बाइक का माइलेज कैसे चेक करें जाने एक्सपर्ट से

माइलेज क्या होता है यह सवाल सबके मन में आता होगा , सभी गाडियों की माइलेज अलग अलग होती है वो कंपनी के नियम अनुसार तय की जाती है , (जब कोई कंपनी किसी शर्त के अनुसार किसी गाडी की माइलेज सेट करती है और हम उसी शर्त के अनुसार गाडी को चलाते है उसी फ्यूल कंडीसन के अनुसार हम गाडी चलाते है उसे माइलेज कहाँ जाता है )

और आप जानेगे की बाइक का माइलेज कैसे चेक करें आसानी से हमारे सिंपल स्टेप को फॉलो कर सके 

हम कभी कंपनी की सेट की गयी फ्यूल कंडीसन के अनुसार हम गाडी से जादा माइलेज प्राप्त नहीं कर सकते | जेसे बजाज प्लेटिना 1 लीटर में 65 या 70 किलोमीटर चलती है तो हीरो स्प्लेंडर 1 लीटर तेल में 50 या 55 तक ही चलती है , Honda activa जो 1 लीटर में 40 या 45 किलोमीटर तक चलती है |

तो इस कंडीसन को हम माइलेज कह सकते है और सभी कंपनी की अलग अलग कंडीसन होती है और इसी फ्यूल के अनुसार हमें गाडी चलानी पड़ती है |

बाइक का माइलेज कैसे चेक करें जाने एक्सपर्ट से

बाइक का माइलेज कैसे चेक करें 

Contents

माइलेज चेक करने के बहुत से तरीके होते है जिसे आप आसानी से माइलेज का पता कर सकते है –

1 . टैंक फुल करके

यह पहला तरीका है जिसे आप माइलेज का पता कर सकते है , आप अपनी गाडी के टेंक फुल कर लो और जब टेंक फुल किया हो तब मीटर रीडिंग को not कर लो और गाडी को चला कर चेक करलो|

और पढ़े –head gasket क्या है मैकनीक एडवाइस | what is a head gasket problem 2021

जब फ्यूल ख़त्म हो जाए तो उसके बाद मीटर रीडिंग फिरसे चेक करे और दखे कितने किलोमीटर गाडी चली है और कंपनी के शर्त के अनुसार जो लिमिट है उसे अपनी not की हुई माइलेज से मिलाये आपको पता चल जाएगा |

2 . पूरा एक लीटर फ्यूल डालकर

आप अपनी गाडी की फ्यूल टैंक में 1 लीटर फ्यूल डाले और मीटर रीडिंग को लिख ले और चेक करे एक लीटर तेल में कितना किलोमीटर आपकी गाडी चली है और एवरेज को चेक करे , अपनी बाइक के एवरेज के अनुसार चेक कर ले |

3 . फ्यूल बंद करके 

इस तरीके से आप बाइक की माइलेज चेक कर सकते है , आपको अपनी बाइक की मीटर रीडिंग को लिख लेना है और उसके बाद अपने फ्यूल की सप्लाई को बंद कर देना है और उसके बाद अपनी बाइक को स्टार्ट करना है और जब तक चलानी है जब तक बंद ना हो जाए और जब बाइक बंद हो जायेगी तो फिरसे मीटर रीडिंग चेक करनी है |

अगर तेल को बंद करने के बाद 1.50 या 2 किलोमीटर बाइक चलती है तो इसका मतलब माइलेज ठीक है लेकिन अगर आधा किलोमीटर भी नहीं चल पाती तो इसका मतलंब आपकी बाइक माइलेज नहीं दे रही है जितना कंपनी ने तय कर रखा है |

ये कुछ तरीके है जिसे आप माइलेज और एवरेज चेक कर सकते है |

माइलेज कम होने के कारण

जब हम कंपनी से गाडी लेकर आते है तो वह बिलकुल सही माइलेज देती है लेकिन कुछ दिन बाद यही सुने को मिलता है की पहले मेरी गाडी अच्छी माइलेज देती थी लेकिन बाद में कम हो गयी है इसके कुछ कारण होते है जानिये –

1 . कारबोरेटर की सेटिंग की वजह से

जब भी आप नयी बाइक लेकर आते है तो आप एजेंसी में सर्विस करवाने के बाद जब बाहर सर्विस की जाती है तो मिस्त्री कारबोरेटर की सेटिंग को बदल देता है जिसके कारण माइलेज कम हो जाती है जब भी आप नयी बाइक या स्कूटर लेकर आते है तो आप कभी भी कारबोरेटर को साफ़ न करवाए जब कारबोरेटर में समस्या हो तभी खुलवाये|

2 . AIR फ़िल्टर का गन्दा होना

माइलेज कम होने का एक कारण होता है air फ़िल्टर का गन्दा होना , अगर आप चाहते है की आपकी बाइक की माइलेज बिलकुल पहले जेसी हो जाए तो हर सर्विस पर air फ़िल्टर clean करवाए या change करवा दे इसे आपकी माइलेज में कोई कमी नहीं आएगी |

3 . missing का होना बाइक में

missing एक एसी समस्या होती है जिसके कारण सिर्फ बाइक के चलने में ही नहीं बल्कि उसकी माइलेज में भी बहुत फर्क पड़ता है जब हमारी बाइक में किसी वजह से missing होती है तो बाइक आराम आराम से चलती है pickup नहीं लेती |

जिसके कारण बाइक race तो पकडती है लेकिन missing के कारण फ्यूल पीती रहती है जिसे बाइक माइलेज नहीं देती इसलिए missing समस्या को भी चेक करवा लेना चाहिए |

और पढ़े –सबसे अच्छा इंजन ऑयल कौन सा है 2021 | which is the best engine oil in hindi

4 . इंजन का कमजोर हो जाना

यह सबसे बड़ा कारण होता है माइलेज कम होने का बहुत से लोगो का कहना होता है की उनकी बाइक अच्छी चल रही है कोई मिसिंग नहीं है लेकिन माइलेज अच्छी नहीं है , इसका कारण होता है आपके इंजन के पार्ट्स

अगर आपके इंजन में टाइमिंग चेन , क्लच प्लेट , piston , crank या टेपट लूस हो तो भी आपकी बाइक में माइलेज की कम होने की समस्या होती है क्युकी जब इंजन में कोई पार्ट ख़राब होता है तो वह अच्छे से काम नहीं कर पाता जिसके कारण आपकी बाइक की pickup कम होती है और माइलेज कम हो जाती है |

इसलिए आप इंजन के छोटे छोटे पार्ट को समय अनुसार चेक करवाए या change करवा दे |

जानिये कुछ प्रशन के उतर

जानिये कुछ प्रशन के उतर

Q . गाड़ी का सही माइलेज केसे पता करे ?

ans . आप फ्यूल बंद करके या फ्यूल टैंक को फुल करके गाडी का सही माइलेज पता कर सकते है , मीटर रीडिंग not करके |

Q . एक गाडी के लिए माइलेज और एवरेज क्या होता है ?

ans . अगर माइलेज की बात करे तो किसी कंपनी की तय की गयी फ्यूल की दर को माइलेज कह सकते है और एवरेज जब हम एक लीटर फ्यूल में हमारी गाडी कितनी चली है इसको हम एवरेज कह सकते है |

Q . क्या गाड़ी को आराम से चलाने पर माइलेज बढ़ जाता है ?

ans . नहीं गाडी को आराम से चलाने से आपके माइलेज नहीं बढ़ेगी , क्युकी जब आप गाडी स्टार्ट करते है उसी समय से ही गाडी फ्यूल पीना सुरु कर देती है फिर चाहे आप गाडी तेज चलाओ या कम इसे कोई फर्क नहीं पड़ता है |

Q . कंपनी के फ्यूल शर्त से कम माइलेज क्यों देती है गाड़ी ?

ans . माइलेज कम होने की अपनी लापरवाही होती है जब हम सिर्फ बाइक या कोई भी गाडी चलाते है तो उसको अच्छे तरीके से ठीक या सर्विस नहीं करवाते जिसके कारण माइलेज कम होती जाती है |

Q . कार में जादा ac चलाने से माइलेज में कितना फर्क पड़ता है ?

ans . कार में अगर आप जादा ac चलाते है तो आपकी गाडी की एवरेज में 2 किलोमीटर का फर्क पड़ सकता है |

Q . सबसे अधिक माइलेज वाली बाइक का क्या नाम है ?

ans . सबसे अधिक माइलेज देने वाली बाइक है बजाज प्लेटिना व् बजाज सिटी 100 यह बाइक माइलेज के मामले में सबसे अच्छी है |

Q . alto कार की माइलेज कितनी होती है ?

ans . alto कार की माइलेज 18 + होती है ,यह कार 1 लीटर तेल में 18 की माइलेज दे देती है |

Q . जब हम छोटे gear में गाडी चलाते है तो माइलेज में फर्क पड़ता है या नहीं ?

ans . जी हां अगर हम छोटे gear में गाडी चलाते है तो माइलेज में फर्क पड़ता है क्युकी छोटे gear में गाडी घुट घुट कर चलती है हम race तो पूरी देते है लेकिन gear छोटा होने के कारण गाडी pickup न पकड़ने के कारण फ्यूल खाती है और माइलेज में फर्क पड़ता है |

 

SADDAM HUSSAIN

मेरा नाम सद्दाम हुसैन है मैं एक ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग हु मैं कार और बाइक दोनों का काम करता हु मेरी OK मोटर के नाम से वर्कशॉप है जो यमुनानगर जिले के छछरौली रोड पर है जो आपको मैं बताऊंगा वो सिर्फ एक मैकेनिक ही बता सकता है हमारा उद्देश्य है आपको ऑटोमोबाइल के बारे में सही जानकारी देना जिसे आपके पेसे भी बचे और आपको अच्छी जानकारी मिले |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *