r1 homeopathic medicine का इस्तेमाल मुख्या रूप से इन्फ्लेमेशन की समस्या के लिए किया जाता है जो dr.reckeweg के द्वारा जर्मन कंपनी के द्वारा बनाई जाती है

आज के समय में अधिकतर लोगो की बिमारी के लिए इन्फ्लेमेशन सबसे बड़ा कारण होता है इन्फ्लेमेशन से कई अलग अलग समस्या उत्पन होती है जैसे टॉन्सिलाइटिस , फैरिंजाइटिस , सेलपीनजाइटिस , ब्रोंकाइटिस

समस्या की जानकारी

हमारे मुहँ के अन्दर गले के पीछे उतक के दो गोल अकार के पैड होते है जिसे टॉन्सिल्स कहाँ जाता है जब टॉन्सिल्स में इन्फ्लेमेशन होता है दर्द होता है सुजन होता है तो उसे ही टॉन्सिलाइटिस की समस्या कहते है

फेरिक्स गले का एक हिसा होता है जो खाने और सांस नाली के उपर स्तिथ होता है जब फेरिक्स में जलन , दर्द , सुजन होती है तो उसे ही फैरिन्जाइटिस कहाँ जाता है जो बेक्टीरियाँ के कारण भी होता है

इस प्रकार हमारे शरीर में इन्फ्लेमेशन के कारण अलग अलग समस्या होती है r1 medicine इन्फ्लेमेशन की समस्या को खत्म कर बिमारी को ठीक करने में हमारी मदत करता है

कुछ लोगो में r1 medicine का असर जल्दी हो जाता है कुछ लोगो में थोडा लेट होता है परन्तु असर अच्छा होता है इसके साथ ही बहुत से लोगो में बुखार की समस्या होती है

तो r1 medicine बुखार को ठीक करने के लिए बहुत फायदेमंद होती है आप इसका इस्तेमाल कर सकते है क्युकी यह एक होम्योपैथिक मेडिसिन है जानते है r1 medicine के बारे में

r1 homeopathic medicine का इस्तेमाल कैसे करे

r1 homeopathic medicine uses in hindi

r1 medicine का इस्तेमाल उम्र , लिंग , कोई नई या पूरानी बिमारी को ध्यान में रखते हुए डॉक्टर की सलाह के अनुसार किया जाता है खुद अपनी मर्जी से इसका इस्तेमाल न करे

हर किसी की अलग अलग समस्या होती है उनकी उम्र अलग होती है इसलिए r1 medicine के इस्तेमाल से पहले आप डॉक्टर के पास जाकर जांच करवाए उसके बाद ही सेवन करे

r1 medicine को बच्चो से दूर रखे अगर इन्फ्लेमेशन की समस्या है तो आपको r1 medicine की 15 drops एक समय में थोड़े से पानी के साथ लेनी है और दिन में 3 बार आपको r1 medicine का इस्तेमाल करना है

आप r1 medicine  को किसी भी समय ले सकते है खाना खाने के बाद या पहले परन्तु ध्यान रहे की आप खाना खाने के 1 घंटे बाद या 1 घंटे पहले ही इस्तेमाल करे खाना खाने के तुरंत बाद न ले

(1) . व्यस्क इस्तेमाल करे

बिमारी इन्फ्लेमेशन
दिन में कितनी बार 3 बार
खाना खाने के बाद या पहले किसी भी समय ले सकते है
मात्रा 15 ड्रॉप
उम्र व्यस्क
किसके साथ ले पानी के साथ
ज्यादा मात्रा में न ले

(2) . बुजुर्ग इस्तेमाल करे

बिमारी इन्फ्लेमेशन
दिन में कितनी बार 3 बार ले
खाना खाने के बाद या पहले किसी भी समय ले
मात्रा 15 ड्रॉप
उम्र बुजुर्ग
किसके साथ ले पानी के साथ
ज्यादा मात्रा में न ले

r1 medicine इन्फ्लेमेशन , बुखार , संक्रमण के लिए फायदेमंद है परन्तु हर मरीज का मामला अलग अलग होता है इसलिए इसकी खुराक के बारे में डॉक्टर से सलाह जरुर ले

r1 medicine के फायदे

r1 medicine के बहुत फायदे है यह medicine इन्फ्लेमेशन से होने वाली अलग अलग समस्या को ठीक करने में हमारी मदत करती है जो आपको निचे देखने को मिल जाएगी

(1) . एपेंडिसाइटिस में फायदेमंद है

एपेंडिसाइटिस अपने आप में ही एक अपेंडिक्स का रोग होता है जब हमारे शरीर के अंदर अपेंडिक्स में सुजन हो जाती है दर्द होने लगता है तो यह एपेंडिसाइटिस की समस्या होती है इसमें r1 medicine फायदेमंद होती है

(2) . आर्थराइटिस में फायदेमंद है

आर्थराइटिस की समस्या होने पर हमारे जॉइंट में समस्या होने लगती है उसमे सुजन होने लगती है साथ ही तेज दर्द होने लगता है जॉइंट मूवमेंट में समस्या होती है इसमें भी r1 medicine फायदेमंद होती है

(3) . ब्रोन्किइक्टेसिस में फायदेमंद है

हमारे सांस लेने वाले हिसे में टॉन्सिल्स होता है जो और जब इसमें सुजन हो जाती है दर्द होने लगता है जिसे समस्या उत्पन हो जाती है तो इसे ही ब्रोन्किइक्टेसिस कहते है जो इन्फ्लेमेशन के कारण होती है जिसमे हम r1 medicine का इस्तेमाल कर सकते है

(4) . कोलाइटिस में फायदेमंद है

जब हमारे बड़ी आंत में समस्या होती है जैसे सुजन और दर्द होता है तो उसे ही कोलाइटिस की समस्या कहते है जब कोलाइटिस की समस्या होती है तो बड़ी आंत की परत की कोशिकाए नष्ट हो जाती है जिसके कारण अल्सर भी हो जाता है इसमें r1 medicine ले

(5) . कंजक्टिवाइटिस में फायदेमंद है

जब हमारी आँखों में इन्फेक्शन होता है तो उसे कंजक्टिवाइटिस कहाँ जाता है कंजक्टिवाइटिस होने पर आँखों में सुजन , दर्द होने लगता है आँखे लाल हो जाती है आँखे लाल या गुलाबी हो जाती है इसके लिए भी आप r1 medicine ले सकते है

(6) .  डर्माटाइटिस में फायदेमंद है

डर्माटाइटिस हमारी तवचा से जुडी समस्या होती है और इसे एग्जिमा भी कहते है जब डर्माटाइटिस की समस्या होती है तो तवचा में इन्फेक्शन होता है सुजन और जलन होने लगती है इसके लिए आप r1 medicine ले सकते इसे तवचा की समस्या कम होगी

(7) . हेपेटाइटिस में फायदेमंद है

हेपेटाइटिस लिवर से जुडी एक बिमारी है जो इन्फ्लेमेशन के कारण होती है यह समस्या होने पर लिवर में सुजन होने लगती है दर्द होने लगता है इस समस्या के लिए r1 medicine बहुत फायदेमंद होती है

(8) . ‎सिस्टाइटिस में फायदेमंद है

मूत्र मार्ग में होने वाली सुजन और दर्द की समस्या को सिस्टाइटिस कहते है यह समस्या जीवाणु और संक्रमण से होती है इसके लिए आप r1 medicine का इस्तेमाल कर सकते है आपको फायदा होगा

(9) . बुखार में फायदेमंद है

बहुत से लोगो में बुखार की समस्या होती है वायरल इन्फेक्शन हो जाता है संक्रमण हो जाता है जिसके कारण दर्द थकान होने लगती है इसके लिए r1 medicine बहुत लाभकारी है यह बुखार को ठीक करती है

उपर बताई गई सभी समस्या में r1 medicine का इस्तेमाल आप कर सकते है यह इन्फ्लेमेशन से होने वाली समस्या को रोक उसे ठीक करने में मदत करता है

r1 medicine के नुकसान

r1 medicine एक homeopathic medicine है और इसके इस्तेमाल से आपको किसी प्रकार का कोई साइड इफेक्ट्स नहीं होगा इसलिए आप इसका इस्तेमाल कर सकते है

इसके अलावा हर व्यक्ति की उम्र और उसकी समस्या अलग अलग हो सकती है इसलिए इसकी dose और इस्तेमाल के लिए या इस्तेमाल से पहले डॉक्टर की सलाह जरुर ले

r1 medicine की कुछ सावधानियाँ

r1 medicine लेने से पहले आपको कुछ सावधानियाँ रखनी जरुरी है जो आपको निचे देखने को मिल जाएगी

(1) . अगर r1 medicine से एलर्जी है तो इसे न ले

अगर आपको r1 medicine से किसी प्रकार की एलर्जी की समस्या है तो आप r1 medicine का इस्तेमाल बिलकुल भी न करे इसे आपकी एलर्जी की समस्या बढ़ सकती है

(2) . बच्चो को r1 medicine न दे

आपको r1 medicine को बच्चो को बिलकुल भी नहीं देनी है आपको r1 medicine को बच्चो से दूर रखनी है इसका इस्तेनाल सिर्फ व्यस्क और बुजुर्ग कर सकते है

(3) . शराब के साथ r1 medicine का इस्तेमाल न करे

एक बात का आपको अच्छे से ध्यान रखना है की आपको r1 medicine का इस्तेमाल किसी भी नशीले प्रदार्थ के साथ नहीं करना है इसे आपकी समस्या बढ़ सकती है

(4) . प्रेगनेंसी में r1 medicine न ले

आपको प्रेगनेंसी के दोरान r1 medicine का इस्तेमाल नहीं करना है और अगर किसी प्रकार की समस्या होती है तो आप डॉक्टर की सलाह जरुर ले

(5) . r1 medicine को अछे से पढ़े

r1 medicine फायदेमंद है परन्तु आपको इसके इस्तेमाल से पहले इसको अछे से पढना है इसकी exp डेट निकल तो नहीं गई है इसको पूरा पढने के बाद इसे इस्तेमाल करे

r1 medicine की कुछ सामग्री

r1 medicine में अलग अलग ingredients मिलाए गए है जो आपको निचे देखने को मिल जाएगा

(1) . एपिस मेलिफिका (apis mellifica)

(2) . बेरियम क्लोरेटम (barium chloratum)

(3) . बेलाडोना (belladonna)

(4) . कल्केरिया  (Calcarea Iodata)

(5) . हेपर सल्फूरिस (hepar sulfuris)

(6) . मेंरम वेरम (marum verum)

(7) . फाइटोलक्का (phytolacca)

r1 medicine को कैसे स्टोर कर सकते है

r1 medicine को आपको कमरे के तापमान में रखना है या कह सकते है की आपको r1 medicine को समान्य तापमान में रखना होता है यह इसका सही तरीका है

इसके अलावा ध्यान रखे की आप r1 medicine को जादा ठंडे और जादा गर्म तापमान में ना रखे बहुत से लोग अधिक ठंडी जगह पर रख देते है यह गलत तरीका है इसे कमरे के तापमान में रखे

निष्कर्ष

आशा करते है की आपको r1 homeopathic medicine uses in hindi के बारे में पता चल गया होगा , यह बहुत सी अछि medicine है परन्तु इसके अलावा आपको कुछ सावधानियां रखनी है और डॉक्टर की सलाह लेनी है जिसे आगे चलकर कोई समस्या ना हो आपको

related topic 

dr.reckeweg r87 medicine का इस्तेमाल बैक्टीरियल संक्रमण के लिए किया जाता है

r8 medicine का इस्तेमाल मुख्या रूप से खांसी को ठीक करने के लिए किया जाता है

जानिए कुछ सवालो के जवाब

Q . क्या R1 Medicine जल्दी असर करती है ?

ans . नहीं यह थोडा लेट असर करती है परन्तु कुछ लोगो में यह अपना असर जल्दी दिखा देती है |

Q . क्या R1 Medicine पूरी तरह से समस्या को ठीक कर देता है ?

ans . R1 Medicine समस्या को पूरी तरह ठीक नहीं कर पाती है अगर करती भी है तो बहुत समय लेती है इसके लिए डॉक्टर से सम्पर्क करे |

डिस्क्लेमर – जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर प्रकार से प्रयाश  किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी thedkz.com  की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है

Categorized in: