जैसा की आप जानते ही होगा की बहुत सी कंपनी ने disel कार बनानी  बंद कर दी है और अब पेट्रोल कार ही बना रही  है क्युकी disel कार में बहुत जादा polution होता है

जो हमारे शरीर के लिए बहुत नुक्सान दायक होता है लेकिन अभी भी कुछ कंपनी disel कार बना रही है लेकिन अब जो disel कार आ रही है उसमे थोडा बदलाव किया गया है

और यह बदलाव बढ़ते हुए polution को देखते हुए किया गया है  और यह बदलाव है dpf system , यह एक फ़िल्टर होता है जो कार के catalytic converter में लगा होता है

जब कुछ खराब गेस इंजन से निकलती है तो यह फ़िल्टर उस गेस को इतना साफ़ करता है जितना हमारे लिए नुक्सान दायक ना हो और फिर गेस सिलेंसर से बाहर निकलती है

परन्तु यह dpf सिस्टम होता क्या है और इस dpf warning light का मतलब क्या होता है आज हम आपको बतायेगे की bs6 कार में यह dpf सिस्टम क्या है और warning light का मतलब क्या है

यह भी पढ़े :-  low engine oil pressure warning light | आयल प्रेसर वार्निंग लाइट क्या है

dpf system क्या है 

dpf की full फ्रॉम होती है ( disel particulate filter ) dpf  इंजन के अन्दर से निकलने वाली जो डस्ट के कण होते है उसको कम करता है और dpf catalytic converter के पहले या बाद में लगा होता है

किसी भी कार के इंजन को चलने के लिए फ्यूल की आवश्यकता होती हैं और सभी कंपनी अपनी अपनी कार में फ्यूल और एयर की मात्रा फिक्स रखती है जिसे कार स्टार्ट होती है

अगर बिना dpf वाली कार bs 4 इंजन की बात की जाए तो उसमे इंजन बहुत जादा डस्ट के कण को बाहर निकालता था जिसके कारण बहुत जादा polution की समस्या होती थी

बिना dpf वाली कार bs 4  इंजन में से 25 मिली ग्राम डस्ट के कण बाहर निकलते है परन्तु अगर किसी कारण फ्यूल की सप्लाई खराब हो जाती है या इंजेक्टर खराब हो जाता है तो डस्ट के कण 25 मिली ग्इंराम से जादा निकलने लगता है

इस डस्ट के कण को कम करने के लिए ही bs 6 इंजन में dpf सिस्टम दिया गया है इस dpf सिस्टम में यही डस्ट के कण को कम करके  4 मिली ग्राम कर दिया गया है जिसे polution कम होता है

dpf system काम कैसे करता है 

dpf system का मुख्या काम है इंजन में से निकलने वाले डस्ट के कण को कम करना जिसे polution कम हो जाए जानिए dpf सिस्टम काम कैसे करता है

इंजन में एग्जोस्ट सिस्टम में catalytic converter से पहले dpf फ़िल्टर लगा होता है यह फ़िल्टर इंजन के अंदर से निकलने वाले डस्ट के कण को रोक लेता है और बाहर जाने से रोकता है

इस dpf सिस्टम में चार जाली लगी होती है जब हम कार को स्टार्ट करते है और जब इंजन में फ्यूल जलता है तो डस्ट के कण पैदा होते है और वह एग्जोस्ट में जाते है वहा से यह कण dpf के दो जाली में जाते है

और दो जाली साफ़ रहती है उसके बाद दो जाली में जमा डस्ट के कण में से साफ़ एयर निकलकर बचे हुए दो जाली में चली जाती है उसके बाद वह बाहर निकलकर catalytic converter में जाती है और उसमे से बाहर निकल जाती है

जिसे polution कम होता है , उसके बाद दो जाली में डस्ट के कण जमा रहते है उसको dpf सिस्टम के द्वारा व्ही जलाया जाता है जिसे वह polution के रूप में बाहर नहीं निकलता है

जब dpf के फ़िल्टर की दो जाली डस्ट के कण से भर जाती है तो dpf warning light डैशबोर्ड मीटर में ऑन हो जाती है और हमें संकेत देती है की dpf सिस्टम चोक हो गया है इसे साफ़ करे

dpf warning light कैसे काम करती है 

अब आपने यह तो समझ लिया है की dpf क्या है और काम कैसे करता है परन्तु हमें कैसे पता चलता है की dpf फ़िल्टर चोक हो गया है उसके लिए dpf warning light का इस्तेमाल किया गया है

यह लाइट तब ऑन होती है जब dpf फ़िल्टर चोक हो जाता है अब बात आती है dpf warning light काम कैसे करती है जिसे हमें संकेत मिलता है

इस dpf फ़िल्टर में एक सेंसर लगा होता है जो dpf फ़िल्टर के अन्दर लगे प्रेसर को मापता है यह सेंसर होता तो एक है परन्तु इसके पाइप dpf फ़िल्टर के आगे और पीछे दोनों तरफ लगे होते है

जब इंजन स्टार्ट होता है और डस्ट के कण dpf फ़िल्टर में जमा होते रहते है तो प्रेसर बनता है , dpf फ़िल्टर का प्रेसर फिक्स होता है जब इसमें अधिक मात्रा में पेसर बनता है

