R48 homeopathic medicine का मुख्या इस्तेमाल टी.बी की समस्या को ठीक करने के लिए किया जाता है इसलिए अगर आपको टी.बी के लक्ष्ण दिखाई दे या टी.बी है तो R48 medicine ले सकते है

टी.बी की की बिमारी एक बेटिरियल इन्फेक्शन बीमारी है जो एक से दुसरे में फेलने वाली बिमारी है इसलिए इसका इलाज समय पर होना बहुत जरुरी है टी.बी अलग अलग तरह की होती है और अलग अलग अंगो में होती है

टी.बी मुख्या रूप से हमारे फेफड़ो को प्रभावी करता है और अगर इसके कारण की बात की जाए तो जिनकी रोग प्रतिरोधक शमता कम हो जाती है उनको यह समस्या हो सकती है

टी.बी Mycobacterium tuberculoses के कारण होता है inactive टी.बी में यह बेक्टीरिया आपके शरीर के अंदर जाते है परन्तु अगर आपका इम्यून सिस्टम मजबूत होता है

तो यह आपके शरीर में नहीं फैलते है रुका रहता है आपको कोई लक्ष्ण दिखाई नहीं देते है इसे हम इनएक्टिव टी.बी कहते है और एक्टिव टी.बी में यह बैक्टीरिया आपके शरीर में जाते है

और इम्यून सिस्टम अगर कमजोर होता है तो यह फेलने लग जाते है और फेफड़ो को प्रभावी करते है इसे हम एक्टिव टी.बी कहते है इसके टेस्ट करवाने पर सभी रिपोर्ट पॉजिटिव दिखाई देगी

इसके लिए आप सबसे पहले डॉक्टर से जांच करवाए homeopathic में टी.बी की समस्या के लिए बहुत सी medicine है उसमे से एक है R48 homeopathic medicine जिसके बारे में आपको निचे देखने को मिल जाएगा जो इस प्रकार है

R48 medicine क्या है – what is R48 homeopathic medicine in hindi

R48 medicine टी.बी की समस्या के लिए बहुत ही अछि मेडिसिन है और यह जर्मन में बनाई जाती है यह Dr.reckeweg का एक ब्रांड है R48 medicine को Pulmosol – Pulmonary diseases के नाम से भी जाना जाता है R48 medicine का प्राइस 239 है

R48 medicine के अंदर अलग अलग homeopathic medicine मिली हुई है जैसे Phophorus , Bryonia album , Ferrum phophoricum , Kali carbonicum , Lycopodium clavatum , Acidum Picricum , Sepia , silicea . इन सभी medicine के बारे में निचे देखने को मिल जाएगा

R48 medicine का इस्तेमाल कैसे करे – R48 homeopathic medicine uses in Hindi

R48 medicine का इस्तेमाल उम्र , लिंग , कोई नई या पुरानी बिमारी को ध्यान में रखकर डॉक्टर की सलाह के अनुसार किया जाता है ताकि आने वाले समय में आपको कोई समस्या न हो

एक बात को ध्यान रखे जब भी R48 medicine को लेने के लिए जाए तो अपनी सही उम्र , लक्ष्ण , कोई नई या पुराने बिमारी के बारे में सही और पूरी जानकारी दे इसे आपको ही फायदा होगा

R48 medicine को लेने के लिए आपको एक चोथाई कप गुनगुना पानी लेना है और उसमे R48 medicine की 10 से 15 बूंदों को डालना है और उसका सेवन करना है

आपको R48 medicine को दिन में 3 बार लेना है सुबह दोपहर और शाम और हर बार में आपको 10 से 15 बूंदों का ही सेवन करना है

आपको R48 medicine को हमेशा ही खाना खाने के आधे या एक घंटे पहले ही लेना है इसे R48 medicine का ज्यादा असर होता है और डॉक्टर की सलाह जरुर ले

समस्या के अनुसार R48 medicine की डोस को कम ज्यादा किया जा सकता है परन्तु शुरू में आप इसे कम मात्रा में ले और धीरे धीरे डोस को बढ़ा दे

(1) . R48 medicine का सेवन करे

बिमारीटी.बी , अस्थमा
मात्रा10 से 15 ड्राप एक समय में
दिन में कितनी बारदिन में 3 बार सुबह दोपहर और शाम
खाना खाने के बाद या पहलेखाना खाने से आधे या एक घंटा पहले ले
किसके साथ लेएक चोथाई कप गुनगुने पानी के साथ
सलाहडॉक्टर की सलाह अनिवार्य है
डॉक्टर की सलाह जरुर ले

