हाइपरग्लेसेमिया की समस्या के लिए r86 homeopathic medicine का इस्तेमाल किया जाता है हाइपरग्लेसेमिया को low blood sugar भी कहाँ जाता है

शुगर हमारे शरीर के लिए बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है क्युकी शुगर के सेवन से हमारे शरीर को उर्जा मिलती है परन्तु जब यह शुगर सामान्य से कम हो जाता है तो इस समस्या को हाइपरग्लेसेमिया कहते है

शुगर के मरीज को सबसे ज्यादा हाइपरग्लेसेमिया की समस्या होती है क्युकी वह blood शुगर को कण्ट्रोल करने के लिए मेडिसिन का प्रयोग करते है जिसे शुगर कण्ट्रोल रहता है

परंतु कभी कभी मरीज सामान्य ब्लड शुगर में ही मेडिसिन ले लेता है जिसे हाइपरग्लेसेमिया (low blood sugar) की समस्या उत्पन हो जाती है हाइपरग्लेसेमिया का एक कारण मेटाबॉलिज्म का कमजोर होना होता है

जब किसी व्यक्ति का मेटाबॉलिज्म कमजोर हो जाता है तो खाए गए खाने से मिल रहे शुगर को वह उर्जा में नहीं बदल पाता है जिसके कारण इन्सुलिन ज्यादा मात्रा में निकलने लगता है

इन्सुलिन ज्यादा निकलने के कारण हाइपरग्लेसेमिया की समस्या होती है low blood sugr होता है जिसके कारण कमजोर होती है बेचेनी होती है हार्ट बीट ज्यादा हो जाती है पसीना आता है चक्र आते है

हाइपरग्लेसेमिया की समस्या के लिए आज हम आपको homeopathic medicine के बारे में बताएगे जिसके सेवन से आपको low blood sugar में बहुत फायदा होगा

r86 medicine क्या है – what is r86 medicine in hindi

r86 medicine homeopathic medicine है जो की dr.reckeweg का एक ब्रांड है जो आपको 30ml की सीसी में ड्राप के रूप में मिल जाती है और इसका इस्तेमाल low blood sugar के लिए किया जाता है इसका प्राइस 270 रूपये है और समय के साथ यह प्राइस बदल सकता है

हाइपरग्लेसेमिया की समस्या के लिए r86 medicine के अंदर अलग अलग कुछ homeopathic medicine मिली हुई है जैसे adrenalium , arsenicum album , hepar sulphur , insulinum , nux vomica , pituitarium glandula , saccharum officinarum , oenothera biennis , hypothalamus , adenosine triphosphate इन सभी के बारे में निचे देखने को मिल जाएगा

r86 medicine का इस्तेमाल कैसे करे – r86 homeopathic medicine uses in hindi

r86 medicine का इस्तेमाल उम्र , लिंग , कोई नई या पुरानी समस्या को ध्यान में रखकर डॉक्टर की सलाह के अनुसार किया जाता है ताकि आने वाले समय में कोई समस्या न हो

r86 medicine को लेने के लिए आपको एक छोटा एक चोथाई कप पानी लेना है और उसमे r86 medicine की 10 बुँदे डालनी है और उसका सेवन करना है आपको एसा दिन में 3 बार करना है सुबह दोपहर और शाम

एक बात का ध्यान रखे की r86 medicine को खाना खाने से आधे या एक घंटे पहले ले खाली पेट इसे यह मेडिसिन बहुत अच्छा असर करती है

(1) . r86 medicine को कैसे ले

बीमारी :हाइपरग्लेसेमिया (low blood sugar)
मात्रा :10 बूंद एक समय में
दिन में कितनी बार ले :दिन में 3 बार सुबह दोपहर और शाम
खाना खाने से पहले या बाद में :खाना खाने से आधे या एक घंटे पहले ले
किसके साथ ले :छोटे एक चोथाई कप पानी के साथ
सलाह :डॉक्टर की सलाह ले
r86 medicine के लिए डॉक्टर की सलाह जरुर ले

r86 medicine के फायदे – benefits of r86 medicine in hindi

r86 medicine के फायदे इस प्रकार है

(1) . हाइपरग्लेसेमिया के लिए बहुत लाभकारी है

हाइपरग्लेसेमिया low blood sugar की समस्या है इसके दोरान रक्त में शुगर की मात्रा कम हो जाती है जिसके कारण अलग अलग समस्या होती है एसे में आपको तुरंत उच्च शुगर वाले खाद्य प्रदार्थ का सेवन करना चाहिए साथ में मेडिसिन का प्रयोग करे उसके लिए आप r86 medicine को ले सकते है यह लाभकारी है

r86 medicine के दुष्प्रभाव – side effects of r86 medicine in hindi

r86 medicine हाइपरग्लेसेमिया की समस्या के लिए बहुत लाभकारी है और r86 medicine का हमारे शरीर पर कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है

परन्तु फिर भी आप इसका सही मात्रा और सही समय पर सेवन करे और अगर कोई दुष्प्रभाव देखने को मिलता है तो आप डॉक्टर की सलाह ले और जाँच करवाए

r86 medicine की सावधानियाँ – precautions of r86 medicine in hindi

r86 medicine लेने से पहले आपको कुछ बातो का ध्यान रखना चाहिए जिसके बारे में आपको निचे देखने को मिल जाएगा जो इस प्रकार है

(1) . डॉक्टर की सलाह ले

जब भी आप r86 medicine को लेने के लिए जाए तो पहले अपनी समस्या की जांच डॉक्टर से करवाए उसके बाद ही r86 medicine का सेवन करे

(2) . शराब का सेवन न करे

शराब का सेवन आपकी समस्या को ज्यादा कर सकता है इसलिए r86 medicine लेने के दोरान r86 medicine का सेवन न करे

(3) . चाय कॉफ़ी का सेवन न करे

चाय और कॉफ़ी का सेवन सभी को पसंद होता है परन्तु आपको r86 medicine लेने से आधे या एक घंटे पहले या बाद में चाय या कॉफ़ी का सेवन नहीं करना है

(4) . मुहँ को साफ़ रखे

जब भी आप r86 medicine का सेवन करे तो उसे पहले मुहँ को साफ़ रखे मतलब प्याज और लहसुन जैसे खाद्य प्रदार्थ का सेवन नहीं करना है

(5) . r86 medicine को हिला ले

जब भी आप r86 medicine का सेवन करे तो उसे पहले r86 medicine की सीसी को अछे से हिला ले क्युकी जब मेडिसिन को रखते है तो मेडिसिन सीसी में निचे जम जाती है

(6) . exp date को चेक करे

r86 medicine को लेने के लिए जब भी स्टोर में जाए तो उसकी exp date को जरुर चेक करे क्युकी कई बार exp date निकली होती है

r86 medicine को लेने से पहले उपर बताई गई बातो का ध्यान रखे

r86 medicine की सामग्री – ingredients of r86 medicine in hindi

हाइपरग्लेसेमिया की समस्या के लिए r86 medicine के अंदर कुछ homeopathic medicine मिली हुई है जिसके बारे में निचे देखने को मिल जाएगा

(1) . आर्सेनिक एल्बम (arsenicum album)

आर्सेनिक एल्बम मुख्या रूप से मानसिक थकान को दूर करती है हम जब थका थका सा महसूस करते है तो उस थकान को यह दूर करती है साथ ही मेटाबॉलिज्म को अच्छा करती है

(2) . नक्स वोमिका (nux vomica)

नक्स वोमिका हमारे पाचन को अच्छा करती है मेटाबॉलिज्म को सही रखने में मदत करती है जिसे जो blood sugar कम होता है वह सही हो जाता है

(3) . सैकरम ऑफिसिनारम (saccharum officinarum)

low blood sugar के कारण जो इन्सुलिन ज्यादा निकलने लगता है उसके लिए सैकरम ऑफिसिनारम बहुत लाभकारी मेडिसिन है यह इन्सुलिन की मात्रा को सामान्य रखती है

(4) . ओएनोथेरा बिनेनिस (oenothera biennis)

ओएनोथेरा बिनेनिस homeopathic medicine blood sugar की समस्या के लिए बहुत लाभकारी है इसे हाइपरग्लेसेमिया की समस्या ठीक हो जाती है

(5) . एडीनोसिन ट्राइफॉस्फेट (adenosine triphosphate)

low blood sugar के दोरान उर्जो को बढाने के लिए एडीनोसिन ट्राइफॉस्फेट बहुत लाभकारी मेडिसिन है इसका सेवन कर सकते है

यह सभी homeopathic medicine r86 medicine में मिली हुई है और इन सभी medicine के कारण r86 medicine का असर बहुत ज्यादा अच्छा हो जाता है

r86 medicine को कैसे रखे – how to store r86 medicine in hindi

r86 medicine को आपको हमेशा ही सामान्य तापमान में रखना चाहिए इसके लिए आप इसे अपने कमरे के सामान्य तापमान में रख सकते है

एक बात का ध्यान रखे की आपको r86 medicine को ज्यादा गर्म व ज्यादा ठंडी जगह पर नहीं रखना है इसे मेडिसिन का असर कम हो सकता है

निष्कर्ष

आशा करते है की आपको r86 homeopathic medicine के बारे में पता चल गया होगा और अब आप r86 medicine का सही मात्रा और सही समय पर इस्तेमाल करेगे जब भी आपको low blood sugar की समस्या होती है तो शुगर वाले खाद्य प्रदार्थ का सेवन करे और डॉक्टर की सलाह ले और जाँच करवाए

related topic

बी.पी लो में कोनसा फल खाना चाहिए

मधुमेह क्या है इसके कारण लक्ष्ण घरेलू उपाय

जानिए कुछ सवालो के जवाब

Q . क्या प्रेगनेंसी के दोरान r86 medicine को ले सकते है ?

ans . प्रेगनेंसी के दोरान r86 medicine के सेवन से पहले आपको अपने डॉक्टर की सलाह ले लेनी चाहिए |

Q . क्या स्तनपान करवाने वाली महिला r86 medicine का सेवन कर सकती है ?

ans . स्तनपान करवाने वाली महिला को r86 medicine के सेवन से पहले डॉक्टर की सलाह लेना जरुरी है |

डिस्क्लेमर – जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर प्रकार से प्रयाश  किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी thedkz.com की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है