अगर आपको फेफड़ो की समस्या है तो आप R57 homeopathic medicine का इस्तेमाल करे अगर आपको सालो से अस्थमा की समस्या है जिसके कारण फेफड़े खराब हो रहे है तो R57 medicine का सेवन करे

इसके साथ ही R57 medicine दिमाग , लीवर के function को बढ़ाती है अगर हमारे शरीर के अंग सही से function नहीं करते है तो हमे R57 medicine का सेवन करना चाहिए

आज हम आपको फेफड़ो के रोग के लिए जर्मन होम्योपैथिक मेडिसिन R57 homeopathic medicine के बारे में जानकारी देंगे जो इस प्रकार है

R57 medicine क्या है – What is R57 medicine in hindi

R57 medicine जर्मन की एक homeopathic medicine है जो Dr.reckeweg की medicine है और फेफड़ो के रोग के लिए R57 medicine लाभकारी है R57 medicine को scorosan pulmonary tonic के नाम से भी जाना जाता है इसका प्राइस 242 रूपये है

R57 medicine के अंदर बहुत सी homeopathic medicine मिली हुई है जैसे Arsenicum Iodatum , calcarea carbonica , Lycopodium clavatum , Silicea , Teucrium . इन सभी medicine के बारे में निचे देखने को मिल जाएगा

R57 medicine का इस्तेमाल कैसे करे – R57 homeopathic medicine uses hindi

R57 medicine कई समस्या में दी जाने वाली मेडिसिन है इसलिए R57 medicine का इस्तेमाल उम्र , लिंग , कोई नई या पुरानी बिमारी को ध्यान में रखकर डॉक्टर की सलाह के अनुसार किया जाता है

R57 medicine के सेवन के लिए आपको एक चोथाई कप गुनगुना पानी लेना है और उसमे R57 medicine की 10 से 15 बुँदे उसमे डालनी है और सेवन करना है आपको R57 medicine को दिन में 2 बार लेना है

एक बात का ध्यान रखे की R57 medicine की खाना खाने से आधे घंटे पहले ले खाली पेट में और R57 medicine का इस्तेमाल लगातार 2 से 3 महीने करे

(1) . R57 medicine का सेवन करे

बिमारीफेफड़ो के रोग
मात्रा10 से 15 बुँदे एक समय में
दिन में कितनी बारदिन में 2 बार
खाना खाने के बाद या पहलेखाना खाने से आधे घंटे पहले खाली पेट ले
किसके साथ लेएक चोथाई कप गुनगुने पानी के साथ
सलाहडॉक्टर की सलाह ले
R57 medicine को लेने से पहले डॉक्टर की सलाह जरुर ले

R57 medicine के फायदे – Benefits of R57 medicine in hindi

R57 medicine के फायदे आपको निचे देखने को मिल जाएगे

(1) . फेफड़ो के रोग के लिए लाभकारी है

अगर आपको फेफड़े का कोई रोग है जिसके कारण फेफड़े सही से कार्य नहीं करते है तो उसके लिए R57 medicine बहुत लाभकारी है

(2) . दिमाग के function के लिए लाभकारी है

R57 medicine दिमाग के लिए भी बहुत ज्यादा लाभकारी होती है R57 medicine दिमाग के function को अच्छा करती है

(3) . लीवर function के लिए लाभकारी है

लीवर के लिए भी R57 medicine बहुत लाभकारी है क्युकी R57 medicine लीवर के function को बढ़ा देती है अगर आपका लीवर function कमजोर है तो R57 medicine का सेवन कर सकते है

यह सभी R57 medicine के मुख्या लाभ है

R57 medicine के दुष्प्रभाव – Side effects of R57 medicine in hindi

R57 medicine के आपको कुछ सामान्य दुष्प्रभाव देखने को मिल सकते है जो इस प्रकार है

(1) . उलटी हो सकती है

अगर आप ज्यादा मात्रा या गलत तारीके से R57 medicine का सेवन करते है तो आपको उलटी की समस्या हो सकती है जो जल्दी ठीक हो जाती है

(2) . दस्त की समस्या हो सकती है

देखा गया है की अगर R57 medicine का गलत मात्रा में सेवन करते है तो दस्त की समस्या उत्पन होती है परन्तु जरुरी नही है की सभी व्यक्ति में इसके दुष्प्रभाव हो

(3) . पेट दर्द की समस्या हो सकती है

आपको R57 medicine के सेवन से पेट में दर्द की समस्या हो सकती है अगर एसा होता है तो R57 medicine का सेवन कुछ समय न करे

अगर आपको कोई भी दुष्प्रभाव होता है तो R57 medicine को कुछ समय के लिए न ले और डॉक्टर की सलाह ले

R57 medicine की सावधानियाँ – Precautions of R57 medicine in hindi

Dr.reckeweg R57 medicine को लेने से पहले आपको कुछ बातो का ध्यान रखना चाहिए जो इस प्रकार है

(1) . डॉक्टर की सलाह ले

अगर आपको फेफड़े में समस्या है अस्थमा है तो आप पहले डॉक्टर के पास जाए उसके बाद ही R57 medicine का सेवन करे

(2) . शराब का सेवन न करे

अगर आप R57 medicine का सेवन कर रहे है या करना चाहते है तो आपको शराब का सेवन नहीं करना है इसे medicine का असर कम हो सकता है

(3) . चाय कॉफ़ी का सेवन न करे

R57 medicine के सेवन के आधे या एक घंटे पहले या बाद में आपको चाय कॉफ़ी का सेवन नहीं करना है इसे R57 medicine का असर कम हो सकता है

(4) . मांस का सेवन न करे

कुछ लोगो को मांस का सेवन करना अच्छा लगता है परन्तु अगर आप R57 medicine का सेवन कर रहे है तो आपको मांस का सेवन नहीं करना है या बहुत कम मात्रा में सेवन करना है

(5) . मेडिसिन को लेने से पहले मुहँ को साफ़ रखे

जब भी आप R57 medicine का सेवन करे तो उसे पहले या बाद में आपको प्याज जैसे खाद्य प्रद्राथ का सेवन न करे इसे मुहँ में बदबू आती है इसलिए R57 medicine को लेने से पहले मुहँ को साफ़ रखे

(6) . exp date को जरुर चेक करे

जब भी R57 medicine को लेने के लिए जाए तो आप उसकी exp date को जरुर चेक करे उसके बाद ही R57 medicine को ले

अगर आप R57 medicine का सेवन कर रहे है तो आपको उपर बताई गई बातों का ध्यान रखना है

R57 medicine की सामग्री – Ingredients of R57 medicine in hindi

R57 medicine के अंदर कुछ homeopathic medicine मिली हुई है जिसके बारे में आपको निचे देखने को मिल जाएगा जो इस प्रकार है

(1) . आर्सेनिक आयोडेटम (Arsenicum Iodatum)

आर्सेनिक आयोडेटम एक टोनिक के रूप में कार्य करती है यह हमारे लंग्स के लिए और हमारे लीवर के लिए बहुत ही ज्यादा लाभकारी मेडिसिन है

(2) . कैल्केरिया कार्बोनिका (calcarea carbonica)

अगर आपके फेफड़ो में समस्या है लबे समय से अस्थमा की समस्या है जिसके कारण फेफड़े का हिसा डैमेज हो जाता है तो उसके लिए कैल्केरिया कार्बोनिका बहुत लाभकारी है

(3) . लाइकोपोडियम क्लेवेटम (Lycopodium clavatum)

अगर आप सही से सांस नहीं ले पाते हो तेज सांस लेना पड़ता है ऑक्सीजन शरीर के अंदर सही से नहीं जा पाती है तो इस समस्या के लिए लाइकोपोडियम क्लेवेटम बहुत अच्छा असर करती है

(4) . सिलेसिया (Silicea)

अगर फेफड़ो में समस्या हो गई है फेफड़े सही प्रकार से कार्य नहीं कर रहे है तो उसके लिए सिलेसिया अच्छा फायदा करती है साथ ही सिलेसिया फेफड़े के function को सही करती है

(5) . टियूक्रियम (Teucrium)

फेफड़ो में अगर ट्यूमर की समस्या है और लंग्स कमजोर पड़ गए है तो उसके लिए टियूक्रियम बहुत लाभकारी मेडिसिन है

यह सभी homeopathic medicine R57 medicine में मिली हुई है जिसके कारण R57 medicine का असर अच्छा हो जाता है और हमे ज्यादा फायदा मिलता है

निचे दी गई बीमारियों में R57 medicine न ले – Do not use R57 medicine in these diseases in hindi

निचे बताई गई बिमारी में R57 medicine का सेवन न करे

(1) . हृदय रोग में सेवन न करे

(2) . गुर्दे की बिमारी में सेवन न करे

(3) . केल्शियम की कमी होने पर सेवन न करे

(4) . हाइपरक्लेमिया की समस्या होने पर सेवन न करे

R57 medicine को कैसे रखे – How to store R57 medicine in hindi

R57 medicine को आप सामान्य तापमान में आसानी से रख सकते है आप R57 medicine को अपने कमरे के सामान्य तापमान में रख सकते है

बस आपको एक बात का ध्यान रखना है की आपको R57 medicine को ज्यादा गर्म व ज्यादा ठंडी जगह से दूर रखना है इसे medicine का असर कम हो सकता है

निष्कर्ष

आशा करते है की आपको R57 homeopathic medicine के बारे में पता चल गया होगा और अब आपको इसे जुडी कोई समस्या नहीं होगी फेफड़ो की समस्या के लिए R57 medicine बहुत लाभकारी है परन्तु इसे लेने से पहले आप डॉक्टर के पास जाए और जांच करवाए उसके बाद ही R57 medicine को ले

related topic

दमा क्या है कारण लक्ष्ण उपचार और औषधियां

एस्बेस्टॉसिस रोग क्या है – Asbestosis in Hindi

जानिए कुछ सवालों के जवाब

Q . R57 homeopathic medicine का इस्तेमाल कितने दिनों तक करना चाहिए ?

ans . R57 medicine को आपको लगातार 2 से 3 महीने इस्तेमाल करना है तभी आपको अच्छा फायदा होगा |

Q . क्या R57 homeopathic medicine का इस्तेमाल प्रेगनेंसी के दोरान कर सकते है ?

ans . प्रेगनेंसी के दोरान R57 medicine का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह ले |

डिस्क्लेमर – जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर प्रकार से प्रयाश  किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी thedkz.com की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है