R48 medicine के फायदे – Benefits of R48 medicine in hindi

R48 medicine के फायदे आपको निचे देखने को मिल जाएगे जो इस प्रकार है

(1) . टी.बी के लिए लाभकारी है

R48 medicine टी.बी की समस्या के लिए बहुत लाभकारी है अगर आपको टी.बी के लक्ष्ण दिखाई देते है तो जाँच करवाए और R48 medicine का सेवन करना शुरू करे यह medicine टी.बी के बेक्टीरिया को खत्म करने में मदत करती है

(2) . अस्थमा के लिए लाभकारी है

बहुत से व्यक्ति को अस्थमा की समस्या होती है उसके लिए भी आप R48 medicine का सेवन कर सकते है यह मेडिसिन अस्थमा के मरीज के लिए भी बहुत लाभकारी है R48 medicine टी.बी के लक्षणों को कम करती है जैसे

(1) . हफ्तों से चल रही खांसी को कम करती है

(2) . छाती में दर्द को कम करती है

(3) . वजन को कम होने से रोकती है

(4) . बलगम को कम करती है

(5) . भूख को कम नहीं होने देती

R48 medicine के दुष्प्रभाव – Side effects of R48 medicine in hindi

R48 medicine के सेवन से आपको हल्के दुष्प्रभाव हो सकते है जिसके बारे में आपको निचे देखने को मिल जाएगा जो इस प्रकार है

(1) . उलटी की समस्या हो सकती है

अगर आप R48 medicine का इस्तेमाल गलत या ज्यादा मात्रा में कर लेते है तो आपको उलटी की समस्या हो सकती है इसलिए अपनी डोस को सही मात्रा में ले और side effects होते ही medicine को कुछ समय न ले

(2) . दस्त की समस्या हो सकती है

R48 medicine के side effects में एक देखा गया है दस्त की समस्या कुछ लोगो को दस्त की समस्या हो जाती है परन्तु जरुरी नहीं सभी लोगो में यह side effects दिखाई दे यह आपके शरीर पर निर्भर करता है

(3) . पेट में दर्द हो सकता है

R48 medicine के ज्यादा मात्रा में सेवन से या उसके शरीर के अनुसार पेट में दर्द की समस्या को देखा गया है हल्का हल्का पेट में दर्द होता है इसलिए अगर एसा हो तो मेडिसिन को कुछ समय न ले

R48 medicine के side effects सभी लोगो में देखने को नहीं मिलते है इसके side effects आपके शरीर पर निर्भर करते है कुछ लोगो में देखे जाते है और कुछ में नहीं

R48 medicine की सावधानियाँ – Precautions of R48 medicine in hindi

R48 medicine को लेने से पहले कुछ बातो का ध्यान रखना बहुत जरुरी होता है जिसके बारे में आपको निचे देखने को मिल जाएगा जो इस प्रकार है

(1) . डॉक्टर की सलाह ले

जब भी आप R48 medicine का सेवन करने जाए या इसे लेने के लिए जाए तो डॉक्टर की सलाह जरुर ले और अपनी समस्या की जाँच करवाए उसके बाद R48 medicine को ले

(2) . शराब का सेवन न करे

अगर आप R48 medicine का सेवन कर रहे है या करना चाहते है तो आपको शराब का सेवन नहीं करना है इसे आपका टी.बी बढ़ सकता है

(3) . तम्बाकू , बीडी , गुटखा आदि का सेवन न करे

टी.बी होने का मुख्या कारण तम्बाकू , सिगरेट आदि का सेवन करना है इसलिए अगर आप R48 medicine का सेवन कर रहे है तो स्मोक बिलकुल न करे

(4) . मास्क का इस्तेमाल करे

आप ज्यादातर कोशिस करे की मास्क का इस्तेमाल करे इसे आपका टी.बी नहीं फेलेगा और साथ ही R48 medicine का सेवन करे इसे टी.बी कम होगा

(5) . चाय कॉफ़ी का सेवन कम करे

कुछ लोगो को चाय कॉफ़ी का सेवन अच्छा लगता है जिसके कारण वह दिन में कई बार चाय अधिक पी लेते है परन्तु अगर आप R48 medicine का सेवन कर रहे है तो आप चाय कॉफ़ी का सेवन कम करे और R48 medicine के लेने से आधे घंटे पहले या बाद में चाय न पिए

(6) . मांस का सेवन न करे

R48 medicine लेते समय अगर आप मांस का सेवन करते है तो R48 medicine का असर कम हो जाता है इसलिए जब तक आप R48 medicine का सेवन कर रहे है तो मांस का सेवन न करे

(7) . exp date को जरुर चेक करे

R48 medicine को जब भी आप लेने के लिए जाए तो आपको R48 medicine की exp date को जरुर चेक करे क्युकी कई बार exp date निलती होती है

अगर आप R48 medicine को लेना चाहते है या ले रहे है तो आप उपर बताई गई बातो का ध्यान जरुर रखे

R48 medicine की सामग्री – Ingredients of R48 medicine in hindi

R48 medicine में अलग अलग बहुत सी homeopathic medicine मिली हुई है जिसके बारे में आपको निचे देखने को मिल जाएगा जो इस प्रकार है

(1) . ब्रायोनिया अल्बा (Bryonia album)

ब्रायोनिया अल्बा फेफड़ो के लिए बहुत लाभकारी है यह फेफड़ो में जमा बलगम को कम करता है और टी.बी को कम करता है ब्रायोनिया अल्बा लाभकारी है

(2) . डल्कामारा (dulcamara)

टी.बी के दोरान जो फेफड़ो में कफ जमा होता है उसके लिए डल्कामारा का इस्तेमाल बहुत ज्यादा लाभकारी होता है यह कफ को कम करती है

(3) . फेरम फास्फोरिकम (Ferrum phophoricum)

अगर आपको बहुत ज्यादा ठण्ड लगती है और उसे बाद फेफड़ो के उपर वाले हिसे वायु मार्ग में जलन होती है और फेफड़ो में म्यूकस अधिक जमा होता है तो एसे में फेरम फास्फोरिकम बहुत लाभकारी होती है

(4) . काली कार्बोनिकम (Kali carbonicum)

अगर आपको रात में बहुत अधिक पसीना आता है कंधो की हडियो के बीच कमजोरी लगती है और थकान होती है तो उस समय में काली कार्बोनिकम बहुत लाभकारी है

(5) . लाइकोपोडियम क्लेवेटम (Lycopodium clavatum)

लाइकोपोडियम क्लेवेटम लीवर के लिए बहुत ही लाभकारी मेडिसिन है यह लीवर से विशेले प्रदार्थ को बाहर निकालने में मदत करती है और भूख को बढ़ा देती है

(6) . एसिडम पिक्रिकम (Acidum Picricum)

अगर आपको बहुत अधिक आल्क्स आता है कंधो में दर्द होता है तो उसके लिए एसिडम पिक्रिकम बहुत अच्छा फायदा करती है

(7) . सीपिया (Sepia)

अगर आपको बहुत ज्यादा थकान कमजोरी उर्जा की कमी हो जाती है तो उस समय में सीपिया बहुत अच्छा फायदा करती है और थकान को दूर करती है

(8) . सिलेसिया (silicea)

टी.बी या फेफड़ो में समस्या के दोरान जो हमे थकान कमजोरी होती है उसको दिर करने में सिलेसिया बहुत लाभकारी मेडिसिन है

यह सभी homeopathic medicine R48 medicine में मिली हुई है जसी R48 medicine का असर और भी ज्यादा हो जाता है

निचे दी गई बिमारी है तो R48 medicine न ले – Do not use R48 medicine in these diseases in hindi

निचे बताई गई बिमारी अगर आपको है तो R48 medicine का सेवन न करे डॉक्टर की सलाह ले

(1) . हाइपरक्लेमिया

(2) . हृदय रोग

(3) . गुर्दे की बिमारी

(4) . केल्शियम की कमी होने पर

इन बीमारियों में R48 medicine का सेवन न करे

R48 medicine को कैसे रखे – How to store R48 medicine in hindi

आप R48 medicine को आसानी से सामान्य तापमान में रख सकते है इसे आप अपने कमरे के समान्य तापमान में रख सकते है

ध्यान रहे की आप R48 medicine को ज्यादा ठंडी व ज्यादा गर्म जगह पर नहीं रखना है इसे R48 medicine का असर कम हो सकता है

निष्कर्ष

आशा करते है की आपको R48 homeopathic medicine के बारे में पता चल गया होगा और अब आप इसका इस्तेमाल आसानी से कर सकते है टी.बी की समस्या का जल्दी इलाज जरुरी होता है इसलिए अगर आपको टी.बी के लक्ष्ण दिखाई दे तो आप तुरंत डॉक्टर से मिले और जाँच करवाए उसके बाद आप R48 medicine का सेवन कर सकते है

related topic

टी.बी के मरीज को कौन सा फल खाना चाहिए

टीबी के मरीज को चावल खाना चाहिए या नहीं

जानिए कुछ सवालो के जवाब

Q . R48 medicine का इस्तेमाल कितने दिन तक कर सकते है ?

ans . R48 medicine का इस्तेमाल आप 1 महिना पहले करे उसके बाद जब आराम मिले तो और इस्तेमाल कर सकते है |

Q . R48 medicine का प्राइस क्या है ?

ans . R48 medicine का प्राइस 239 रूपये है |

डिस्क्लेमर – जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर प्रकार से प्रयाश  किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी thedkz.com की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है