कार साइलेंसर की मिट्टी क्या है और इसे निकाल देने से क्या नुक्सान होता है | Gadi ke silencer ki mitti kis kaam aati hai

सभी को पता है की कार में साइलेंसर लगा होता है और यह इसलिए लगा होता है की इंजन से निकलने वाली खराब गेस बाहर निकल सके और इंजन सही प्रकार से कार्य कर सके

परन्तु इस साइलेंसर में एक जाली लगी होती है जिसे हम साइलेंसर की मिटी कहते है और यह अलग अलग कार में कम या जादा होती है परन्तु सभी कार में होती जरुर है

अब यह मिटी बाइक के साइलेंसर में भी आने लगी है परन्तु यह बाइक में बहुत कम मात्रा में होती है , यह साइलेंसर की मिटी कम हो या जादा इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है

परन्तु अगर यह मिटी आपकी कार या बाइक के साइलेंसर में नहीं होगी तो आपको बहुत जादा नुक्सान भी होगा और आपकी बाइक और कार में समस्या उत्पन होने लगेगी

साइलेंसर में दो oxygen sensor लगे होते है जो एक तो मिटी के उपर वाली जगह पर लगा होता है और एक oxygen sensor मिटी के निचे लगा होता है और इन दोनों सेंसर का बहुत महत्वपूर्ण काम होता है

आप सोच रहे होगे की साइलेंसर की मिटी और इस oxygen sensor का क्या लेना देना है हम आपको बता दे की इस साइलेंसर की मिटी और oxygen sensor का आपस में बहुत जादा लेना देना है

अब हम आपको बताएगे की साइलेंसर की मिटी है क्या और इसका और सेंसर का आपस में क्या लेना देना है जानिए इस साइलेंसर की मिटी के बारे में –

यह भी पढ़े :-  ब्रेक क्या है और कैसे कार्य करता है,ब्रेक के प्रकार | brake system in car bike

साइलेंसर की मिटी क्या है और यह कैसे काम करती है 

साइलेंसर की मिटी एक जाली जैसे होती है और यह साइलेंसर के बीच में लगी होती है गोल अकार में और जैसा की आपको बताया है इसके उपर और निचे oxygen sensor लगे होते है

साइलेंसर की मिटी के अन्दर बहुत जादा महंगे प्रादार्थ होते है  साइलेंसर की मिटी का मुख्या कार्य है यह इंजन से निकलने वाली खराब गेस को छानकर व् साफ़ करके बाहर निकालता है

जब इंजन के अन्दर से ख़राब गेस इस मिटी जाली से निकलकर आगे जाती है तो यह बाहर निकालकर बहुत अधिक कम मात्रा में प्रदुषण करती है , कार कंपनी इस मिटी को इसलिए लगाती है की प्रदुषण कम हो और कार का इंजन भी सही रहे

अब oxygen sensor कैसे काम करता है इस मिटी के द्वारा जैसा की फिरसे बता रहे है की मिटी के उपर और निचे यह सेंसर लगा होता है और अपना कार्य करते है

जब इंजन से ख़राब गेस निकलती है तो वह मिटी के उपर वाले oxygen सेंसर में जाती है और उस समय oxygen सेंसर का पॉइंट 20 . 1 है फिर यह जानकारी oxygen sensor ecm को भेज देता है

और ecm इस जानकारी से फ्यूल की सप्लाई करवाता है उसके बाद खराब गेस मिटी के निचे वाले oxygen sensor में जाती है और उस समय oxygen sensor का पॉइंट 18 . 3 है यह जानकारी भी वह ecm को भेज देता है जिसे ecm आगे फ्यूल की सप्लाई करवाता है

अब अगर यह साइलेंसर की मिटी निकाल दी जाती है तो क्या होगा , अगर यह मिटी निकाल दी जाती है तो दोनों ही oxygen sensor के पॉइंट एक जैसे हो जाएगे जैसे 20 .1 , 20 .1  जिसके कारण ecm को सही प्रकार से signal नहीं मिल पाएगा

और ecm जादा मात्रा में फ्यूल की सप्लाई करने लगेगा और कार में  बहुत जादा समस्या उत्पन हो जाएगी फ्यूल के साथ साथ इस मिटी के निकाल देने से बहुत से नुकसान होते है

जैसे की आपको बताया की यह मिटी बहुत जादा महंगी होती है इसलिए कुछ लोग लालच में आकर इस मिटी को निकाला लेते है और बेच देते है मिटी के निकाल देने से बहुत समय बाद आपको नुक्सान होगा एकदम से पता नही चलेगा

पहले जो कार आती थी उसमे एकदम से पता नहीं चलता था मिटी निकली है या नहीं परन्तु जो अब नई कार आ रही है उनमे एक दम पता चल जाता है अगर आप कार चला रहे हो

नई कार में इस साइलेंसर की मिटी निकालने से एकदम से चेक इंजन लाइट चालू हो जाती है और बंद नहीं होती है , अब हम आपको बताएगे की क्या नुक्सान होता है इस साइलेंसर की मिटी को निकाल देने से

यह भी पढ़े :-   Engine decarbonizing benefits क्या है एक बार कराये इंजन कभी खराब नहीं होगा | engine decarbonisation good or bad in hindi

साइलेंसर की मिटी निकाल देने से क्या नुक्सान होते है 

साइलेंसर की मिटी को  निकालने से जो नुक्सान होते है वह आपको निचे देखने को मिलेगे जानिए –

.  चेक इंजन लाइट ऑन रहना हमेशा

अगर आपकी कार के साइलेंसर  में मिटी नहीं होगी तो आपकी कार के मीटर में चेक इंजन लाइट हमेशा ऑन रहेगी बंद नहीं होगी अगर आपके पास नई पेट्रोल कार है और उसमे चेक इंजन लाइट ऑन है

और आपने कुछ समय पहले ही कार का कुछ काम करवाया है तो आप तुरंत ही अपनी कार को स्कैन करवाए और चेक करवाए क्या कोड आ रहा है अगर p0420 कोड आया और कार नई है तो इसका मतलब है साइलेंसर में मिटी नहीं है

मिटी निकाल देना का सबसे पहला नुक्सान है वह है चेक इंजन लाइट का हमेशा ऑन रहना अगर बंद हो जाती है स्कैनर से तो कुछ समय बाद फिरसे आ जाएगी

.  दोनों oxygen sensor का खराब हो जाना

जिस कार के साइलेंसर में मिटी नही होती है उस कार का oxygen sensor हमेशा खराब ही होगा काम नहीं करेगा अगर सही होगा तो ecm को गलत जानकारी देगा

अगर oxygen sensor ठीक होता भी है तो वह इंजन के अन्दर से निकलने वाली गेस की जानकारी ecm को सही प्रकार से नही देगा और जिसके कारण फ्यूल की सप्लाई अधिक मात्रा में होगी

मिटी निकाल देने से गेस की मात्रा सेंसर में अधिक हो जाती है और जिसके कारण oxygen sensor कुछ समय बाद खराब हो जाता है और काम नहीं कारता है

.  माइलेज का बहुत कम हो जाना

साइलेंसर से मिटी निकाल देने से सबसे बड़ा नुकसान जो है वह है माइलेज का कम होना 100 में से 50 कार में माइलेज की समस्या होती है और वह साइलेंसर की मिटी के वजह से होती है

और कार के मालिक को यह बात पता नहीं चल पाती है और वह कार की सर्विस करवाता है , सेंसर बदलाव देता है , थ्रोटल बॉडी को साफ़ करवाता है परन्तु कोई फर्क नहीं पड़ता है माइलेज का

जब मिटी के ना होने के कारण oxygen sensor खराब हो जाता है तो वह ecm को जानकारी नहीं मिल पाती है गेस की जिसके कारण ecm अपनी मर्जी के अनुसार इंजेक्टर को फ्यूल की सप्लाई करवाता है और माइलेज कम हो जाती है

.  आईड्लिंग की समस्या रहना कार में

आईड्लिंग की समस्या कई कारण से होती है इंजन में परन्तु साइलेंसर में मिटी ना होने के कारण इंजन में आइड्लिंग की समस्या देखि गई है

जब oxygen sensor खराब हो जाता है तो वह ecm को इंजन से निकलने वाली गेस की जानकारी नहीं दे पाता है और जिसके कारण ecm कार को स्टार्ट करने के लिए फ्यूल की सप्लाई को बढ़ा देता है

जिसके कारण इंजन में फ्यूल की मात्रा तो बढ़ जाती है परन्तु एयर की मात्रा कम हो जाती है जिसके कारण इंजन में आइड्लिंग की समस्या misfire की समस्या उत्पन हो जाती है

.  साइलेंसर फटने की आवाज आना

साइलेंसर से मिटी निकाल देने से जो आपको नुकसान होगा उनमे से एक है हमेशा फटे हुए साइलेंसर की आवाज आना आपको चार चलाते समय एसा लगेगा की साइलेंसर फट गया है

आप चाहे जितना इस साइलेंसर को ठीक करवा ले परन्तु आवाज आएगी ही कुछ समय के लिए आवाज बंद हो जाएगी परन्तु फिरसे फटे हुए साइलेंसर की आवाज आने लगेगी

यह भी पढ़े :-  p0420 Catalyst System Efficiency Below Threshold (Bank 1) क्या होता है

.  इंजन में साउंड की समस्या हो जाना

साइलेंसर की मिटी निकाल देने से आपको इंजन में साउंड की समस्या उत्पन हो जाएगी क्युकी जब साइलेंसर से मिटी निकाल दी जाती है तो पुरे इंजन का फ्यूल और एयर मिक्सर खराब हो जाता है

जिसके कारण इंजन की माइलेज तो कम होती ही है इसी के साथ इंजन से अलग अलग प्रकार की साउंड की समस्या उत्पन हो जाती है और इंजन सही प्रकार से कार्य नहीं करता है

.  कार की परफोरमेंस कम हो जाना

जैसा की आपको पता ही होगा कार के इंजन में कुछ भी लगाया है वह हर पार्ट जरुरी है कार के लिए और तभी इंजन सही प्रकार से कार्य करता है

अगर इंजन में से कुछ भी निकाल दिया जाए तो समस्या उत्पन होगी ही , उसी प्रकार अगर साइलेंसर  की मिटी को निकाल दिया जाता है तो इसका असर इंजन पर पड़ेगा ही

जिसके कारण कार अछि नहीं चलेगी कार का परफोरमेंस कम हो जाएगा कार को चलाने में बिलकुल भी मजा नहीं आएगा और यह सब होता है साइलेंसर की मिटी निकाल देने के कारण

इस समस्या का उपाय क्या है जानिए 

अगर आपकी कार के साइलेंसर से मिटी निकाल दी गई है तो इस समस्या का सिर्फ एक ही उपाय है आपको दूसरा साइलेंसर बदलना पड़ेगा जिस साइलेंसर में मिटी होगी

तभी आपकी कार में समस्या खत्म होगी और कार सही चलेगी अगर आप oxygen sensor बदला लेते है और साइलेंसर को नहीं बदलते है तो समस्या ठीक नहीं होगी

इसलिए सबसे पहले चेक करे की साइलेंसर में मिटी है या नहीं अगर है तो दूसरी चीजो को चेक करे कही उनमे समस्या तो नहीं है , अगर oxygen sensor ख़राब हो जाता है और चेक इंजन लाइट on हो जाती है

तब आपको कार को स्कैन करवाना पड़ेगा और जब आप कार को स्कैन करवाते है तो आपको अगर p0420 कोड दिखाई देता है तो इसका मतलब है की या तो साइलेंसर में मिटी नहीं है या सेंसर खराब है

फिर आपको उस कोड के हिसाब से सभी चीजो को चेक करना पड़ेगा कही किसी और पार्ट में प्रोब्लम ना हो , परन्तु जहाँ तक देखा गया है की इस समस्या का उपाय सिर्फ यही है साइलेंसर को बदलना पड़ता है

यह भी पढ़े :-  P0340 कोड क्या है CHECK ENGINE LIGHT ON इसलिए होती है कार में हार्ड स्टार्टिंग की समस्या

जानिए कुछ सवालों के जवाब 

Q . साइलेंसर की मिटी निकाल देने से क्या नुक्सान होता है ?

ans . माइलेज कम हो जाती है , आईड्लिंग की समस्या उत्पन हो जाती है , इंजन में साउंड की समस्या उत्पन हो जाती है |

Q . साइलेंसर की मिटी निकाल देने के कितने दिनों बाद समस्या उत्पन होती है ?

ans . साइलेंसर की मिटी निकाल देने के 5 या 6 दिन के बाद आपको समस्या देखने को मिल जाएगी |

Leave a Comment