ac के बारे में तो सभी को पता होता ही है क्युकी ac घर से लेकर कार तक में लगा है इसलिए आज हम बात करेगे की कार का ac कैसे काम करता है और इसके कुछ पार्ट के बारे में जिसे आपको इसके बारे में अच्छे से पता चल जाए

आज के समय में सभी कार में ac लगा होता है जो बहुत जरुरी भी है क्युकी हम बिना ac के कार नहीं चला सकते है क्युकी गर्मी अधिक लगती है परन्तु क्या आपने कभी जाने की कोशिश की है की कार का ac कैसे काम करता है

अगर की है तो अच्छी बात है अगर नहीं की है तो आज हम आपको कार ac के बारे में सभी चीजो के बारे में बताएगे जिसे आपको पूरी जानकारी मिलेगी उसे पहले ac पार्ट के बारे में बात करते है उसके बाद कार का ac कैसे काम करता है 

कार ac पार्ट और उसके कार्य

कार ac पार्ट के बारे में आपको निचे देखने को मिल जाएगा जो इस प्रकार है

कार का ac कैसे काम करता है

(1) . compressor

compressor कार ac का सबसे मुख्या पार्ट है जो इंजन के कार्य से जुड़ा होता है जब इंजन घूमता है तो fan belt की मदत से compressor भी घूमता है और compressor का मुख्या कार्य है ac की गैस को compressor करना जिसे ac ठंडी हवा को पास करे

जब हम ac on करते है तो ac compressor में 12 volt का current आता है और और अर्थ यह इंजन से प्राप्त करता है जिसे compressor में लगा क्लच घूमता है और यह क्लच इलेक्ट्रोमैग्नेटिक के कारण घूमता है जो compressor में होता है

और जब ac on करने पर क्लच घुमने लगता है तो यह compressor के अन्दर लगी shaft को घुमाने लगता है जिसे compressor काम करने लगता है जिसे ac gas compres होने लगती है

compressor में दो लाइन होती है एक inlet और एक outlet जब ac चलाते है तो compressor inlet के तरह से gas को खिचता है और आउटलेट से condenser में भेज देता है

(2) . condenser

condenser

condenser car ac का मुख्या भाग है यह रेडिएटर के आगे में लगा होता है condenser में लम्बी लम्बी लाइन बनी होती है जिसमे gas चलती है इसमें में दो होल होते है inlet और outlet

जब compressor से gas condenser में आती है तो वह इनलेट की तरफ से आती है और सभी लाइन में से घूमकर outlet की तरफ से निकलकर रिसीवर ड्राइवर में चली जाती है जिसे compressor का फ़िल्टर भी कहाँ जाता है

(3) . compressor filter

compressor filter यह ac के लिए बहुत अधिक जरुरी होता है यह compressor filter कुछ कार में condenser में ही लगा होता है एक पाइप के द्वारा और कुछ कार में यह अलग से दिया होता है

यह compressor filter गेस के साथ आने वाली धुल मिटी को रोक लेती है अंदर ही और यह आगे सिर्फ लिकविड को ही पास करती है और यह compressor filter का मुख्या कार्य है

(4) . Expansion Valve

Expansion Valve यह cooling coil के साथ लगा होता है Expansion Valve में दो छेद होते है एक बड़ा छेद और एक छोटा छेद जब compressor filter लिकविड को आगे भेजती है तो वह लिकविड Expansion Valve के छोटे छेद से अन्दर जाती है

और जब लिकविड छोटे छेद से अन्दर जाती है तो preassure बनता है और लिकविड ठंडा हो जाता है Expansion Valve के पीछे लगी होती है cooling coil जो लिकविड को gas में बदलती है

(5) . cooling coil

cooling coil Expansion Valve के पीछे की तरफ लगा होता है जब लिकविड Expansion Valve के छोटे छेद से cooling coil में जाती है और लाइन में घुमती है तो ठंडक होती है

उस समय उस cooling coil के पीछे blower motor लगी होती है जो cooling coil में से पूरी ठंडक को खीच लेती है और गर्म हवा को लुप्त करती है जिसे gas बना दोबारा शुरू हो जाता है और वह gas फिरसे compressor में चली जाती है

इसी के साथ इन सभी के बीच में gas को पास करने के लिए पाइप लगे होते है जिनका मुख्या कार्य होता है जो gas को आगे भेजने का कार्य करता है

(6) . ac pipe

ac के pipe दो प्रकार के होते है पहला low preassure pipe जो cooling coil से लेकर compressor तक लगा होता है और दूसरा होता है high preassure पाइप यह compressor से लेकर Expansion Valve तक लगी होता है

इसके अलावा दो पाइप और होते है जो low preassure के होते है जो compressor से लेकर condenser में लगी होती है और एक Expansion Valve से लेकर compressor ले लगी होती है

कार का ac कैसे काम करता है

कार का ac कैसे काम करता है इसके बारे में आपको निचे देखने को मिल जाएगा जो इस प्रकार है

जब हम कार का ac चालु करते है तो compressor चालू होता है जिसे high preassure gas बनती है और यह gas पाइप से होते हुए condenser में चली जाती है जब gas condenser में आती है तो रेडिएटर में लगा फेन हवा को condenser से पास करता है जिसे यह gas ठंडी होती है

उसी के साथ condenser में यह gas condenser में ही लिकविड में बदल जाती है और आगे लिकविड फॉर्म में compressor फ़िल्टर में जाती है फिर compressor फ़िल्टर उस लिकविड में जमी धुल मिटी को रोक लेता है

और आगे लिकविड को पास कर देता है फिर वह लिकविड Expansion Valve के छोटे छेद में जाती है जब लिकविड Expansion Valve के छोटे छेद में जाती है तो बहुत अधिक तेजी से स्प्रे निकलता है तो लिकविड आगे cooling coil में आगे जाती है

उस समय वह लिकविड आधा gas में बदल जाता है और आधा लिकविड ही रहता है उसके बाद जब cooling coil के पीछे लगी blower motor घुमती है तो वह बचे हुए लिकविड को पूरी तरह gas में बदल देता है

फिर वह gas Expansion Valve के बड़े छेद से बाहर निकल कर पाइप के द्वारा compressor में चली जाती है इस प्रकार gas का यह system चलता है और ac काम करता है

इसी के दोरान तापमान में भी बहुत बदलाव होता है जब compressor से gas निकलती है उस समय तापमान होता है 70 डिग्री तक और आगे condenser तक यह तापमान 60 से 50 डिग्री तक आ जाता है और Expansion Valve तक इतना ही रहता है

उसके बाद जब लिकविड Expansion Valve के छोटे छेद से आगे जाता है उस समय तापमान 0 से 5 डिग्री सेंटीग्रेड तक और उतने ही तापमान में यह cooling coil में घूमता है उसके बाद फिर यह लिकविड Expansion Valve के बड़े छेद से निकलता है

तो तापमान फिर 10 या 20 डिग्री तक आ जाता है इस तापमान से पता चलता है की Expansion Valve जादा कुलिंग करने का कार्य करता है परन्तु इसके साथ ही सभी part cooling करने में मदत करते है

इस प्रकार से यह कुछ ac के पार्ट थे और कार का ac कैसे काम करता है इसके बारे में आपको बताया है 

निष्कर्ष

आशा करते है की आपको ac के पार्ट और कार का ac कैसे काम करता है इसके बारे में पता चल गया होगा अगर आपको आर्टिकल अच्छा लगा और अगर ac से जुडी कोइ समस्या है तो कमेंट करे जिसे हम आपकी मदत कर सके और आपको सभी प्रकार की जानकारी उपलब्ध करा सके

related topic 

chevrolet spark car ac cut off problem कार में ac cut off होने का क्या कारण होता है

CAR AC PROBLEM क्यों होती है कार एसी की समस्या जाने | car ac cooling problem hindi

जानिए कुछ सवालो के जवाब

Q . ac को सही रखने के लिए क्या करना चाहिए ?

ans . अगर आपको ac को सही रखना है तो ac फ़िल्टर और ब्लोरे मोटर को हर सर्विस में साफ़ करवाना चाहिए |

Q . कंप्रेसर फ़िल्टर कब बदलना चाहिए ?

ans . जब भी आप कंप्रेसर को बदलते है तो एक बात का ध्यान रखे की साथ में कंप्रेसर फ़िल्टर को भी बदल दे |