वायरल इन्फेक्शन के दोरान r88 homeopathic medicine का इस्तेमाल किया जाता है अगर आप वायरल इन्फेक्शन से बचना चाहते है या आपको वायरल इन्फेक्शन है तो आप r88 medicine का सेवन कर सकते है

आप किसी भी प्रकार के वायरल इन्फेक्शन में r88 medicine का आसानी से इस्तेमाल कर सकते है जैसे measles , herpes , mononucleosis , flu etc में आप r88 medicine को ले सकते है

ज्यादातर वायरल इन्फेक्शन मोषम बदलने के कारण होता है और यह उन व्यक्ति को ज्यादा होता है जिनका इम्यून सिस्टम कमजोर होता है कमजोर इम्यून सिस्टम वाले व्यक्ति को यारल इन्फेक्शन बहुत जल्दी होता है

अगर उपर बताए गए एक इन्फेक्शन की बात की जाए तो mononucleosis वायरल इन्फेक्शन को किसिंग वायरल इन्फेक्शन के नाम से भी जाना जाता है और यह इन्फेक्शन मुहँ से निकलने वाली लार से फैलता है

जब mononucleosis वायरल इन्फेक्शन से ग्रस्त व्यक्ति अगर अपने किसी पार्टनर को kiss करता है तो उसमे भी इसके कीटाणु चले जाते है और उस व्यक्ति को भी mononucleosis वायरल इन्फेक्शन हो जाता है

इसके अलावा यह खासने , छिकने या उसका झूठा खाने से भी फैलता है और इसके दोरान थकान कमजोरी , सिर दर्द , बुखार , त्वचा से जुडी समस्या होती है , गले में खरास जैसे आदि लक्ष्ण दिखाई देते है

इन सभी वायरल इन्फेक्शन के लिए आज हम आपको एक जर्मन homeopathic medicine के बारे में जानकरी देंगे जो वायरल इन्फेक्शन के लिए बहुत लाभकारी है

r88 medicine क्या है – what is r88 medicine in hindi

r88 medicine जर्मन की homeopathic medicine है जो की dr.reckeweg का एक ब्रांड है जो आपको 30 ml की सीसी में ड्राप के रूप में मिल जाती है और r88 medicine को devirol – anti viral drops के नाम से भी जाना जाता है और इसका प्राइस 270 रूपये है जो समय के साथ बदल भी सकता है

वायरल संक्रमण को ठीक करने के लिए r88 medicine के अंदर कुछ homeopathic medicine मिली हुई है जैसे euphrasia officinalis , caryophyllus aromaticus , influenzinum , morbillinum , diphterinum , epstein barr , herpes simplx , herpes zoster , mononucleosis , poliomyelitis , v grippe , coxsackie . इन सभी के बारे में निचे देखने को मिल जाएगा

r88 medicine का इस्तेमाल कैसे करे – r88 homeopathic medicine uses in hindi

r88 medicine का इस्तेमाल उम्र , लिंग , कोई नई या पुरानी बीमारी को ध्यान में रखकर डॉक्टर की सलाह के अनुसार किया जाता है ताकि आने वाले समय में कोई समस्या न हो

r88 medicine अलग अलग तरीके से दी जाती है बच्चे को यह अलग तरीके से दी जाती है और व्यस्क और बुजुर्ग इसका इस्तेमाल अलग तरीके से करते है

(1) . 2 साल से कम बच्चे को r88 medicine कैसे दे

अगर आपके घर में 2 साल से छोटा बच्चा है तो उसके लिए आपको r88 medicine की थोड़ी सी मात्रा लेनी है और बच्चे के नाभि पर लगानी है और उसे नाभि की मालिश करनी है एसा आपको दिन में 3 बार करना है सुबह दोपहर और शाम और 3 दिन तक करना है उसके बाद 1 महिना रुके और फिर एक महीने बाद 3 दिन r88 medicine से बच्चे की नाभि की मालिश करे दिन में 3 बार एसा आप हर महीने कर सकते है

बिमारी :वायरल इन्फेक्शन के लिए और इम्यून सिस्टम के लिए
मात्रा :5 से 6 बूंदों से मालिश करे
दिन में कितनी बार :3 बार सुबह दोपहर और शाम
कितने दिनों तक लगाए :3 दिन तक लगाए फिर 1 महिना रुके फिर 3 दिन तक लगाए
r88 medicine कहाँ लगानी है :r88 medicine की थोड़ी सी मात्रा बच्चे की नाभी पर लगाए
डॉक्टर की सलाह ले

(2) . व्यस्क r88 medicine को कैसे ले

वयस्क को r88 medicine को लेने के लिए एक चोथाई कप पानी लेना है और उसमे r88 medicine की 5 से 10 ड्राप डालनी है और उसका सेवन करना है आपको दिन में 3 बार r88 medicine को लेना है और खाना खाने से आधे या एक घंटे पहले ले और सिर्फ 3 दिन तक ले फिर 1 महिना रुके फिर 3 दिन तक दोबारा ले एसे हर महीने ले सकते है पर 1 महीने का अंतराल जरुर रखे

बिमारी :वायरल इन्फेक्शन
मात्रा :5 से 10 ड्राप
दिन में कितनी बार :दिन में 3 बार सुबह दोपहर और शाम
खाना खाने से पहले या बाद में :खाना खाने से आधे या एक घंटे पहले ले
किसके साथ ले :एक चोथाई कप पानी के साथ ले
सलाह :डॉक्टर की सलाह ले
समस्या के अनुसार dose को कम ज्यादा किया जा सकता है

r88 medicine के फायदे – benefits of r88 medicine in hindi

r88 medicine के फायदे इस प्रकार है

(1) . वायरल इन्फेक्शन के लिए लाभकारी है

सभी प्रकार के वायरल इन्फेक्शन के लिए r88 medicine बहुत लाभकारी है अगर आपको measles , herpes , mononucleosis , flu की समस्या है जिसके कारण सर्दी जुकाम , छींक आना , बुखार , गले में खरास हो रही है तो इसके लिए r88 medicine बहुत लाभकारी है साथ ही यह बच्चो के इम्यून सिस्टम को बढ़ाने के लिए बहुत लाभकारी है

r88 medicine के दुष्प्रभाव – side effects of r88 medicine in hindi

r88 medicine वायरल इन्फेक्शन के लिए बहुत लाभकारी है और r88 medicine का हमारे शरीर पर कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है

परन्तु फिर भी आप r88 medicine का सेवन सही मात्रा में करे और अगर कोई दुष्प्रभाव होता है तो डॉक्टर की सलाह ले

r88 medicine की सावधानियाँ – precautions of r88 medicine in hindi

r88 medicine को लेने से पहले कुछ बातो का ध्यान रखे जो इस प्रकार है

(1) . डॉक्टर की सलाह ले

जब भी आप r88 medicine को लेने के लिए जाए तो सबसे पहले आप डॉक्टर की सलाह ले अपनी समस्या की जांच करवाए उसके बाद ही r88 medicine का सेवन करे

(2) . शराब का सेवन न करे

शराब का सेवन आपकी समस्या को बढ़ा सकता है इसलिए अगर आप r88 medicine का सेवन कर रहे है तो शराब का सेवन न करे

(3) . चाय का सेवन न करे

चाय कॉफ़ी का सेवन करना सभी को अच्छा लगता है परन्तु r88 medicine के सेवन से आधे या एक घंटे पहले आपको चाय का सेवन नहीं करना है

(4) . मांस का सेवन न करे

अगर आप r88 medicine का सेवन कर रहे है तो आपको किसी भी प्रकार के मांस का सेवन नहीं करना है इसे आपकी समस्या बढ़ सकती है

(5) . मुहँ को साफ रखे

r88 medicine के सेवन से पहले आपको अपने मुहँ को साफ रखना है मतलब प्याज और लहसुन जैसे खाद्य प्रदार्थ का सेवन नहीं करना है

(6) . r88 medicine को हिला ले

जब भी आप r88 medicine को लेने के लिए जाए तो आपको r88 medicine को हिला लेना है इसे जो मेडिसिन निचे जैम गई होगी वह मिल जाएगी इसलिए r88 medicine को जरुर हिलाए उसके बाद ले

(7) . exp date को चेक करे

जब भी आप किसी homeopathic store पर r88 medicine को लेने के लिए जाए तो आपको exp date को जरुर चेक करना है क्युकी कई बार exp date निकली होती है

अगर अप r88 medicine का सेवन कर रहे है या करना चाहते है तो आपको उपर बताई गई बातो का ध्यान रखना है

r88 medicine की सामग्री – ingredients of r88 medicine in hindi

r88 medicine के अंदर अलग अलग homeopathic मेडिसिन मिली हुई है जो इस प्रकार है

(1) . यूफ्रेसिया (Euphrasia)

यूफ्रेसिया मेडिसिन मुख्या रूप से शरीर की इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है जिसे हमे वायरल इन्फेक्शन से लड़ने में मदत मिलती है

(2) . कैरियोफिलस एरोमैटिकस (caryophyllus aromaticus)

कैरियोफिलस एरोमैटिकस homeopathic medicine प्राक्रतिक एंटीवायरल है जो वायरल इन्फेक्शन को खत्म करने के लिए बहुत लाभकारी है

अन्य सामग्री

इनफ्लूएंजिनम (influenzinum) , मॉरबिलिनम (morbillinum) , डिफ्थेरिनम (Diphtherinum) , एपस्टीन-बार (epstein barr) , हर्पीस सिम्पलेक्स (herpes simplex) , हर्पीस जोस्टर (Herpes Zoster) , मोनोन्यूक्लिओसिस (mononucleosis) , पोलियोमेलाइटिस (poliomyelitis) ,कॉक्ससैकी (coxsackie)

यह सभी homeopathic medicine बहुत घुलनशील होती है जो वायरल इन्फेक्शन को खत्म करती है यह सभी मेडिसिन इम्यून सिस्टम को बढ़ाती है और वायरल इन्फेक्शन से लड़ने में मदत करती है और यह सभी मेडिसिन वेक्सिन के रूप में कार्य करती है

r88 medicine को कैसे रखे – how to store r88 medicinein hindi

r88 medicine को आपको हमेशा ही सामान्य तापमान में रखना चाहिए इसके लिए आप r88 medicine को अपने कमरे के सामान्य तापमान में रख सकते है

एक बात का ध्यान रखे की आपको r88 medicine को ज्यादा गर्म व ज्यादा ठंडी जगह पर नहीं रखना चाहिए इसे r88 medicine का असर कम हो सकता है

निष्कर्ष

आशा करते है की आपको r88 homeopathic medicine के बारे में पता चल गया होगा और अब आपको इसे जुडी कोई समस्या नहीं होगी और आप इसका इस्तेमाल भी सही तरीके से करेगे वायरल इन्फेक्शन होता रहता है इसलिए आप आसानी से r88 medicine को लेकर घर में रख सकते है पर डॉक्टर की सलाह के अनुसार ले

related topic

घर पर बुखार भगाने के अचूक घरेलु नुश्खे

सर्दी जुकाम का घरेलू उपचार | 16 home remedies for cold and cough in hindi

जानिए कुछ सवालो के जवाब

Q . r88 medicine को कितने दिनों तक ले सकते है?

ans . r88 medicine को आप 3 दिन तक ले सकते है उसके बाद 1 महिना रुके फिर 3 दिन तक ले फिर 1 महिना रुके और फिर ले एसे आप एक एक महीने के बाद ले सकते है |

Q . क्या r88 medicine को प्रेगनेंसी के दोरान ले सकते है?

ans . प्रेगनेंसी के दोरान r88 medicine के सेवन से पहले डॉक्टर की सलाह ले उसके बाद ही सेवन करे |

डिस्क्लेमर – जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर प्रकार से प्रयाश  किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी thedkz.com की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है