कम हो जाती है अगर आपको इस सेंसर की अच्छी जानकारी है तो आप माइलेज आसानी से बढ़ा सकते है , जानते है माइलेज कम होने के कारण के बारे में –

1 . इंजन आयल का खराब होना

इंजन आयल का खराब होना

इंजन आयल का खराब होना माइलेज के कम होने का कारण होता है कई बार आप अपनी कार को सर्विस डेट से भी जादा चला लेते हो जिसके कारण माइलेज कम हो जाती है |

इंजन आयल के अन्दर कई प्रकार के डस्ट पार्टिकल आ जाते है जो इंजन आयल को खराब कर इंजन को तो ख़त्म करते ही है साथ में माइलेज भी कम हो जाती है |

2 . एयर फ़िल्टर का खराब होना

एयर फ़िल्टर का खराब होना

जादातर करो में माइलेज कम होने का कारण एयर फ़िल्टर होता है जब एयर फ़िल्टर खराब हो जाता है तो इंजन के अन्दर साफ़ हवा के साथ साथ मिटी के छोटे छोटे कण भी जाते है |

यह भी पढ़े  :-  air filter क्या है air filter price list bike aur car

यह मिटी के छोटे छोटे कण इंजन आयल को तो खराब करते ही है साथ ही एयर फ़िल्टर खराब होने के कारण डीजल कार की माइलेज कम हो जाती है जिसके कारण बार बार डीजल डलवाना पड़ता है |

3 . EGR वाल्व का चोक होना

EGR वाल्व का चोक होना

अगर आपकी कार की माइलेज कम है और आपकी कार के साइलेंसर से काला धुँआ निकल रहा है तो आप एक बार अपनी कार का EGR वाल्व जरुर चेक करवाए |

अगर आपकी कार के EGR वाल्व में डस्ट आ गयी होगी तो भी आपकी कार की माइलेज कम हो जायेगी और कार में डीजल की खपत बढ़ जायेगी |

4 . thermostat वाल का ना होना

thermostat वाल का ना होना

thermostat वाल का ना होना भी आपकी कार में माइलेज कम होने का कारण हो सकता है , अगर आपकी की पानी वाली एल्बो में thermostat वाल नहीं है तो आपकी कार की माइलेज कभी सही नहीं हो पाएगी |

यह भी पढ़े :- car dashboard signs | dashboard signs and meaning in hindi

क्युकी जब थर्मोस्टेट वाल कार में नहीं होता तो कार गर्म नहीं होती जल्दी से और जिसे कार की डीजल की खपत जादा होती है क्युकी ECM को लगता है कार अभी ठंडी है और इंजेक्टर को फ्यूल सप्लाई करता रहता है और माइलेज कम हो जाती है |

ये वो कारण थे जो जादातर करो में देखे जाते है माइलेज कम होने के लेकिन अगर आप यह सब ठीक करवा चुके है और आप थक चुके है तो अब हम आपको दो एसे कारण बतायेगे जिसे आपकी कार की माइलेज एकदम से सही हो जायेगी जेसे नयी कार की थी जानिये 

माइलेज कम होने के दो बड़े कारण 

1 . क्रैंक सेंसर में डस्ट का लगा होना

क्रैंक सेंसर में डस्ट का लगा होना

क्रैंक सेंसर में डस्ट का लगे होना सबसे बड़ा कारण होता है डीजल कार की माइलेज कम होने का  , अगर आपके कार के क्रैंक सेंसर के ऊपर डस्ट या कोई लोहे का कण चिपक जाता है तो माइलेज कम हो जाती है |

जब क्रैंक सेंसर के ऊपर डस्ट या कोई लोहे का कण चिपक जाता है तो कार में मिसिंग या आइडलिंग की समस्या होने लगती है और जब ECM को लगता है की इंजन के अन्दर मिसिंग या आइडलिंग की समस्या है |

तो ECM उसी समय डीजल की सप्लाई को बढ़ा देता है और इंजेक्टर को जादा से जादा डीजल देता है जिसे इंजन मिसिंग ना करे और कार भी ठीक चले लेकिन कार तो ठीक चलती है लेकिन डीजल कार की माइलेज कम हो जाती है |

इसलिए याद रखे अगर आपकी कार के क्रैंक सेंसर के ऊपर डस्ट या लोहे का कोई भी पार्टिकल लगा होगा तो आपकी कार की माइलेज कम हो जायेगी |

