Provision Meaning in Accounting in Hindi आयोजन क्या है विशेषताएं

आज हम एकाउंटिंग के बहुत खाश चैप्टर की बात करने जा रहा हु  (Provision Meaning in Accounting in Hindi)  आयोजन  क्या  है आयोजन एकाउंटिंग का क्या अर्थ है क्या आपको पता है की बुसिनेस या व्यवसाय एक जैसा नही होता और वो बदलता रहता है कभी ज्यदा लाभ होता है तो कभी कम जब बिज़नेस को लाभ होता है तब हम उस लाभ का हिस्सा बाकी सभी इन्वेस्टर को बाट देते है

पर जब हम उस हिस्से मैं से कुछ पैसा बचा लेते है जो वव्यवसाय या बिज़नेस के बुरे समय मैं काम आये इसकी पैसे बचाने की कला को हम आयोजन या संचय कहते है पर इन दोनों का मतलब अलग अलग होता है चलो जानते है

(Provision Meaning )आयोजन का अर्थ क्या है आयोजन क्या है

आयोजन कम्पनी अधिनियम के अनुसार हम आयोजना की परिभाषा इस प्रकार है जैसे हम सम्पति पर हाश यानी depreciation लगाते उस को आयोजन कह सकते है जैसे कोई हमारा पैसा कही डूबा हुआ है हमे उसे कैसे निकालना है उसे हम आयोजन कह सकते है साधारण शब्दों मैं हम ये कह सकते है की किसी दायित्व को पूरा करने के लिए जो राशी को बचाया जाता है उसे आयोजन कह सकते है किसी भी दायित्व को पूरा करने के लिए हम उसे आयोजन ही करते है

कुछ example इस प्रकार है

जैसे किसी देनदारो को छुट के लिए आप आयोजन करते हो

टैक्स के लिए आयोजन करते हो

किसी भी एसेट यानी सम्पति को टिक करना या उसको नया बनाने के लिए आयोजन ही कहा जाता है

आयोजन की विशेषताएं क्या है

हानियों और खर्च – अगर हमे पता है की किसी वजह से इसमें हानि ही होनी है और हमे पता है की इस काम मैं इंतना खर्च होना ही है पर हमे ये पता नही होता की कितनी अमाउंट की हानि होनी कितनी राशि हमे नही मिलने वाली

लाभ मैं कमी -हम आयोजन को प्रॉफिट और लोस खातो के लिए खर्च ही माना जाता है क्युकी आयोजन इस लिए किया जाता है की भविय मैं होने वाली हानि को कण्ट्रोल किया जा सके इसी कारण से उस वर्ष के प्रॉफिट यानी लाभ को कम करती है जिसमे ये बनाया जाता है लेकिन वास्तव मैं होता ये है की जिस वर्ष मैं हानि होती है वो उस वर्ष के आयोजन मैं से घटा दी जाती है

इसलिए उस साल के लाभ मैं कोई कमी नही होती जिस साल हानि होती है

(Provision)आयोजन का उदेश्य या महत्व

बिज़नेस या यव्यवसा की शुद्ध लाभ हानि को ज्ञात करना -बिज़नेस का सही लाभ हानि को ज्ञात करने के लिए उस वर्ष से सम्बधित सभी खर्च को लाभ हानि खाते मैं मैं डेबिट कर दिया जाता है चाहे उसकी पेमेंट हो गया हो या नही

इसी प्रकार उन  खर्च और हानि जिनकी राशि का सिर्फ अनुमान लगाया जाता है तो ऐसे खर्च और हानि के लिए एक फिक्स अमाउंट का आयोजन बना लिया जाता है

example के लये जब एक बिज़नेस मन उधार मैं माल को बेचता है तो उसको पता होता है की कौन सी पार्टी इस साल भुगतान कर पायेगी और कौन सी नही और कौन सी राशि डूब जाएगी लेकिन उन राशि को पूरी तरह अनुमान नही लगा सकता है इसी लिए बिज़नेस मैं सही लाभ हानि प्राप्त करने के लिए आयोजन को बनाया जाता है

बिज़नेस का सही वितीय स्थिति का पता लगाने के लिए -आयोजन करने से हमे व्यवसाय का चित्र अच्छा पाप्त होता है यानी एक सच्चा वितीय स्थिति पता लग सकता है

भविष्य मैं आने वाली हानि की व्यवस्था या मैनेजमेंट करने के लिए -हम भविष्य मैं नही पता होता की हमारे व्यवसाय मैं हानि होगी की नही पर इसके लिए हम पहले से व्यवस्था या प्रबन्ध करना होता है और इसके लिए हम आयोजन करते है

खर्चो को सही से बटवारा करने के लिए -आयोजन का प्रयोग हम व्यवसाय मैं होने वाले खर्चो को सही से बटवारा करने के लिए किया जाता है इस प्रकार की व्यवस्था तब किया जाना होता है जो सम्पतिया लम्बे समय के लिए इस्तेमाल किया जाना जरुरी होता है पर in पर होने वाले खर्चो को बराबर रूप से बटवारा करने मैं मदद की जाती है वैसे हमे पता है

की जिन सम्पतियो को टिक करवाने का खर्च शुरू के साल मैं कम और बाद के साल मैं ज्यदा होता है इसलिए सभी सालो मैं एक फिक्स राशि यानी अमाउंट से प्रॉफिट और लोस खाते को डेबिट करके एक मरम्मत आयोजन खाता (provision for repairs account ) को बनाया जाता है और फिर वास्तव मैं  मरमत खर्चो की राशि से इस खाते को डेबिट कर लिया जाता है

हम एक example की सहायता से समझते है 

यदि बिज़नेस के इस्तेमाल के लिए एक मशीनरी को  10 सालो के लिए ख़रीदा जाता है इस पर रिपेयर का खर्च 10 सालो के लिए 50000 हज़ार रूपये होता है तो इस कंडीशन मैं हर साल प्रॉफिट और लोस खाते को डेबिट करके 5000 की अमाउंट को मरमत या रिपेयर आयोजन खता को बनाया जायेगा और इस खाते से हर साल वास्तविक मरमत खर्चो की राशि से डेबिट होगा वास्तविक जो खाता चल रहा है

व्यवसाय या बिज़नेस की मैनेजमेंट करने मैं आयोजन बहुत ज्यदा सहायक होता है क्युकी हमे इससे हानि का सही अनुमान लगाया जा सकता है

Leave a Comment