r13 homeopathic medicine का मुख्या इस्तेमाल बवासीर को ठीक करने के लिए किया जाता है बवासीर की समस्या के लिए r13 medicine बहुत अधिक फायदेमंद है

r13 medicine आपको आसानी से मार्किट में मिल जाती है r13 medicine dr.reckeweg की medicine है जो जर्मन में बनाई जाती है और इसका price 243 रूपये है

अगर आपको बवासीर की समस्या है तो आप r13 medicine का इस्तेमाल शुरू कर दे आपको बहुत फायदा होगा और अगर बवासीर की बात करे तो आज के समय में अधिकतर लोगो को यह समस्या है

बवासीर को इंग्लिश में piles भी कहते है और यह दो प्रकार की होती है पहली सामान्य बवासीर और दूसरी खुनी बवासीर दोनों ही बवासीर नुक्सानदायक होते है

खुनी बवासीर में दर्द नहीं होता है सिर्फ खून आने लगता है शुरू में आपको टॉयलेट में खून आने लगेगा , फिर खून टपकने लगता है और फिर खून पिचकारी की तरह निकलता है और इसके अंदर मसा पहले बाहर आता है

और टॉयलेट के बाद अंदर चला जाता है दूसरा है समान्य बवासीर इसमें दर्द होता है और पेट खराब रहता है आपको लम्बे समय तक कब्ज बनी रहती है काम में मन नहीं लगता है बैचेनी बनी रहती है दर्द होता है

दोनों ही बवासीर भयंकर है इसलिए आपको डॉक्टर से जांच करवाना जरुरी होता है इन दोनों बवासीर में आप r13 medicine का इस्तेमाल कर सकते है क्युकी यह एक homeopathic medicine है

आज हम आपको r13 medicine के इस्तेमाल के बारे में और इसकी सामग्री के बारे में और कुछ सावधानियों के बारे में बताएगे जिसे आपको इसे इस्तेमाल करने में समस्या नहीं होगी

ये भी पढ़ेबवासीर और पेट की समस्या के लिए-aloe socotrina uses

r13 medicine का इस्तेमाल कैसे करे (r13 homeopathic medicine uses in hindi)

r13 medicine का इस्तेमाल उम्र , लिंग , कोई नई या पुरानी बीमारी को ध्यान में रखकर डॉक्टर की सलाह के अनुसार किया जाता है ताकि मरीज को बाद में कोई समस्या न हो

आपको r13 medicine लेनी है और उसकी 10 से 15 बुँदे एक चोथाई कप पानी में डाल लेनी है और उसको मिक्स करके उसका सेवन करना है आपको एसा दिन में 3 बार करना है हर बार 10 से 15 बुँदे ले

आप इसे दिन में किसी भी समय ले सकते है पर कोशिस करे की खाना खाने के एक घंटा पहले या बाद में ही ले और अगर शुरू में समस्या ज्यादा है तो आप दिन में 4 से 5 बार ले सकते है और आराम मिलते ही 2 या 3 बार ले

इसके साथ ही कुछ चीजो से परहेज करे जैसे बहुत तीखा प्रदार्थ और नमकीन प्रदार्थ का सेवन न करे क्युकी यह दोनों प्रदार्थ बवासीर में नकसानदायक होते है

ये भी पढ़ेबवासीर की 100% असरदार दवा-aesculus hippocastanum 30 uses

(1) . व्यसक और बुजुर्ग r13 medicine इस प्रकार ले

बिमारीबवासीर /piles
मात्रा10 से 15 ड्राप एक बार में
दिन में कितनी बार ले3 बार ले , ज्यादा समस्या होने पर 4 से 5 बार ले
किस समय लेकिसी भी समय ले सकते है
परहेज करेतीखे और नमकीन प्रदार्थ से
सलाहडॉक्टर की सलाह जरुर ले
r13 medicine लेने से पहले डॉक्टर की सलाह जरुरी होती है

r13 medicine के फायदे – benefits of r13 medicine in hindi

r13 medicine का मुख्या एक ही फायदा है जो आपको निचे देखने को मिल जाएगा परन्तु यह कई लक्षणों को कम करने में मदत करता है इसलिए उन सभी लक्ष्ण के बारे में भी जानेगे

(1) . बवासीर में लाभकारी है r13 medicine

जैसा की आपको उपर बताया है की r13 medicine बवासीर में बहुत अधिक फायदेमंद है अगर आप r13 medicine का इस्तेमाल लम्बे समय तक करते हो तो आपको बवासीर से छुटकारा मिल सकता है

इसलिए अगर आपको बवासीर है तो आप r13 medicine लेना शुरू कर दे इसके साथ ही r13 medicine बवासीर में होने वाले लक्षणों से भी हमे आराम दिलाता है जानते है उन लक्षणों के बारे में

  • (1) . दर्द से आराम मिल जाता है
  • (2) . खुजली से आराम मिलता है
  • (3) . रक्तस्त्राव की समस्या कम हो जाती है
  • (4) . गुदा बढ़ने की समस्या नहीं होती है
  • (5) . गुदा मार्ग में खुजली नही होती है

r13 medicine इन सभी में भी लाभकारी है

r13 medicine के दुष्प्रभाव (side effects of r13 medicine in hindi)

r13 medicine का इस्तेमाल बवासीर की समस्या में किया जाता है और r13 medicine के दुष्प्रभाव के बारे में अभी तक कोई सुचना नहीं मिल पाई है परन्तु फिर भी आप डॉक्टर की सलाह के बाद ही r13 medicine का सेवन करे

अगर आप r13 medicine का इस्तेमाल सही तरीके से और सही मात्रा में करते हो तो आपको किसी प्रकार की समस्या नहीं होगी और आपको बवासीर में आराम मिलेगा

ये भी पढ़ेबवासीर का रामबाण आयुर्वेदिक इलाज-क्यों होता है बवासीर

r13 medicine की कुछ सावधानियाँ (precautions of r13 medicine in hindi)

r13 medicine का कोई दुष्प्रभाव नहीं है परन्तु आपको r13 medicine को लेने से पहले और बवासीर में कुछ बातो का ध्यान रखना है जिसके बारे में आपको निचे देखने को मिल जाएगा

(1) . एलर्जी होने पर r13 medicine न ले

अगर आपको किसी प्रकार की कोई एलर्जी है तो आपको r13 medicine का इस्तेमाल नहीं करना है इसे आपको समस्या हो सकती है और डॉक्टर की सलाह जरुर ले

(2) . एल्कोहल का सेवन न करे

अगर आप बवासीर के दोरान r13 medicine का इस्तेमाल कर रहे है तो आपको बिलकुल भी एल्कोहल का सेवन नहीं करना है इसे आपका बवासीर ज्यादा बढ़ सकता है इसलिए ड्रिंक बिलकुल भी न करे

(3) . बहुत तीखा , नमकीन , चाय कॉफ़ी जैसे प्रदार्थ का सेवन न करे

अगर आपको बवासीर है तो आपको r13 medicine लेने के साथ साथ आपको कुछ खाद्य प्रदार्थ से परहेज करना है जैसे बहुत तीखे और नमकीन प्रदार्थ का सेवन न करे चाय कॉफ़ी , तुअर दाल , अंडे , मांस , मछली , अचार , पापड़ का सेवन भी न करे

(4) . चिंता करना छोड़ दे

अगर आप चाहते है की r13 medicine के इस्तेमाल से आपका बवासीर ठीक हो जाए तो आपको एक बात का और ध्यान रखना होगा आपको चिंता बिलकुल नहीं करनी है किसी भी प्रकार की अपने दिमाग को शांत रखे

(5) . रात में न जागे

देखा गया है की बहुत से व्यक्ति बवासीर होने के बाद भी देर रात तक जागते रहते है यह गलत है इसे बवासीर बढ़ सकती है इसलिए देर रात तक न जागे समय अनुसार r13 medicine का सेवन कर ले

(6) . जोर लगाकर शोच न करे

जब बवासीर के कारण कब्ज की समस्या उत्पन होती है तो बहुत से व्यक्ति जोर लगाकर शोच करना शुरू कर देते है एसा न करे आपको जोर लगाकर शोच नहीं करना है इसे गुदा मार्ग छिल सकता है

(7) . r13 medicine लेने से पहले exp date चेक करे

एक बात का और ध्यान रखना है आपको जब भी आप r13 medicine को लेने जाओ तो आप एक बार exp date को जरुर चेक करले कही date निकल न गई हो इसलिए medicine को चेक करके ही ले

r13 medicine की सामग्री ( ingredients of r13 medicine in hindi)

r13 medicine के अंदर बहुत सी अलग अलग medicine मिली हुई है जो बहुत लाभकारी है जिसके बारे में आपको निचे देखने को मिल जाएगा

(1) . सल्फर

सल्फर medicine का इस्तेमला तब किया जाता है जब बवासीर के दोरान बहुत अधिक जलन की समस्या होती है उस समय में यह medicine दी जाती है

(2) . एस्कुलस हिप्पोकैस्टेनम

इस medicine का इस्तेमाल खुनी बवासीर को ठीक करने में किया जाता है जब मल त्याग के दोरान मसा लटक जाता है तो इस समस्या में यह medicine दी जाती है

(3) . कोलिनसोनिया कनाडेंसिस

जब हिप में दर्द होता है और मल त्याग करने में समस्या होती है कब्ज बनी रहती है जिसके कारण खुनी बवासीर होती है तो इस समस्या में यह medicine दी जाती है

(4) . ग्रेफाइटिस

जब मल अधिक चिपचिपा होता है और साथ ही कब्ज की समस्या होती है और मलद्वार पर खुजली होती है तो इस समस्या को ठीक करने के लिए इस medicine का इस्तेमाल होता है

(5) . हैमामेलिस वर्जिनिका

बवासीर के दोरान रक्तस्त्राव की समस्या को रोकने के लिए इस medicine का इस्तेमाल किया जाता है अगर मल त्याग करने के दोरान अधिक खून निकलता है तो यह medicine दी जाती है

(6) . काली कार्बोनिकम

जब मल बहुत हार्ड हो जाता है कब्ज हो जाती है पीठ दर्द होने लगता है साथ ही पेट फूलने लगता है तो इस समस्या में यह medicine दी जाती है

(7) . लाइकोपोडियम क्लेवेटम

मल हार्ड की समस्या में , रक्तस्त्राव होने पर , पेट फूलने की समस्या में इस medicine का इस्तेमाल किया जाता है

(8) . एसिडम नाइट्रिकम

जब आंतो में चुभन और दर्द महसूस होता है और दर्द बहुत अधिक होता है और मल त्याग करने में परेशानी होती है तब इस medicine का इस्तेमाल किया जाता है

(9) . पेओनिया ओफ्फिसिनालिस

गीली बवासीर की समस्या होने पर और साथ में मल द्वार में दर्द होने की समस्या में इस medicine का इस्तेमाल किया जाता है

यह सभी homeopathic medicine r13 homeopathic medicine में मिली हुई है और सही लाभकारी है

निष्कर्ष

आशा करते है की आपको r13 homeopathic medicine के बारे में पता चल गया होगा और आप बवासीर के दोरान इसका इस्तेमाल सही तरीके से करेगे यह समस्या गंभीर होती है इसलिए समय अनुसार बवासीर का इलाज करवाना बहुत जरुरी होता है इसलिए तुरंत डॉक्टर से जांच करवाए

जानिए कुछ सवालो के जवाब

Q . क्या प्रेगनेंसी के दोरान r13 medicine का इस्तेमाल कर सकते है ?

ans . प्रेगनेंसी के दोरान r13 medicine का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरुर ले |

Q . क्या स्तनपान करवाने वाली महिला r13 medicine का इस्तेमाल कर सकती है ?

ans . स्तन पान करवाने वाली महिला r13 medicine के इस्तेमाल से पहले डॉक्टर की सलाह जरुर ले |

Q . क्या r13 medicine हमारे हार्ट के लिए सही होती है ?

ans . r13 medicine हमारे हार्ट के लिए सही होती है |

Q . क्या r13 medicine की हमे आदत लग सकती है ?

ans . नहीं हमे इसकी आदत नहीं लग सकती है |

सन्दर्भ

https://hi.wikipedia.org/wiki/बवासीर

https://www.nhs.uk/conditions/piles-haemorrhoids/

https://www.bupa.co.uk/health-information/digestive-gut-health/haemorrhoids