2 . MAP सेंसर का चोक होना

map सेंसर एक एसा सेंसर है जिसके ऊपर कोई भी जादा ध्यान नहीं देता लेकिन डीजल कार में माइलेज कम होने का सबसे बड़ा कारण map सेंसर का चोक होना ही होता है |

map सेंसर मेनिफोल्ड में लगा होता है यह थ्री वायर का सेंसर होता है जब भी आपकी कार की माइलेज कम होती है तो आप सब कुछ चेक करवा लेते हो लेकिन यह सेंसर बहुत कम लोग चेक करते है |

जिन लोगो को इस सेंसर के वर्किंग के बारे में पता होता है वह माइलेज कम होने बार यह सेंसर जरुर चेक करते है अगर इस सेंसर में डस्ट जमा हो जाती है तो आपकी कार की माइलेज कम हो जाती है |

इसलिए अगर आपको लगता है की आपकी डीजल कार की माइलेज कम है तो आप एक बार यह सेंसर जरुर चेक करवाए |

क्रैंक सेंसर और map सेंसर कहाँ लगे होते है 

1 . क्रैंक सेंसर

यह सेंसर जादातर कारो में फ्लाई व्हील के ऊपर उचित माप पर लगा होता है और क्रैंक शाफ़्ट और फ्लाई व्हील की बीच की दुरी फिक्स होती है अगर क्रैंक सेंसर और फ्लाई व्हील की बीच की दुरी में अंतर आ जाता है ,कुछ कार में क्रैंक सेंसर आगे क्रैंक पुली के निचे लगा होता है |

तो कार की स्टार्टिंग में problem हो जाती है या फिर कार स्टार्ट ही नही होती और यह कारण भी होता है डीजल कार की माइलेज कम होने का |

2 . map सेंसर

यह सेंसर मेनिफोल्ड में लगा होता है इस सेंसर के अन्दर एक छेद होता है अगर इस छेद में डस्ट जमा हो जाती है तो यह सेंसर अच्छे से काम करना बंद कर देता है जिसके कारण यह माइलेज भी कम कर देती है साथ में आइडलिंग की समस्या भी हो जाती है |

इस सेंसर में स्टार वाला बोल्ड लगा होता है जो मेनिफोल्ड में टाईट होता है , और जब भी इस सेंसर को साफ़ करे तो पेट्रोल या सेंसर साफ़ करने वाले लिकविड से ही करे |

माइलेज कैसे बढाए डीजल कार की 

अगर आप सोच रहे है की डीजल कार की माइलेज बढ़ाना मुस्किल है तो आप गलत है , हमने आपको माइलेज कम होने के कारण बताये है अब हम आपको बतायेगे की आपको माइलेज बढाने के लिए क्या करना है |

अगर आप एसा करते है तो आप अपनी डीजल कार की माइलेज 11 से 24 या 25 आसानी से ला सकते हो , हमने माइलेज के काम को तीन पार्ट में बाट दिया है पहला है , सर्विस , EGR वाल्व और सेंसर |

अगर आप इन तीनो चीजो पर ध्यान देते है तो माइलेज बढ़ाना बहुत आसान है जानिये क्या करना है –

1 . सर्विस में क्या करे

अगर आपकी डीजल कार की माइलेज कम है तो आपको सबसे पहले सर्विस करवानी है , सर्विस में आपने सभी फ़िल्टर और इंजन आयल बदलवाना है

इंजन आयल आपने कैस्ट्रोल या मोबिल का फुल्ली शेनथेटिक 5 W 40 या 15 W 40 डलवाना है , इसके अलावा आपने ओरिजनल आयल फ़िल्टर , एयर फ़िल्टर , डीजल फ़िल्टर , कुलेंट , AC फ़िल्टर सभी बदल देने है , और कार को स्टार्ट करनी है |

कार स्टार्ट करने के बाद अगर माइलेज ठीक हो जाती है तो ठीक है नहीं आपको सेकंड स्टेप EGR वाल्व चेक करना है , अगर आपने सर्विस पहले से ही करवा रखी है तो आपको EGR वाल्व को चेक करना है |

2 . EGR वाल्व क्लीन

माइलेज कम होने का दूसरा और बड़ा कारण होता है EGR वाल्व का चोक होना अगर आपने सर्विस करवा ली है और उसके बाद भी माइलेज में कोई फर्क नहीं है तो आपको EGR वाल्व को क्लीन करना पड़ेगा |

अगर आपकी कार का EGR वाल्व चोक होगा तो आपकी कार के साइलेंसर से कला धुआ निकलेगा जिसे आपको अंदाजा लग जाएगा की EGR वाल्व चोक है और साफ़ करवाना पड़ेगा |

इसलिए यह दूसरा स्टेप है माइलेज बढाने का EGR वाल्व को साफ़ करे लेकिन अगर आपकी कार की सर्विस भी हो चुकी है और EGR वाल्व भी साफ़ है और फिर भी माइलेज कम है |

तो आपको तीसरा स्टेप पर काम करना है वह है सेंसर में डस्ट का होना |

3 . क्रैंक सेंसर और map सेंसर को साफ़ करे

अगर आपने अपनी कार की सर्विस भी करवा ली है और EGR वाल्व भी साफ़ है और फिर भी माइलेज बहुत कम है तो आपको कुछ नहीं करना है आपको सिर्फ दो सेंसर को खोलना है |

क्रैंक सेंसर और map सेंसर , सबसे पहले आपको क्रैंक सेंसर को खोलना है और उसके उपर चेक करना है कोई लोहे का पार्टिकल ना चिपका हो सेंसर को अच्छे से कपडे के साथ साफ़ करके लगा देना है |

उसके बाद आपको मेनिफोल्ड  के ऊपर लगे map सेंसर को खोलना है और चेक करना है की वह सेंसर डस्ट से बंद तो नहीं अगर map सेंसर चोक हुआ तो 100 % माइलेज कम होने का कारण map सेंसर ही होगा |

इसलिए map सेंसर को पेट्रोल के साथ साफ़ करे और वापिस लगा दे और कार स्टार्ट करे और 5 या 6 किलोमीटर चला कर डीजल कार की माइलेज चेक करे माइलेज बढ जायेगी |

सेंसर चोक होने के कारण कैसे होती है माइलेज कम 

क्रैंक सेंसर कार को स्टार्ट करने में मदत करता है अगर क्रैंक सेंसर में थोड़ी भी समस्या आती है तो कार स्टार्ट नहीं होती , क्रैंक सेंसर पिस्टन की टाइमिंग को मापता है और ECM को सिगनल भेजता है |

ECM को सिगनल मिलने के बाद ECM इंजेक्टर को फ्यूल की सप्लाई देता है जिसे इंजन स्टार्ट होता है लेकिन जब क्रैंक सेंसर के ऊपर डस्ट आ जाती है तो कार में स्टार्टिंग की समस्या और मिसिंग की समस्या होती है |

और इस स्टार्टिंग और मिसिंग की समस्या को दूर करने के लिए ECM इंजेक्टर को जादा से जादा फ्यूल की सप्लाई देता है ताकि इंजन सही काम करे और मिसिंग ना करे |

और ECM जब जादा फ्यूल इंजेक्टर को सप्लाई करेगा तो माइलेज तो कम होगी ही इसलिए जब भी आपकी डीजल कार की माइलेज कम हो तो आप एक बार क्रैंक सेंसर और map सेंसर को जरुर चेक करे |

और दोनों सेंसर को अच्छे से साफ़ करे और लगा दे आपके माइलेज की समस्या समाप्त हो जायेगी |

आवश्यक सुचना 

जब भी आप डीजल कार की सर्विस करते हो तो आप सभी फ़िल्टर को अच्छी कंपनी का डाले और इंजन आयल शेनथेटिक ही डाले और अगर आप स्विफ्ट की सर्विस करवा रहे है तो क्रैंक सेंसर और map सेंसर जरुर साफ़ करवाए |

अगर आप सर्विस के साथ ये दोनों सेंसर साफ़ करवाते है तो माइलेज तो बढ़ेगी ही साथ में कार में PICKUP भी बहुत अच्छी हो जायेगी कार चलने में भी बहुत अच्छी हो जायेगी , सेंसर जरुर साफ़ करवाए |

जब आप अपनी डीजल कार की सर्विस , egr वाल्व , क्रैंक और map सेंसर साफ़ करवा लेते हो तो उसके बाद avg मीटर को जरुँर रिसेट करे तभी आपको सही माइलेज का पता चल पायेगा | 

अच्छी माइलेज के टिप्स 

हमने आपको ये तो बता दिया है की माइलेज कम क्यों होती है और केसे हम आसान तरीको से सिर्फ दो सेंसर को साफ़ करके माइलेज बढ़ा सकते है लेकिन आप और भी कई तरीको से माइलेज को बढ़ा सकते है जानिये केसे –

1 . एक ही रेस पर कार चला कर 

इसका मतलब साफ है जब हम कोई गाडी चलाते है तो कभी कभी हम बहुत स्पीड चलाते है और कभी कभी आराम से चलाने लगते है गाडी इसे आपकी फ्यूल की खपत बढ जाती है , अगर आप कोई भी कार चलाते है तो याद रखे की एक ही स्पीड में कार चलाने की कोशिस करे स्पीड कम जादा ना करे | 

2 . AC का इस्तेमाल सही तरीके से करके 

सभी जानते है की जब भी कार में ac ओन किया जाता है तो माइलेज कम होती है और इंजन की पॉवर भी हलकी सी कम होती है लेकिन अगर आप सही तरीके से ac का इस्तेमाल करे तो आपको ac पर माइलेज कम की समस्या नहीं होगी |

आप जब कार स्टार्ट करते हो और लेकर चलते हो तो आप 5 मिनट ac ओन कर लो और अपनी कार को ठंडी कर लो और ac बंद कर दो और ड्राइव करते रहो और जब आपको लगता है की कुलिंग कम हो गयी है तो ac ओन कर लो फिर कुलिंग होने पर ac बंद कर दो | 

3 . भीड़ भाड़ वाले रास्ते पर ना जाये 

सबसे जादा माइलेज कम भीड़ भाड़ वाली जगह पर होती है जब आप अपनी कार को लेकर किसी भीड़ भाड़ वाली जगह पर जाते है तो बहुत जादा क्लच और गियर का इस्तेमाल होता है कार बार बार रोकनी पड़ती है जिसे फ्यूल की खपत बढ जाती है |

इसलिए आप जादा से जादा कोशिस करे की आप एसा रास्ता चुने की जिसमे आपकी कार भी आसानी से चली जाए और आपको कार जादा रोकनी भी ना पड़े और क्लच और गियर का इस्तेमाल भी कम हो | 

4 . रेड सिग्नल का पालन करके 

आज के समय में सभी को जल्दी है और हर काम समय पर ही करना चाहते है रेड सिग्नल पर आप कार को चालू रखते है जिसके कारण माइलेज में बहुत फर्क पड़ता है |

अगर आप हर रेड सिग्नल पर कार बंद कर देते है तो आप एक दिन में कम से कम 1 किलोमीटर तक चलने का फ्यूल बचा लेगे यह आपके लिए बहुत फायदेमंद होगा | 

अगर आप अपनी कार की अच्छी माइलेज चाहते है तो आपको समय पर अपनी कार की सर्विस करवानी पड़ेगी और इसके साथ साथ आपको ट्रेफिक नियम और भी कई टिप्स का पालन करना पड़ेगा , और क्रैंक और map सेंसर साफ़ 

जानिये माइलेज से जुड़े डीजल कार की माइलेज कैसे बढायेकुछ सवालों के जवाब 

Q . क्यों होती है डीजल कार की माइलेज कम ?

ans . अगर आप समय पर सर्विस नहीं करवाते तो माइलेज कम होती है लेकिन अगर क्रैंक सेंसर और map सेंसर के ऊपर डस्ट होती है तो भी आपकी डीजल कार की माइलेज कम हो जाती है |

Q . कितने किलोमीटर पर डीजल कार की सर्विस करवाए ?

ans . आपको डीजल कार की सर्विस 10000 किलोमीटर पर करवानी चाहिए |

Q . egr वाल्व को कितने किलोमीटर पर क्लीन करवाए ?

ans . आपको egr वाल्व 1,00,000 किलोमीटर पर साफ़ करवाना चाहिए जब आपकी डीजल कार का egr साफ़ होना होता है तो साइलेंसर से काला धुआ निकलता है |

Q . कोनसा इंजन आयल डीजल कार में डलवाना चाहिए ?

ans . आपको डीजल कार में मोबिल 5 w 40 शेनथेटिक या कैस्ट्रोल का फुल्ली शेनथेटिक डीजल इंजन आयल डलवाना चाहिए |

Leave a Comment