मतलब फिक्स किए हुए प्रेसर से जादा बने लगता है तो dpf फ़िल्टर में लगा सेंसर ecm को signal भेजता है की फ़िल्टर चोक हो गया है ecm साथ ही डैशबोर्ड मीटर में dpf warning light ऑन कर देता है

और हमें संकेत देता है की फ़िल्टर चोक हो गया है इसे साफ़ करे अगर इस warning light पर आपने ध्यान नहीं दिया तो नुकसान हो सकता है इसके लिए आपको फ़िल्टर साफ़ करना होगा

यह भी पढ़े :-  engine temperature warning light आने पर क्या करे | इंजन तापमान चेतावनी प्रकाश

dpf फ़िल्टर को साफ़ कैसे करे , dpf warning light आने के बाद क्या करे 

अगर आपकी कार में dpf warning light on हो जाती है तो आप वह लाइट को खुद डिलीट कर सकते है उसके लिए आपको कंपनी के बताए अनुसार काम करना होगा

.   हुंडई कार में कैसे साफ़ होगा यह फ़िल्टर

dpf warning light को डिलीट करने के दो तरीके होते है पहला तरीका है की आपको कम से कम 25 मिनट तक कार को चलाना है कम से कम 60 की स्पीड में कार को कही रोकना नहीं है यह आप higway पर कर सकते है एसा करने से dpf warning light डिलीट हो जाएगी

दूसरा तरीका है आपको कार को दुसरे गियर में 1500 से 2500 तक rpm पर 25 मिनट तक लगातार चलानी है इसे dpf warning light डिलीट हो जाएगी

.   टोयटा fortuner में कैसे dpf लाइट को डिलीट करे

टोयटा fortuner में जब dpf फ़िल्टर चोक हो जाता है तो मीटर में आपको लिखा हुआ देखने को मिलेगा वह आपको बताएगा की dpf light आटोमेटिक डिलीट नहीं हुई है आप मैन्युअल तरीके से डिलीट करे उसके लिए आपको बताए अनुसार काम करना होगा

आपको सबसे पहले कार को नुटल मोड में लाना है और अगर आटोमेटिक कार है तो पार्किंग मोड में लाना है उसके बाद हैण्ड ब्रेक लगानी है उसके बाद आपको कार को गर्म करना है

उसके बाद आपको dpf का एक बटन देखने को मिलेगा आपको उसको दबाना है उसके बाद आपकी कार का dpf फ़िल्टर साफ़ होना शुरू हो जाएगा अब आपको कैसे पता चलेगा की dpf फ़िल्टर साफ़ होना शुरू हो गया है

आपको डैशबोर्ड मीटर में लिखा हुआ देखने को मिलेगा की dpf फ़िल्टर साफ होना शुरू हो गया है , इसके बाद जब यह कार्य चल रहा होगा तो इंजन स्पीड मतलब rpm बढ़ जाएगा आपको घबराने की जरूरत नहीं है

उसके बाद आपको थोडा इंतज़ार करना है क्युकी dpf warning light डिलीट होने में 25 से 30 मिनट लग सकते है उसके बाद जब यह कार्य पूरा हो जाएगा तो डैशबोर्ड मीटर में आपको लिखा हुआ देखने को मिलेगा

की dpf फ़िल्टर साफ़ होने का प्रोसेस पूरा हो गया है इसके साथ ही इंजन स्पीड भी कम हो जाएगी और dpf warning light डिलीट हो जाएगी उसके बाद आपको कार में थोड़ी रेस देनी है जिसे एग्जोस्ट पाइप साफ़ हो जाए

dpf warning light फिक्स होने पर क्या नुक्सान होता है 

dpf सिस्टम का इस्तेमाल डीजल कार में polution को कम करने के लिए किया जाता है सभी bs 6 कार में dpf सिस्टम का इस्तेमाल किया जा रहा है

जब आप कोई bs 6 कार लेते हो तो कंपनी आपको इस dpf light के बारे में बताती है परन्तु कुछ कस्टमर को इस dpf light को डिलीट करने का तरीका समझ में नहीं आ पाता है

जिसके कारण जब आप कार चलाते हो और dpf warning light ऑन होती है तो आप उसे डिलीट नहीं कर पाते हो जिसके कारण आपको नुक्सान होता है

जब dpf फ़िल्टर चोक हो जाता है और अगर आपने इस light पर ध्यान नहीं दियां तो यह फ़िल्टर चोक होकर पूरा एग्जोस्ट सिस्टम चोक हो जाता है जिसके कारण पूरा एग्जोस्ट सिस्टम बदला जाता है फ़िल्टर का

इलसिए समय रहते dpf warning light पर ध्यान दे और डिलीट करे और अगर डिलीट न हो तो तुरंत चेक करवाए अगर कार नई है तो कंपनी में चेक करवाए

यह भी पढ़े :-   symptoms of bad motorcycle fuel pump-ख़राब फ्यूल पंप के कारण फॉर बाइक

dpf सेंसर के खराब होने पर क्या लक्ष्ण देखने को मिलते है 

अगर किसी कारण आपकी कार का dpf sensor खराब हो जाता है तो आपको अपनी कार में अलग अलग प्रकार से लक्ष्ण देखने को मिल सकते है जानिए उन लक्ष्ण के बारे में

.  चेक इंजन लाइट ऑन हो जाना

सबसे पहला लक्ष्ण जो आपको dpf सेंसर ख़राब होने पर दिखाई देता है वो है चेक इंजन लाइट का ऑन हो जाना dpf सेंसर dpf फ़िल्टर में बने वाले प्रेसर को ecm को बताता है

जब यह सेंसर खराब हो जाता है तो यह सेंसर dpf के अन्दर बने वाले प्रेसर का पता नहीं कर पाता है जिसके कारण यह ecm को signal नहीं भेज पाता है

जिसे ecm को पता चल जाता है की dpf सेंसर खराब हो गया है , ecm साथ ही

डैशबोर्ड मीटर में dpf warning light को ऑन कर देता है जिसे हमें संकेत मिलता है की फ़िल्टर चोक हो गया है

.  माइलेज का कम हो जाना

कार में जब फ्यूल से जुडी कोई समस्या होती है तो माइलेज कम हो जाती है dpf सेंसर खराब होने का यह दूसरा लक्ष्ण होता है जब इंजन के अन्दर फ्यूल का मिक्सर खराब हो जाता है

तो माइलेज कम हो जाती है जब dpf सेंसर खराब हो जाता है तो यह ecm को signal नहीं भेज पाता है की dpf में कितनी एयर बाहर निकल रही है और कितना प्रेसर बन रहा है

जिसके कारण ecm को एयर की मात्रा का पता नहीं चल पाता है और ecm फ्यूल की सप्लाई को बढ़ा देता है जिसे माइलेज कम होने की समस्या उत्पन हो जाती है

.  इंजन का गर्म होना

इंजन का गर्म होना कोई आम बात नहीं है जब आपकी कार में कोई समस्या होती है तो ही आपकी कार का इंजन गर्म होता है इस समस्या में  इंजन गर्म जादा मात्रा में नहीं होता है

परन्तु आपको महसूस हो जाएगा की आपकी कार का इंजन गर्म हो रहा है क्युकी जब इंजन में से डस्ट के कण व् धुआं बाहर नहीं निकल पाएगा तो इंजन गर्म होने की समस्या होगी

.  pickup का कम हो जाना

pickup का कम होना dpf सेंसर के खराब होने का एक लक्ष्ण होता है इंजन के अन्दर से निकल रहे डस्ट के कण dpf फ़िल्टर में जाते है और अगर यह डस्ट के कण वहा रुक जाते है

तो यह चोक हो जाते है जिसके कारण इंजन से गेस बाहर नहीं निकल पाती है जिसके कारण इंजन को ऑक्सीजन नहीं मिल पाता है और pickup कम होने की समस्या होती है

.  काले धुएँ की समस्या होना

आपने देखा होगा की डीजल कार में काले धुएँ की समस्या होती है bs 4 में जादा समस्या होती है इसलिए कंपनी ने bs 6 इंजन बनाया है जिसमे dpf सिस्टम दिया है

जब dpf सेंसर का dpf फ़िल्टर चोक हो जाता है तो इंजन में फ्यूल का सही कम्बसन नहीं हो पाता है जिसके कारण काले धुएँ की समस्या उत्पन हो जाती है

dpf warning light के कुछ फाल्ट कोड 

जब dpf warning light ऑन होती है तो कार को स्कैन करने पर आपको अलग अलग प्रकार के फोल्ट कोड देखने को मिल जाएगे जो आपको निचे देखने को मिल जाएगे

.  p2452   डीजल पार्टीक्युलर फ़िल्टर प्रेसर सेंसर A सर्किट

.  p2455    डीजल पार्टीक्युलर फ़िल्टर प्रेसर सेंसर A सर्किट हाई

.  p2453   डीजल पार्टीक्युलर फ़िल्टर प्रेसर सेंसर A सर्किट रेंज /परफॉरमेंस

.  p2454   डीजल पार्टीक्युलर फ़िल्टर प्रेसर सेंसर A सर्किट लो

यह भी पढ़े :-  p0420 Catalyst System Efficiency Below Threshold (Bank 1) क्या होता है

जानिए कुछ सवालों के जवाब 

Q . Dpf Warning Light कब आती है ?

ans . जब आपकी कार के dpf फ़िल्टर में डस्ट कण की मात्रा बढ़ जाती है और फ़िल्टर के फिक्स तापमान से जादा प्रेसर बन जाता है तो Dpf Warning Light ऑन हो जाती है |

Q . Dpf Warning Light के फिक्स होने पर क्या समस्या होती है ?

ans . अगर Dpf Warning Light fix हो जाती है तो इसका मतलब होता है की आपकी कार का dpf फ़िल्टर चोक हो गया है और वह फ़िल्टर साफ़ भी नहीं हो रहा है जिसके कारण आपकी कार में बहुत सी समस्या उत्पन हो जाती है |

Categorized in: