R55 homeopathic medicine का इस्तेमाल मोच और चोट को ठीक करने के लिए किया जाता है अगर आपको चोट लग गई है या कही पर मोच लग गई है तो R55 medicine बहुत लाभकारी है इसका सेवन कर सकते है

R55 medicine सभी प्रकार की Injury के लिए इस्तेमाल की जाती है अगर आपको कही पर कट गया है और घाव बन गया है या फिर किसी झटके के कारण अन्दुरुनी चोट लग गई है और दर्द हो रहा है

तो R55 medicine का सेवन आप आसानी से कर सकते है इसे घाव और चोट की समस्या में आराम मिलता है इसलिए आज हम आपको R55 homeopathic medicine के बारे में पूरी जानकारी देंगे जो इस प्रकार है

R55 medicine क्या है – What is R55 medicine in hindi

R55 medicine एक homeopathic medicine है जो जर्मन का Dr.reckeweg का एक ब्रांड है जो आपको किसी भी homeopathic store से मिल जाएगी R55 medicine को Rutavine – All kinds of injuries के नाम से भी जाना जाता है

चोट घाव अलग अलग प्रकार की होती है जैसे एक घाव जो हमे बाहर की तरफ दिखाई देता है जैसे अगर हमे किसी नोकीली वस्तु से कट लग जाता है और खून निकलता है और घाव बन जाता है

दूसरा की जब हम कोई काम करते है और उस समय में अचानक से हमे चोट लग जाती है पर वह चोट बाहर नहीं दिखाई देती अन्दुरुनी चोट होती है पर दर्द अधिक है

इसके अलावा कई बार हम चल रहे होते है और अचानक से पैर मुड़ जाता है और मोच लग जाती है और दर्द होता है यह सभी अलग अलग समस्या है और इन सभी समस्या में R55 medicine का सेवन कर सकते है

R55 medicine के अंदर कुछ medicine मिली है जैसे Arnica montana , Belladonna , Calendula officinalis , Echinacea angustifolia , Hamamelis virginica , Rush toxicodendron , Ruta graveolens , Symphytum officinale . इन सभी मेडिसिन के बारे में निचे देखने को मिल जाएगा

R55 medicine का इस्तेमाल कैसे करे – R55 homeopathic medicine uses in hindi

Dr.reckeweg R55 medicine का इस्तेमाल उम्र , लिंग , कोई नई या पुरानी बिमारी को ध्यान में रखकर डॉक्टर की सलाह के बाद किया जाता है ताकि बाद में कोई समस्या न हो

R55 medicine को लेने के लिए आपको एक चोथाई कप पानी लेना है और उसमे R55 medicine की 10 बुँदे डालनी है और उसका सेवन करना है

आपको दिन में 3 बार R55 medicine का सेवन करना है और एक समय में 10 बुँदे लेनी है इसका सेवन आपको खाना खाने के आधे घंटे पहले खाली पेट करना है

अगर आपको दर्द ज्यादा है और दर्द पुराना है तो आप दिन में 4 से 5 बार भी इसका सेवन कर सकते है पर सिर्फ समस्या ज्यादा होने पर ही मात्रा को बढाए

(1) . R55 medicine का सेवन करे

बिमारीघाव , चोट , मोच
मात्रा10 बुँदे एक समय में
दिन में कितनी बारदिन में 3 बार समस्या ज्यादा होने पर 4 से 5 बार
खाना खाने के बाद या पहलेखाना खाने से आधे घंटे पहले ले खाली पेट
किसके साथ लेएक चोथाई कप पानी के साथ
सलाहडॉक्टर की सलाह जरुर ले

R55 medicine के फायदे – Benefits of R55 medicine in hindi

Dr.reckeweg R55 medicine के फायदे इस प्रकार है

(1) . सभी प्रकार की injury के लिए लाभकारी है

R55 medicine का इस्तेमाल सभी प्रकार की चोट , मोच , घाव , हडी की टूटने की समस्या के लिए लाभकारी है अगर आप लगातार R55 medicine का सेवन करते है तो उसे बाहरी चोट और अंदरूनी चोट बिलकुल ठीक हो जाती है और आपको आराम मिलता है

R55 medicine के दुष्प्रभाव – Side effects of R55 medicine in hindi

R55 medicine का इस्तेमाल घाव , चोट आदि को ठीक करने के लिए किया जाता है और R55 medicine का हमारे शरीर पर कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है

परन्तु फिर भी आपको R55 medicine को लेने से पहले डॉक्टर की सलाह लेना बहुत जरुरी होता है अपनी मर्जी से इसका सेवन न रे

R55 medicine की सावधानियाँ – Precautions of R55 medicine in hindi

Dr.reckeweg R55 medicine को लेने से पहले आपको कुछ बातो का ध्यान रखना चाहिए जो इस प्रकार है

(1) . डॉक्टर की सलाह ले

अगर आपको कही पर चोट लगी है और खून निकल रहा है तो आप पहले डॉक्टर के पास जाए उसके बाद ही R55 medicine का सेवन करे

(2) . शराब का सेवन न करे

अगर आप R55 medicine का सेवन कर रहे है या करना चाहते है तो आपको शराब का सेवन नहीं करना है इसे medicine का असर कम हो सकता है

(3) . चाय कॉफ़ी का सेवन न करे

R55 medicine के सेवन के आधे या एक घंटे पहले या बाद में आपको चाय कॉफ़ी का सेवन नहीं करना है इसे R55 medicine का असर कम हो सकता है

(4) . मांस का सेवन न करे

कुछ लोगो को मांस का सेवन करना अच्छा लगता है परन्तु अगर आप R55 medicine का सेवन कर रहे है तो आपको मांस का सेवन नहीं करना है या बहुत कम मात्रा में सेवन करना है

(5) . मेडिसिन को लेने से पहले मुहँ को साफ़ रखे

जब भी आप R55 medicine का सेवन करे तो उसे पहले या बाद में आपको प्याज जैसे खाद्य प्रद्राथ का सेवन न करे इसे मुहँ में बदबू आती है इसलिए R55 medicine को लेने से पहले मुहँ को साफ़ रखे

(6) . exp date को जरुर चेक करे

जब भी R55 medicine को लेने के लिए जाए तो आप उसकी exp date को जरुर चेक करे उसके बाद ही R55 medicine को ले

अगर आप R55 medicine का सेवन कर रहे है तो आपको उपर बताई गई बातों का ध्यान रखना है

R55 medicine की सामग्री – Ingredients of R55 medicine in hindi

Dr.reckeweg R55 medicine के अंदर अलग अलग homeopathic medicine मिली हुई है जिसके बारे में आपको निचे देखने को मिल जाएगा जो इस प्रकार है

(1) . अर्निका मोंटाना (arnica montana)

अगर आपको चोट लग जाती है और वहां पर नीला पड़ जाता है और दर्द होता है तो उस समय में अर्निका मोंटाना खून के संचार को बढ़ा देती है जिसे जो चोट पर नीला पड़ता है और दर्द होता है तो अर्निका मोंटाना उस नीलेपन को और दर्द को कम करती है

(2) . बेलाडोना (Belladonna)

अगर आपको चोट लगती है और चोट वाली जगह लाल हो जाती है और उसमे जलन और बहुत तेज दर्द होता है और चोट वाली जगह अगर गर्म है तो उसके लिए बेलाडोना बहुत अच्छा फायदा करती है

(3) . कैलेंडुला ऑफिसिनैलिस (Calendula officinalis)

अगर आपको बाहर की चोट लगती है कही पर कट जाता है या छिल जाता है और खून निकलता है तो आप कैलेंडुला ऑफिसिनैलिस का इस्तेमाल कर सकते है इसे लगा भी सकते है और इसका सेवन भी कर सकते है

(4) . इचिनेशिया एंगुस्टिफोलिया (Echinacea angustifolia)

इचिनेशिया एंगुस्टिफोलिया मेडिसिन हमारी इम्यून पॉवर को बढाता है साथ ही अगर आपको कही पर कट जाता है और खून निकलता है तो इचिनेशिया एंगुस्टिफोलिया के सेवन से यह घाव जल्दी ठीक हो जाता है

(5) . हमामेलिस वर्जीनिका (Hamamelis virginica)

अगर आपको कही पर कट गया हो और कुछ निकल रहा हो तो आप हमामेलिस वर्जीनिका को अप्लाई कर सकते है इसका सेवन भी कर सकते है इसे जल्दी ही खून रुक जाता है इसे आप रुई की मदत से घाव पर लगा सकते है

(6) . रस टॉक्सिकोडेंड्रोन (Rush toxicodendron)

अगर आपके हडी में कही पर चोट लग गई हो और बैठने में समस्या होती है दर्द होता है तो आप रस टॉक्सिकोडेंड्रोन का सेवन कर सकते है

(7) . रूटा ग्रेवोलेंस (Ruta graveolens)

रूटा ग्रेवोलेंस तब दी जाती है जब आपको कोई चोट लगी हो और चोट ठीक होने के बाद भी दर्द होता है और दर्द लम्बे समय तक बना रहता है तो रूटा ग्रेवोलेंस बहुत लाभकारी है

(8) . सिम्फाइटम आफिसिनेल (Symphytum officinale)

अगर आपकी कोई हडी टूट गई है और डॉक्टर ने उसे जोड़ दिया है और उसके बाद आपको आराम करने को कहाँ है उस समय में आप सिम्फाइटम आफिसिनेल ले सकते है आपको लाभ होगा यह हडी को जोड़ने में मदत करती है

यह सभी homeopathic medicine R55 homeopathic medicine में मिली हुई है और जिसके कारण R55 medicine का असर ज्यादा हो जाता है आप इन medicine को अलग से भी ले सकते है

R55 medicine को कैसे रखे – How to store R55 medicine in hindi

आप R55 medicine को आसानी से सामान्य तापमान में रख सकते है इसके लिए आप इसे अपने कमरे के समान्य तापमान में रख सकते है

बस आपको एक बात का ध्यान रखना है की आपको इसे ज्यादा गर्म व ज्यादा ठंडी जगह पर नहीं रखना है इसे मेडिसिन का असर कम हो सकता है

निष्कर्ष

आशा करते है की आपको R55 homeopathic medicine के बारे में पता चल गया होगा और अब आप सही तारीके से R55 medicine का इस्तेमाल करेगे R55 medicine बहुत ही लाभकारी मेडिसिन है इसलिए इसका इस्तेमाल लगातार करे और अगर कही पर चोट या कट जाता है तो पहले डॉक्टर से मिले और जाँच करवाए उसके बाद आप R55 medicine को ले सकते है

related topic

पैर की मोच के घरेलू उपाय

r80 homeopathic medicine का इस्तेमाल चोट और मांशपेशियो में दर्द के लिए किया जाता है

जानिए कुछ सवालों के जवाब

Q . R55 homeopathic medicine का प्राइस क्या है ?

ans . R55 medicine का प्राइस 256 रूपये है इसका प्राइस आपके मेडिसिन खरीदने के उपर निर्भर करता है |

Q . क्या प्रेगनेंसी के दोरान R55 homeopathic medicine का सेवन कर सकते है ?

ans . हाँ प्रेगनेंसी के दोरान भी आप R55 medicine का सेवन कर सकती है |

डिस्क्लेमर – जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर प्रकार से प्रयाश  किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी thedkz.com की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है