पीरियड्स में दर्द के लिए r75 homeopathic medicine का इस्तेमाल किया जाता है पीरियड्स को मासिक धर्म भी कहते है इसलिए आज हम आपको r75 medicine के बारे में बताएगे

लड़की को हर महीने पीरियड्स आता है और यह पीरियड्स blood loss के साथ होते है और यह पीरियड्स ज्यादा painful नहीं होते है थोडा बहुत pain होता है तो यह आम है यह कोई समस्या नहीं है

परन्तु कुछ लड़कियों में पीरियड्स के दोरान बहुत तेज दर्द होता है उन्हें बहुत pain सहना पड़ता है और इस दर्द के कारण वह medicine लेती है और अपने काम से भी छुटी लेती है

पीरियड्स के दोरान ज्यादा दर्द होने की समस्या को dysmenorrhea painful periods कहते है dysmenorrhea भी दो तरह का होता है पहला जिसे spasmodic dysmenorrhea कहते है

spasmodic dysmenorrhea में दर्द पीरियड्स के साथ ही शुरू होता है और एक या दो दिन में दर्द कम हो जाता है और दूसरा congestive dysmenorrhea होता है

congestive dysmenorrhea में दर्द पीरियड्स आने के कुछ दिन पहले ही शुरू हो जाता है इसके लिए आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए पहले ही और पीरियड्स के दर्द के कारण है

जैसे genital area में infection का होना या फिर बच्चेदानी के मुहँ में या उसके ट्यूब या लाइन में infection का हो जाना painful periods का कारण होता है इसके अलावा भी पीरियड्स के कई कारण होते है

अगर आपके साथ एसा हो तो आपको डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए सलाह लेनी चाहिए आज हम painful पीरियड्स के लिए आपको r75 homeopathic medicine के बारे में जानकारी देंगे

r75 medicine क्या है – what is r75 medicine in hindi

r75 medicine जर्मन की homeopathic medicine है जो की dr.reckeweg का एक ब्रांड है यह medicine आपको 22ml में एक ड्राप के रूप में मिल जाती है r75 medicine को dolomensin – dysmenorrhea drop के नाम से भी जानते है इसका प्राइस 261 रूपये है

r75 medicine में कुछ homeopathic medicine मिली हुई है जैसे caulophyllum thalictroides , chamomilla , cimicifuga racemosa , cuprum aceticum , magnesium phosphoricum , viburnum opulus इन सभी medicine के बारे में निचे देखने को मिल जाएगा

r75 medicine का इस्तेमाल कैसे करे – r75 homeopathic medicine uses in hindi

r75 homeopathic medicine का इस्तेमाल आपकी समस्या और दर्द पर निर्भर करता है इसलिए हम आपको इसकी dose के बारे में जानकरी देंगे जो अलग अलग है

(1) . उसी समय अधिक दर्द होने पर कैसे ले

अगर आपको पीरियड्स हुआ है और अधिक दर्द हो रहा है तो आपको एक चोथाई कप पानी में 8 से 10 बुँदे r75 medicine की डालनी है और उसका सेवन करना है आपको हर 15 से 20 मिनट के बाद r75 medicine को लेना है एक चोथाई कप पानी के साथ और इसे 1 घंटे में 3 से 4 बार ले सकते है

बिमारी :पीरियड्स में दर्द
मात्रा :8 से 10 बुँदे एक समय में
दिन में कितनी बार :हर 15 से 20 मिनट के बाद में
खाना खाने से पहले या बाद में :खाना खाने से पहले
किसके साथ ले :एक चोथाई कप पानी में
सलाह ले :डॉक्टर की सलाह के अनुसार
डॉक्टर की सलाह के अनुसार ले

(2) . दर्द कम होने पर कैसे ले

अगर आपका दर्द कम हो गया है तो आपको एक चोथाई कप पानी लेना है और उसमे r75 medicine की 10 बुँदे डालनी है और उसका सेवन करना है आपको हर 1 या 2 घंटे बाद r75 medicine को लेना है और जब आपको अछि तरह आराम मिल जाता है तो आप इसकी dose को कम कर दे जैसे

बिमारी :पीरियड्स में दर्द
मात्रा :10 बुँदे एक समय में
दिन में कितनी बार :हर 1 या 2 घंटे में ले
खाना खाने से पहले या बाद में :खाना खाने से आधे घंटे पहले
किसके साथ ले :एक चोथाई कप पानी के साथ
सलाह ले :डॉक्टर की सलाह ले
डॉक्टर की सलाह के अनुसार ले

(3) . आराम मिल जाने पर कैसे ले

अगर आपको अच्छा आराम मिल जाता है तो आपको एक चोथाई कप पानी लेना है और उसमे r75 medicine की 10 से 15 बुँदे डालनी है और उसका सेवन करना है आपको दिन में 3 बार r75 medicine का सेवन करना है सुबह दोपहर और शाम और खाना खाने से आधे या एक घंटे पहले ले

बिमारी :पीरियड्स में दर्द
मात्रा :10 से 15 बुँदे एक समय में
दिन में कितनी बार :दिन में 3 बार सुबह दोपहर और शाम
खाना खाने से पहले या बाद में :खाना खाने से आधे घंटे पहले
किसके साथ ले :एक चोथाई कप पानी के साथ
सलाह ले :डॉक्टर की सलाह ले
डॉक्टर की सलाह के अनुसार ले

r75 medicine के फायदे – benefits of r75 medicine in hindi

r75 medicine के फायदे इस प्रकार है

(1) . पीरियड्स में दर्द के लिए r75 medicine लाभकारी है

r75 medicine का इस्तेमाल पीरियड्स में दर्द के लिए पीरियड्स के कारण पेट में मरोड़ या दर्द के लिए किया जाता है या पीरियड्स के कारण होने वाली समस्या के लिए किया जाता है इसलिए अगर आपको पीरियड्स के दोरान ज्यादा दर्द होता है तो r75 medicine बहुत लाभकारी है इसे डॉक्टर की सलाह के बाद ले

r75 medicine के दुष्प्रभाव – side effects of r75 medicine in hindi

r75 medicine के दुष्प्रभाव के बारे में अभी तक कोई सुचना नहीं मिली है इसलिए r75 medicine के इस्तेमाल से पहले आप डॉक्टर की सलाह ले

और आप r75 medicine का सही मात्रा में सेवन करे अगर आपको कोई दुष्प्रभाव होता है तो आपको डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए और जाँच करवानी चाहिए

r75 medicine की सावधानियाँ – precautions of r75 medicine in hindi

r75 medicine को लेने से पहले कुछ बातो का ध्यान रखे जो इस प्रकार है

(1) . डॉक्टर की सलाह ले

अगर आपको पीरियड्स के दोरान अधिक दर्द हो रहा है तो आपको पहले डॉक्टर की सलाह लेनी है जाँच करवाए उसके बाद ही डॉक्टर की सलाह के बाद r75 medicine का सेवन करे

(2) . चाय का सेवन न करे

चाय का सेवन करना सभी को पसंद होता है परन्तु अगर आप r75 medicine का सेवन कर रही है तो r75 medicine लेने के आधे या एक घंटे पहले या बाद में चाय का सेवन न करे

(3) . एलर्जी होनें पर डॉक्टर की सलाह ले

अगर आपको पहले से ही कोई एलर्जी है या कोई पुरानी एलर्जी की समस्या है तो आपको r75 medicine लेने से पहले डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए

(4) . मांस का सेवन न करे

मांस का सेवन आपको कम से कम करना है अगर आप r75 medicine का सेवन कर रहे है क्युकी इसे r75 medicine का असर कम हो सकता है

(5) . मुहँ को साफ़ रखे

जब भी आप r75 medicine का सेवन करे तो उसे पहले मुहँ को साफ़ रखे मतलब प्याज और लहसुन जैसे खाद्य प्रदार्थ का सेवन न करे

(6) . exp date को चेक करे

exp date किसी भी medicine के लिए बहुत जरुरी होती है इसलिए जब भी आप r75 medicine को लेने के लिए जाए तो exp date को जरुर चेक करे

अगर आप r75 medicine का सेवन कर रहे है तो उपर बताई गई बातो का ध्यान जरुर रखे

r75 medicine की सामग्री – ingredients of r75 medicine in hindi

r75 medicine के अंदर कुछ homeopathic medicine मिली हुई है जिसके बारे में आपको निचे देखने को मिल जाएगा जो इस प्रकार है

(1) . कैमोमिला (chamomilla)

कैमोमिला का इस्तेमाल अत्यधिक संवेदनशील अवस्था के दोरान किया जाता है एसे में कैमोमिला बहुत लाभकारी मेडिसिन है

(2) . कौलोफिलम थैलिक्ट्रोइड्स (caulophyllum thalictroides)

अगर पीरियड्स के दोरान पेट के निचले हिसे में मरोड़ा मारके दर्द होता है तो उसके लिए कौलोफिलम थैलिक्ट्रोइड्स बहुत लाभकारी है

(3) . सिमिसिफुगा रेसमोसा (cimicifuga racemosa)

अगर पेट के निचले हिसे में चुभन वाला दर्द अचानक से होता है तो उसके लिए सिमिसिफुगा रेसमोसा बहुत लाभकारी है

(4) . कप्रम एसिटिकम (cuprum aceticum)

अगर पीरियड्स के दोरान आपको बहुत तेज दर्द होता है जो सहना मुशिकल हो जाता है तो उस समय में कप्रम एसिटिकम बहुत लाभकारी है

(5) . विबर्नम ऑपुलस (Viburnum Opulus)

अगर पेट के निचले हिस्से में मरोड़ा होता है दर्द होता है और वह दर्द जांघो तक फ़ैल जाता है तो उसके लिए विबर्नम ऑपुलस बहुत लाभकारी है

यह सभी homeopathic medicine r75 medicine में मिली हुई है जिसके कारण r75 medicine का असर और ज्यादा हो जाता है

r75 medicine को कैसे रखे – how to store r75 medicine in hindi

r75 medicine को आपको हमेशा ही सामान्य तापमान में रखना चाहिए इसके लिए आप इसे अपने कमरे के सामान्य तापमान में रख सकते है

एक बात का आपको ध्यान रखना है की आपको r75 medicine को ज्यादा ठंडी जगह व ज्यादा गर्म जगह पर नहीं रखना है इसे मेडिसिन का असर कम हो सकता है

निष्कर्ष

आशा करते है की आपको r75 homeopathic medicine के बारे में पता चल गया होगा और अब आपको इसे जुडी कोई समस्या नहीं होगी एक बात का ध्यान रहे की अगर पीरियड्स के दोरान आपको ज्यादा दर्द हो रहा है तो आपको तुरंत ही डॉक्टर की सलाह लेना बहुत जरुरी है क्युकी यह infection का एक कारण हो सकता है

related topic

r10 homeopathic medicine का इस्तेमाल सिर दर्द मासिक धर्म कमजोरी में किया जाता है

r28 homeopathic medicine का इस्तेमाल मासिक धर्म न आने की समस्या में किया जाता है

जानिए कुछ सवालो के जवाब

Q . r75 medicine का इस्तेमाल कितने दिनों तक कर सकते है ?

ans . r75 medicine का इस्तेमाल कितने दिन कर सकते है उसके लिए आप डॉक्टर की सलाह ले |

Q . क्या r75 medicine से आपको कोई दुष्प्रभाव हो सकता है ?

ans . r75 medicine के इस्तेमाल से आपको कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है परन्तु फिर भी इसके इस्तेमाल से पहले डॉक्टर की सलाह ले |

डिस्क्लेमर – जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर प्रकार से प्रयाश  किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी thedkz.com की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है