आज हम बात करेगे ब्रेक क्या है और कैसे कार्य करता है ब्रेक किसी भी वाहन को रोकने के लिए बहुत ज्यादा आवश्यक होते है वाहन में ब्रेक होने के कारण ही समय पर वाहन को रोका जाता है जिसके कारण हम हर रोज बहुत सी दुर्घटना से बचते है

अगर वाहन में ब्रेक नहीं होगे तो हर रोज दुर्घटना होगी और हम वाहन को रोक भी नहीं पाएगे वाहन में ब्रेक अलग अलग प्रकार की होती है परन्तु सभी ब्रेक का काम वाहन को रोकना है

सभी कार में आगे वाली ब्रेक डिस्क ब्रेक होती है और पीछे वाली ब्रेक ड्रम ब्रेक होती है जिसमे ब्रेक लेदर होते है इसी प्रकार बाइक में आगे और पीछे वाले पहिए में ड्रम ब्रेक होते है और वायर के साथ काम करती है

अब कार और बाइक में आज के समय में anti lock breaking system ( abs ) आ रहा है यह कार और बाइक के ब्रेक के लिए बहुत जादा फायदेमंद होता है और ब्रेक सही काम करती है

अब हम बात करते है की ब्रेक क्या है और ब्रेक काम कैसे करती है साथ ही हम आपको बताएगे की abs ब्रेक कैसे काम करती है और कैसे यह फायदेमंद है जानिए

ब्रेक क्या है

गति में चल रहे वाहन को रोकने के लिए जिस वस्तु का इस्तेमाल किया जाता है उसे ब्रेक कहते है जो वाहन को दुर्घटना होने से बचाता है उसे ब्रेक कहाँ जाता है और सभी वाहन में ब्रेक लगी होती है

ब्रेक का इस्तेमाल जब स्पीड में वाहन चल रहा होता है और उसकी स्पीड को कम करने के लिए और जहाँ हम वाहन को रोकना चाहते है उसे उस जगह पर रोकने के लिए ब्रेक का इस्तेमाल किया जाता है

सभी वाहन में ब्रेक अलग अलग प्रकार से काम करती है अगर साइकिल की बात की जाए तो उसमे रबर के गुटके लगे होते है और जब हम ब्रेक लगाते है तो वह गुटके रिम पर चिपक जाते है और साइकिल रुक जाती है

एक ब्रेक होती है जिसे डिस्क ब्रेक कहाँ जाता है जिसका इस्तेमाल सबसे ज्यादा कार और बाइक में किया जाता है इसमें एक rotor लगा होता है और यह brake rotor दोनों तरफ से प्लेन होता है

और इस brake rotor के उपर एक caliper लगा होता है और इस caliper में दो डिस्क पेड़ लगे होते है और जब हम ब्रेक पेडल दबाते है तो डिस्क पेड़ brake rotor से चिपकते है और वाहन की गति रुक जाती है इसे हाइड्रोलिक ब्रेक कहा जाता है

इसके बाद इलेक्ट्रोनिक ब्रेक की बात की जाए तो यह एबीएस ब्रेक होती है और यह कार के ecm के साथ connect होती है और ब्रेक में abs स्पीड सेंसर लगा होता है जिसे हमारा वाहन ब्रेक मारने पर फिसलती नहीं है

इसके अलावा एक preassure ब्रेक होती है जो हवा के साथ काम करती है और इस ब्रेक का इस्तेमाल ट्रक में किया जाता है इसे पॉवर ब्रेक भी कहाँ जाता है ट्रक में ड्रम ब्रेक होने के कारण भी यह ब्रेक पॉवर होती है और जल्दी से वाहन को रोकती है

ब्रेक के प्रकार

ब्रेक में मुख्या रूप से तीन प्रकार के ब्रेक का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है जानिए उन दो प्रकार के ब्रेक के बारे में जो इस प्रकार है

(1) . डिस्क ब्रेक

डिस्क ब्रेक का इस्तेमाल सबसे ज्यादा कार में किया जाता है और अब बाइक में भी डिस्क ब्रेक का बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया जाने लगा है डिस्क ब्रेक में डिस्क ped होते है

जो rotor के साथ चिपक जाते है और वाहन को रोक देते है डिस्क ब्रेक में एक booster और master cylinder लगा होता है औरmaster cylinder में brake oil होता है

और जब हम ब्रेक पेडल को दबाते है तो ब्रेक आयल caliper को प्रेस करता है जिसके कारण ब्रेक ped rotor से चिपक जाते है और ब्रेक लगती है

(2) . ड्रम ब्रेक

ड्रम ब्रेक का इस्तेमाल सबसे ज्यादा पीछे वाले पहिए में किया जाता है और बाइक में ड्रम ब्रेक का इस्तेमाल दोनों ही पहियों में किया जाता है परन्तु बाइक और कार में ड्रम ब्रेक अलग अलग प्रकार से काम करती है

ड्रम ब्रेक में लेदर होते है यह लेदर दो होते है जिनका आकार चाँद के जैसा होता है और यह दोनों लेदर ड्रम में चिपकते है और वाहन रुकता है और ब्रेक लगती है

कार के ड्रम ब्रेक में एक wheel cylinder लगा होता है जो ब्रेक पेडल के साथ खुलता और बंद होता है जब हम ब्रेक पेडल दबाते है तो ब्रेक आयल व्हील सिलेंडर को प्रेस करता है

जब यह wheel cylinder प्रेस होता है तो इसमें दोनों तरफ से बुश निकलता है और ब्रेक लेदर को प्रेस करता है उसके बाद ब्रेक लेदर ड्रम में चिपक जाते है और वाहन की गति धीमी हो जाती है

बाइक में आगे और पीछे ड्रम ब्रेक होती है और इस ड्रम में दो लेदर होते है जो एक प्लेट में लगे होते है और इसी प्लेट में एक लीवर लगा होता है और यह प्लेट ड्रम में लगती है

और इस लीवर में एक तार लगी होती है जो हमारे हाथ के पास लगे लीवर में कनेक्ट होती है जब हम हाथ में लगे लीवर को दबाते है तो ड्रम प्लेट में लगा लीवर भी दबता है जिसे ब्रेक लेदर खुलते है और ड्रम में चिपक जाते है और ब्रेक लगते है

(3) . इलेक्ट्रोनिक ब्रेक

इलेक्ट्रोनिक ब्रेक का इस्तेमाल सबसे जादा नई कार और बाइक में किया जा रहा है इसके इस्तेमाल से बहुत सी दुर्घटना को कम किया गया है इसे कार या बाइक ब्रेक मारने पर फिसलती नहीं है

और इस ब्रेक सिस्टम को abs कहाँ जाता है इसमें abs स्पीड सेंसर चारो पहिए में लगा होता है और यह स्पीड सेंसर ecm से कनेक्ट होते है साथ ही एक abs कण्ट्रोल मोडूल लगा होता है

abs ब्रेक सिस्टम में जब हम ब्रेक पेडल को दबाते है तो abs कण्ट्रोल मोडुल और abs स्पीड सेंसर के कारण ब्रेक ped एकदम से रूटर से नहीं चिपकते है ब्रेक ped खुलते और बंद होते रहते है जिसे वाहन फिसलता नहीं है

ब्रेक काम कैसे करती है

कार और बाइक में ब्रेक काम कैसे करती है जानिए

(1) . कार में ब्रेक कैसे काम करती है

ब्रेक सिस्टम को समझना बहुत आसान होता है और कार के ब्रेक सिस्टम में बहुत से पार्ट लगे होते है जैसे caliper , ब्रेक ped , brake oil , rotor , master cylinder , booster , पाइप , wheel cylinder , ब्रेक लेदर

कार में ब्रेक पेडल में booster और बूस्टर में master cylinder जुड़ा होता है और इस master cylinder में चार पाइप जुड़े होते है और यह चारो पाइप चारो पहिए के caliper में लगे होते है

और इस केलिपर में ब्रेक ped होते है और यह caliper rotor के ऊपर लगा होता है जब हम master cylinder में brake oil डालते है तो चारो पाइप में brake oil जाता है और caliper तक भर जाता है

और जब हम ब्रेक पेडल को दबाते है तो booster और master cylinder की मदत से पाइप में ब्रेक आयल का preassure बनता है और उसके कारण caliper खुलता है और ब्रेक ped रूटर से चिपक जाते है

साथ ही पिछले पहिए में लगे wheel cylinder की मदत से ब्रेक लेदर ड्रम में चिपक जाते है और ब्रेक काम करती है |

निष्कर्ष

आशा करते है की आपको ब्रेक क्या है और कैसे कार्य करता है इसके बारे में आपको पता चल गया होगा और अब आपको इसे जुडी को समस्या नहीं होगी अगर आपको कोई समस्या होती है तो आप हमे comment करे हम आपकी मदत करेगे

related topic

कार इंजन माउंट क्या है | Suzuki Swift engine mount problem

fog light क्या है | fog light का इस्तेमाल कैसे करे

जानिए कुछ सवालों के जवाब

Q . ब्रेक पेडल हार्ड क्यों होता है ?

ans . जब वेक्यूम पंप खराब हो जाता है या बूस्टर खराब हो जाता है तो ब्रेक पेडल हार्ड हो जाता हिया |

Q . ब्रेक फ़ैल क्यों होती है ?

ans . अगर ब्रेक ped या लेदर ख़त्म हो जाते है या ब्रेक का कोई पाइप फट जाता है तो ब्रेक फ़ैल होती है |

Categorized in: