अधिकतर लोगो के पास कार है और उन्हें check engine light के बारे में पता होता है यह क्या है इसलिए आज हम top reasons check  light comes on के बारे में बात करेगे | 

कार छोटी हो या बड़ी सभी कंपनी ने डैशबोर्ड में check light का सिस्टम दिया है ताकि इंजन में कोई भी समस्या हो तो अंदर कार चला रहे व्यक्ति को पता चल जाए जिसे वो कार को रोक दे | 

यह एक वार्निंग लाइट के रूप में कार्य करती है यह check light सिर्फ सेंसर से जुडी समस्या होने पर ही ऑन होती है अगर किसी भी सेंसर की वायर टूट जाती है या सेंसर ही खराब होता है तो डैशबोर्ड में check light ऑन हो जाती है | 

check light जब show या ब्लिंक करती है उस समय कार के किसी sensor में प्रोब्लम हो गई हो या कोई sensor काम नहीं कर रहा हो जिसके कारण यह डैशबोर्ड में आती है | 

TOP REASONS CHECK ENGINE LIGHT COMES ON IN HINDI

कार के मीटर में check engine light क्यों आती है 

मान लीजिए आपके पास diesel कार है ओर उसका air mass sensor काम नहीं कर रहा है या कोई वायर टूट गया हो तो air mass sensor वायर टूटी या sensor खराब होने की वजह से (ECM) को signal नहीं भेज पाएगा |

जिसे (ECM) check light on कर देता है इसी तरह कोई भी sensor खराब हो तो check light on होती है | 

अब आप सोचेगे ECM क्या है ?

ecm का पूरा नाम( engine cantor module ) यह कार के हर sensor को control  करता है सभी sensor से signal ecm में ही आता है और यह आगे signal को भेजता है | 

इसलिए अगर किसी sensor में प्रोब्लम होती हैं तो ecm तक उस sensor का signal नहीं आता और ecm check light show करके हमें बताता है  की कार के किसी sensor में प्रोब्लम हो गई है |

check light भी दो तरीके से ऑन होती है 

1 . तरीका 

चेक इंजन लाइट जब show या ब्लिंक करती है तो कार में उसी वक़्त प्रोब्लम होनी शुरू हो जाती है और आप कार को चला भी नहीं सकते है कार बंद हो जाती है | 

2 . तरीका

चेक इंजन लाइट के show या ब्लिंक करने के बाद भी आपकी कार नार्मल चलती है कोई प्रोब्लम भी नहीं होती सभी sensor भी अच्छे से काम कर रहे होते है

check engine light इन दोनों तरीको से आती है पर इसको चेक करना जरुरी होता है | 

check light on problem क्या है 

check light के ऑन होने के बाद हमें दो प्रकार से कार देखने को मिलती है एक में समस्या शुरू हो जाती है और एक में check light ऑन होने के बाद भी कोई समस्या नहीं आती है जानते है दोनों के बारे में 

1 . NO IMMEDIATE PROBLEM 

check engine light on होने पर सबसे पहले NO IMMEDIATE PROBLEM के बारे में बात करते है |

.  कार नार्मल चलती है

जब check light on होती है तो कार में किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं होती है कार बिलकुल नार्मल चलती है pickup सही होती है आपको कार चलाने में भी अच्छा लगता है पर check light on रहती है | 

.  किसी प्रकार का कोई साउंड नहीं

check engine light on होने के बाद भी कार में किसी भी तरह का कोई भी अलग साउंड का ना सुना इंजन का सही कार्य करना check light on होने पर भी किसी प्रकार का साउंड न आना कार से | 

.  साइलेंसर से किसी प्रकार का धुआं ना निकलना

 check light on होने के बाद भी साइलेंसर से कोई smoke नहीं निकलता आप जितना चाहे कार को चलाए पर किसी भी प्रकार का धुंआ साइलेंसर से नहीं निकलता है | 

.  इंजन से कोई स्मेल नहीं आती

 check light on होने के बाद भी कार के इंजन में से किसी तरह की कोई smell नहीं आती है कार नार्मल चलती रहती है किसी प्रकार की कोई भी जलने या घिसने की स्मेल नहीं आती है | 

.  माइलेज कम नहीं होती है 

चेक इंजन लाइट on होने पर भी आपकी कार बिलकुल सही mileage देती है कोई फर्क नहीं पड़ता mileage में |

ये है NO IMMEDIATE PROBLEM जो कार के check light on होने के बाद भी नहीं होती कार नार्मल ही चलती है और आप जब मर्जी चेक करा सकते है की check light on क्यों हुई | 

और पढ़े-P0089 pickup drop and engine stop reason

2 . IMMEDIATE PROBLEM 

चेक इंजन लाइट on होने के बाद IMMEDIATE होने वाली PROBLEM के बारे में बात करते है

.  इंजन से साउंड आता है 

इसका मतलब है check light on होने पर engine compartment में से लगातार आवाज आना इंजन का missing करना race न पकड़ना कार का noise का रुक रुक कर आना |

.  साइलेंसर से धुआं निकलता है 

यह सबसे बड़ी प्रॉब्लम होती है जो चेक इंजन लाइट on होने के बाद होती है इस प्रोब्लम में सिलेंसर से smoke निकलता है और कार की pickup डाउन हो जाती हैं और साथ ही check light on हो जाती है | 

.  माइलेज कम हो जाती है 

चेक इंजन लाइट on होने के बाद एकदम से कार की mileage में प्रोब्लम होती है कार बिलकुल भी mileage नहीं देती check engine light on होने के बाद |

.  कार स्टार्ट नहीं होती है 

एक बड़ी प्रोबलम जो चेक इंजन light on होने के बाद आती है तो वह प्रॉब्लम है starting की कई बार check light on होते ही कार स्टार्ट नहीं होती सिर्फ सेल्फ लेती रहती है |

ये थी IMMEDIATE PROBLEM जो check engine light on होने के बाद एकदम से ये प्रोब्लम हो जाती है

ध्यान देने वाली बात 

हमने आपको check light on होने के बाद NO IMMEDIATE PROBLEM , IMMEDIATE PROBLEM के बारे में बताया है |

हम यही कहेगे की जब भी आपकी कार में check light आए तो सबसे पहले यह चेक करे की यह लाइट red color की है या yellow  ब्लिंक कर रही है या नहीं |

अगर check engine red है और ब्लिंक भी कर रही है तो कार को ना चलाए कार को scan करवाए और प्रोब्लम का पता करे और जब check light बंद हो जाए तभी कार चलाए |

लेकिन कई बार check engine show होती है पर कार के चलने में कोई प्रोब्लम नहीं होती लेकिन आपको कार में scanner लगवाना इसमें भी पड़ेगा बस आप कार चला सकते है जिसे आप कार मकेनिक तक ले जा सके

किन सेंसर के खराब होने के बाद check light on होती है 

.  crank sensor खराब होने के कारण 

.  camshaft sensor खराब होने के कारण 

.  air maas sensor खराब होने के कारण 

.  map sensor खराब होने के कारण 

.  knock sensor खराब होने के कारण 

.  fuel rail sensor खराब होने के कारण 

निष्कर्ष

आशा करते है की आपको check engine light comes on in hindi के बारे में पता चल गया होगा अगर आपको सेंसर से जुडी कोई समस्या है तो आप कमेंट कर सकते है जिसे हम आपकी मदत कर सके | 

related topic 

कार ac कंप्रेसर ट्रिप क्यों मारता है | 6 car ac compressure problem

पेट्रोल कार में डीजल डल जाए तो क्या होगा 2022 | पेट्रोल टैंक से डीजल साफ करे easy step से

जानिए कुछ सवालों के जवाब 

Q . इंजन के पार्ट खराब होने पर check light ऑन होती है ?

ans . नहीं अगर इंजन का कोई पार्ट खराब होता है तो check light ऑन नहीं होती है सिर्फ सेंसर खराब होने पर ही check light on होती है |

Q . check light ऑन होने पर क्या करना चाहिए ?

ans . check light आने पर आपको सबसे पहले कार को स्कैन करवाना चाहिए और फाल्ट के अनुसार कार को ठीक करवाना चाहिए |

Categorized in: