अगर किसी व्यक्ति को दस्त की समस्या है तो वह r4 homeopathic medicine का इस्तेमाल कर सकता है यह medicine दस्त को रोकने के लिए बहुत ही फायदेमंद है

r4 medicine dr.reckeweg की है जो जर्मन में बनाई गई है और यह homeopathic medicine होने के कारण इसका हमारे शरीर पर कोई दुष्प्रभाव भी नहीं पड़ता है

आज के समय में गलत खान पान के कारण या बहुत अधिक फ़ास्ट फ़ूड खाने के कारण या बहुत अधिक अलग अलग मेडिसिन के इस्तेमाल के कारण दस्त की समस्या हो रही है

दस्त रोग कीटाणु से होने वाला रोग है जो सबसे जादा गंदगी से फेलता है बासी खाना खाना दूषित पानी का सेवन करना गला सडा खाना खाने आदि से होती है

इसलिए homeopathic ने दस्त की समस्या को कम करने के लिए r4 medicine का निर्माण किया है जो दस्त की समस्या को कम करती है और हमे इसे आराम दिलाती है 

दस्त कब होती है

हमारे शरीर में बड़ी आंत में एक मूवमेंट होती है और इस मूवमेंट को प्रोस्टेटिक मूवमेंट कहते है इसे हमारा मल मलद्वार से बाहर निकल जाता है और जब यह मूवमेंट अधिक बढ़ जाती है तो हमें दस्त की समस्या हो जाती है

जब हमारे मल में बहुत अधिक पानी निकलता है तो उसे ही हम दस्त की समस्या कहते है दस्त होने पर शरीर में कमी होने लगती है जैसे 

(1) . पानी की अधिक कमी होना

(2) . इलेक्ट्रोलाईट की कमी होना

(3) . सोडियम की कमी होना

(4) . शक्र की कमी होना

r4 homeopathic medicine uses in hindi

r4-homeopathic-medicine

r4 medicine का इस्तेमाल उम्र , लिंग , कोई नई या पुरानी बिमारी को ध्यान में रखकर डॉक्टर की सलाह के अनुसार किया जाता है क्युकी हर मरीज की समस्या और उसकी उम्र अलग अलग होती है

यह homeopathic medicine है इसलिए यह आपको ड्राप के रूप में मिलेगी और थोड़े से पानी के साथ इसका इस्तेमाल करना है आपको एक कप में थोडा सा पानी डालना है

उसके बाद उस पानी में आपको r4 medicine की 10 या 15 ड्राप को डालना है और आपको इसे पी लेना है एसा आप हर 1 घंटे में करे इसे आपको कुछ घंटो में आराम मिलेगा

और जब आपको दस्त से आराम मिल जाए तो आप इसे दिन में 3 बार ले ध्यान रहे की r4 medicine का इस्तेमाल आपको खाना खाने से 1 घंटा पहले या 1 घंटे बाद ही करना है

अगर आपको ibs (irritable bowel syndrome) की समस्या है जिसके कारण आपको 4 या 5 बार जाना पड़ता है मल को त्यागने के लिए इसके लिए आपको 1 कप लेना है और उसमे थोडा पानी डालना है

उस पानी में आपको r4 medicine की 10 ड्राप को डालना है और पीना है रोज सुबह और शाम एसा आपको एक महीने तक करना है जिसे आपकी ibs की समस्या ठीक हो जाए

(1) . दस्त होने पर ले 

बिमारीदस्त
मेडिसिन की मात्रा 10 या 15 ड्राप
दिन में कितनी बार 4 या 5 बार हर 1 घंटे में
खाना खाने के बाद या पहले खाना खाने 1 घंटा पहले ले
किसके साथ ले थोड़े पानी के साथ
दस्त में आपको 10 या 15 ड्राप लेनी है हर एक घंटे बाद

(2) . ibs होने पर ले

बिमारीibs
मेडिसिन की मात्रा 10 ड्राप
दिन में कितनी बार 2 बार , सुबह और शाम
खाना खाने के बाद या पहले खाना खाने से 1 घंटा पहले
किसके साथ ले थोड़े पानी के साथ
ibs में आपको 10 ड्राप लेनी है दिन में 2 बार सुबह और शाम

benefits of r4 medicine in hindi

r4 medicine के फायदे आपको निचे देखने को मिल जाएगे जो इस प्रकार है 

(1) . दस्त के लिए है फायदेमंद 

r4 medicine दस्त के लिए बहुत अधिक फायदेमंद है अगर आपको किसी भी कारण दस्त की समस्या होती है तो आप r4 medicine की ड्राप का इस्तेमाल कर सकते है

अगर गलत खान पान के कारण या किसी इन्फेक्शन के कारण दस्त हुआ है तो आप इस medicine के इस्तेमाल से कुछ ही घंटो में दस्त की समस्या से आराम पा लेंगे  

(2) . ibs के लिए है फायदेमंद 

r4 medicine ibs जिसे irritable bowel syndrome भी कहते है इसके कारण हुई समस्या के लिए भी फायदेमंद है ibs की समस्या पाचन से जुडी समस्या होती है जिसका असर बड़ी आंत पर पड़ता है

आंतो में बेक्टीरियाँ के संतुलन खराब होने पर ibs की समस्या होती है इसमें पेट में दर्द , दस्त , कब्ज , नींद में कमी जैसी समस्या होती है इसके लिए आप r4 medicine ले सकते है  

side effects of r4 medicine in hindi  

r4 medicine दस्त के लिए बहुत अधिक फायदेमंद है और अभी तक r4 medicine के बारे में कोई भी दुष्प्रभाव की सुचना नहीं मिली है इसके इस्तेमाल से आपको साइड इफ़ेक्ट नहीं होंगे  

परन्तु मरीज की समस्या और उसकी उम्र को ध्यान में रखते हुए आपको r4 medicine के इस्तेमाल से पहले आपको अपने डॉक्टर की सलाह लेना बहुत जरुरी होता है  

precautions of r4 medicine in hindi

r4 medicine के इस्तेमाल करते समय या इस्तेमाल से पहले निचे दी गई बातो का ध्यान रखे जो इस प्रकार है 

(1) . r4 medicine से एलर्जी है तो न ले 

देखा गया है की बहुत से लोगो को अलग अलग medicine से एलर्जी होती है अगर आपको भी r4 medicine से किसी प्रकार की एलर्जी है तो आप r4 medicine का इस्तेमाल न करे और डॉक्टर की सलाह जरुर ले  

(2) . प्रेगनेंसी में r4 medicine लेने से पहले डॉक्टर की सलाह ले 

इसके बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है की प्रेगनेंसी में r4 medicine लेने से कोई दुष्प्रभाव होता है परन्तु फिर भी आपको प्रेगनेंसी के दोरान r4 medicine के इस्तेमाल से पहले डॉक्टर की सलाह लेना जरुरी है  

(3) . स्तनपान करवाने वाली महिला r4 medicine लेने से पहले डॉक्टर की सलाह ले 

स्तनपान करवाने वाली महिला को r4 medicine से कोई प्रभाव पड़ता है इसके बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है परन्तु आपको डॉक्टर से सलाह लेना बहुत जरुरी होता है

(4) . r4 medicine लेते समय शराब का सेवन न करे 

अगर आप r4 medicine का इस्तेमाल कर रहे है तो आपको ध्यान रखना है की r4 medicine के साथ या r4 medicine लेने के बाद या पहले शराब का सेवन नहीं करना है इसे समस्या हो सकती है  

ingredients of r4 medicine in hindi

r4 medicine के अन्दर अलग अलग मेडिसिन मिली हुई है जानते है उन medicine के बारे में जो इस प्रकार है 

(1) . बैप्टीशिया (baptisia tinctoria) 

बैप्टीशिया medicine का इस्तेमाल टाइफाइड बुखार के लिए किया जाता है   

(2) . कैमोमिला (chamomilla) 

इस medicine का इस्तेमाल पेट में दर्द के लिए और साथ ही दस्त के लिए किया जाता है और यह बच्चो के दस्त के लिए और भी जादा फायदेमंद है

(3) . चिनिनम (chininum arsenicosum) 

चिनिनम medicine का इस्तेमाल तब किया जाता है जब आपको बेक्टीरियाँ के कारण दस्त की समस्या उत्पन होती है  

(4) . कोलोसिन्थ (colocynthis)

जब पेट में दर्द होता है पेट में मुरोड़ सी होती है और पेट दबाने पर आराम मिलता है इस समस्या में कोलोसिन्थ medicine का इस्तेमाल किया जाता है 

(5) . फ्रेम फास्फोरिकम (ferrum phosphoricum) 

पेट में इन्फेक्शन है और दस्त के कारण अगर आपके शरीर में थकान हो गई है तो इसके लिए फ्रेम फास्फोरिकम बहुत ही अछि medicine है  

(6) . ओलियंडर (ollander)  

अगर बहुत जादा गैस बन रही है या मल के साथ थोडा सा खाना भी निकल रहा है तो उसके लिए ओलियंडर medicine का इस्तेमाल किया जाता है  

(7) . रस टॉक्स (rhus toxicodendron) 

बारिश के मोषम में होने वाली दस्त की समस्या में रस टॉक्स medicine का इस्तेमाल किया जाता है  

(8) . वेरेठूम एल्बम (veratrum album) 

वेरेठूम एल्बम medicine का इस्तेमाल दस्त और उलटी दोनों ही समस्या के लिए किया जाता है  

उपर दी गई सभी medicine r4 medicine में मिलाई गई है जिसे हमें दस्त में बहुत लाभ होता है  

दस्त से बचाव के तरीके

दस्त से बचाव के कुछ तरीके इस प्रकार है 

(1) . खाना खाने से पहले या बाद में अपने हाथो को अछे से धोए

(2) . मल त्याग के बाद हाथो को अच्छे से धोए

(3) . खाने को हमेशा साफ बर्तन और ढककर रखे

(4) . अपने आस पास सफाई रखे पानी जमा ना होने दे

(5) . नवजात शिशु को माँ का दूध ही पिलाए

निष्कर्ष

आशा करते है की आपको r4 homeopathic medicine के बारे में पता चल गया होगा और अब आप इसका इस्तेमाल आसानी से करेगे परन्तु फिर भी आपको दस्त की समस्या होने पर सबसे पहले डॉक्टर से मिले और जांच करवाए उसके बाद डॉक्टर के बताए अनुसार मेडिसिन ले ताकि कोई समस्या न हो

related topic 

lopamide medicine uses in hindi का इस्तेमाल दस्त में किया जाता है

अमीबियासिस रोग क्या है – amebiasis disease in hindi

जानिए कुछ सवालो के जवाब

Q . दस्त कितने दिन में ठीक होता है ?

ans . आमतोर पर दस्त 3 या 4 दिन में मेडिसिन लेने के बाद ठीक हो जाता है परन्तु कुछ लोगो में दस्त को ठीक होने में 6 से 7 दिन का समय लग जाता है |

Q . r4 homeopathic medicine असर करने में कितना समय लेती है ?

ans . अगर आप r4 homeopathic medicine को दिन में 4 या 5 बार लेते है तो कुछ ही घंटे के बाद आपको आराम मिलने लगेगा और जब आराम मिले तो आप दिन में 2 बार सेवन करे |

डिस्क्लेमर – जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर प्रकार से प्रयाश  किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी thedkz.com  की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है