arsenicum album 200 uses hindi का इस्तेमाल शरीर के अलग अलग हिसे में किया जाता है और यह बहुत ही फायदेमंद होम्योपैथिक मेडिसिन है

यह हमारे शरीर में ब्रेन , नर्वस सिस्टम , तवचा , गैसट्रिक सिस्टम , जॉइंट्स आदि पर बहुत अच्छा कार्य करती है इसी के साथ बुखार , चिंता , खांसी , जुकाम आदि में यह लाभकारी है

यह मेडिसिन होम्योपैथिक है इसलिए यह सिर्फ एक समस्या की मेडिसिन नहीं है इसके बहुत से फायदे है इसलिए आज हम आपको आर्सेनिक एल्बम क्या है इसके लक्ष्ण , फायदे , दुष्प्रभाव , सावधानियाँ , परेहज की पूरी जानकारी देंगे

आर्सेनिक एल्बम 200 क्या है – what is arsenicum album 200 hindi

arsenicum-album-200-uses-hindi

आर्सेनिक एल्बम प्लांट किंडम की होम्योपैथिक मेडिसिन है जिसका इस्तेमाल शरीर में होने वाली अलग अलग समस्या में किया जाता है और यह आपको 30ch , 200 ch , 1m पोटेंसी में आसानी से मिल जाती है

आर्सेनिक एल्बम मुख्या किसी बीमारी को ठीक करने के लिए इस्तेमाल नहीं की जाती है बहुत से व्यक्ति इसे इम्यूनिटी बूस्ट करने के लिए इस्तेमाल करते है

अगर आपकी शरीर की रोगप्रतिरोधक शमता अछि होगी तो आप आसानी से किसी भी बिमारी से लड़ सकते है और जल्दी से समस्या ठीक भी हो जाती है इसलिए इसे ज्यादा इम्यूनिटी बूस्ट के लिए इस्तेमाल किया जाता है

परन्तु होम्योपैथिक के अनुसार यह बहुत सी समस्या को कम और ठीक करने के लिए इस्तेमाल होती है और इसका बहुत अच्छा असर देखने को मिलता है परन्तु आपको इस मेडिसिन के लक्ष्ण के बारे में पता होना चाहिए जो इस प्रकार है

आर्सेनिक एल्बम 200 के लक्ष्ण – symptoms arsenicum album hindi

हम आपको इस मेडिसिन के कुछ एसे इम्पोर्टेन्ट लक्ष्ण बताएगे जो अगर आपको अपने शरीर में दिखाई देते है तो आपको आर्सेनिक एल्बम 200 मेडिसिन का इस्तेमाल करना ही चाहिए

(1) . मरीज जब भी कपडे बदलता है तो खुजली होने लगती है और जैसे ही मरीज खुजली कर लेता है तो उसे अच्छा लगता है और खुजली करने पर पानी निकलता है और त्वचा में जलन होती है

(2) . इस मेडिसिन के मरीज को गर्मी से राहत मिलती है गर्मी से समस्या ठीक होती है उस व्यक्ति को गर्म चीजे अधिक पसंद होती है चाय , कॉफ़ी और गर्म खाना उसे अच्छा लगता है

(3) . जब भी मरीज को बुखार होता है तो उसे पानी की प्यास लगती है और मरीज थोडा पानी पिता है और बाकी पूरा पानी छोड़ देता है यह मुख्या लक्ष्ण है

(4) . इसके मरीज की बिमारी या समस्या दिन और रात को 12 से 1 बजे बढ़ जाते है समस्या ज्यादा उत्पन हो जाती है रात में लक्ष्ण अधिक बढ़ते है

(5) . अगर आर्सेनिक एल्बम के मरीज के लक्ष्ण बढ़ जाते है तो उसे बेचनी होती है डर भय लगता है मरने का डर होता है घबराहट होती है और अधिक प्यास लगने लगती है

(6) . आर्सेनिक एल्बम का मरीज बहुत ज्यादा साफ़ सुथरा रहना पसंद करता है उसे गंदगी अछि नहीं लगती है और वह अपने घर को भी बहुत ज्यादा साफ़ रखता है

(7) . अगर मरीज को जुकाम हो जाता है और वह पंखे की हवा में बैठ जाता है तो उसका जुकाम बढ़ जाता है और अगर ठन्डे पानी से मुहं धो लेता है तो भी समस्या बढ़ जाती है

(8) . इसके मरीज के अगर आँख या नाक से पानी निकलता है तो वह पानी गर्म होता है और साथ में उस व्यक्ति को छींके आने लगती है ज्यादा खुसबू या बदबू उसे सहन नहीं होती है लक्ष्ण बढ़ जाते है

(9) . अगर मरीज को बवासीर है और मल त्याग के समय उसे दर्द होता है और उसके कुछ समय बाद ही चलने उठने बैठने में दर्द होता है तो आर्सेनिक एल्बम 200 लाभकारी है

यह सभी आर्सेनिक एल्बम 200 के मुख्या लक्ष्ण है परन्तु एक बात का ध्यान रखे की जब बेचनी , दाह और प्यास यह तीनो लक्ष्ण एक साथ दिखाई दे तो यह मेडिसिन जरुर ले परन्तु अगर आपको अलग अलग समस्या है और यह तीनो लक्ष्ण नहीं दिखाई देते है तो आर्सेनिक एल्बम अच्छा कार्य नहीं करती है यह तीनो लक्ष्ण दिखाई देने जरुरी है

आर्सेनिक एल्बम का उपयोग – arsenicum album 200 uses hindi

इस होम्योपैथिक मेडिसिन का इस्तेमाल व्यक्ति की उम्र , लिंग , लक्ष्ण , बिमारी को ध्यान में रखकर डॉक्टर की सलह के अनुसार किया जाता है ताकि कोई समस्या न हो

आर्सेनिक एल्बम 200 का इस्तेमाल आपको दिन में 2 बार करना है आपको इसकी 2 बूंद सुबह के समय और 2 बूंद शाम के समय सीधा जीभ पर लेनी है इसका सेवन खाना खाने से आधे या एक घंटे पहले करे

आपको इसका इस्तेमाल लगातार 15 दिन या एक महिना करना है उसे ज्यादा इस्तेमाल करने के लिए आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए अगर आपको बुखार है तो आप इसकी 30 पोटेंसी का सेवन कर सकते है हर एक घंटे में 2 बूंद जीभ पर ले

बिमारी :बुखार , चिंता , जुकाम आदि
दवा की मात्रा :2 बुँदे एक समय में
दिन में कितनी बार :दिन में 2 बार सुबह और शाम
खाना खाने से पहले या बाद में ले :खाना खाने से आधे घंटे पहले ले
किसके साथ ले :सीधा जीभ पर डालकर सेवन करे
कितने दिनों तक ले :15 दिन या 1 महिना
1 महीने से ज्यादा सेवन के लिए डॉक्टर की सलाह ले

आर्सेनिक एल्बम 200 के फायदे – benefits of arsenicum album hindi

यह मेडिसिन शरीर के अलग अलग ओर्गंस पर अपना कार्य करती है और इसके बहुत से फायदे है जो इस प्रकार है

(1) . चिंता और डर

जिन व्यक्ति को बहुत ज्यादा चिंता होती है और कोई समस्या होने पर मरने का डर होता है उन व्यक्ति के लिए यह मेडिसिन बहुत लाभकारी है और व्यक्ति को डर और चिंता अलग अलग हो सकती है कुछ व्यक्ति को कोई बिमारी हो जाती है तो उसे मरने का डर होता है उसे चिंता होने लगती है

कुछ व्यक्ति अपने आने वाले समय को लेकर बहुत ज्यादा चिंता करने लगते है व्यक्ति को बहुत बेचेनी होती है कोई काम गलत होता है तो बहुत डरता है एक जगह पर नहीं बैठता है उसे बहुत घबराहट होती है पसीना आता है शरीर ठंडा पड़ जाता है व्यक्ति अरमा नहीं करता है पीसना आता है कापता है सांस लेने में समस्या होती है एसे में आर्सेनिक एल्बम बेस्ट है

(2) . साँस से जुडी समस्या

सांस से जुडी समस्या में और फेफड़ो की समस्या के लिए इसका इस्तेमाल अच्छा है अस्थमा और निमोनिया जैसी समस्या के लिए आर्सेनिक बहुत लाभकारी है अगर किसी व्यक्ति में अस्थमा के लक्ष्ण जैसे छाती में दर्द जकड़न , सांस लेने में समस्या होती है , व्यक्ति को घबराहट होती है खांसी होती है पीले रंग का थूक निकलता है तो यह मेडिसिन ले सकते है

(3) . पेशाब से जुडी समस्या

पेशाब से जुडी समस्या जैसे गुर्दे में सुजन में आर्सेनिक एल्बम का इस्तेमाल किया जाता है यह एसे मामलो में बहुत लाभकारी है अगर पेशाब करने के दोरान दर्द और जलन महसूस होती है पेशाब करने में बहुत कठिनाई होती है और साथ में व्यक्ति को बुखार होता है चिंता घबराहट होती है तो यह मेडिसिन दी जाती है

(4) . नींद की समस्या

व्यक्ति को बहुत ज्यादा चिंता होती है घबराहट होती है और उसके साथ ही नींद न आने की समस्या होती है थकान लगती है और समस्या बढती है और अगर नींद आती है तो मरने का डर , चिंता , बेचनी बहुत ज्यादा होने लगत्ती है तो आर्सेनिक एल्बम बहुत अच्छा कार्य करती है

(5) . त्वचा की समस्या

त्वचा की समस्या के लिए आर्सेनिक एल्बम अच्छा कार्य करती है त्वचा की एक समस्या है सोरायसिस जिसमे त्वचा पर लाल परतदार चकते उत्पन हो जाते है और यह समस्या आपको बार बार हो सकती है इसमें त्वचा में बहुत खुजली होती है और सुजन होती है और दर्द हो सकता है त्वचा में सुखी परतदार धबे सुखी होती है और खून निकलता है इसे जोड़ो में सुजन होती है

एक्जीमा भी त्वचा से जुडी समस्या है और इस समस्या में त्वचा पर खुरदरापन , सुजन , दाग , खुजली होती है सुखा पिला त्वचा से निकलता है त्वचा मोटी और पपड़ीदार हो जाती है और यह शरीर में कही पर भी हो सकता है इस समय में भी आर्सेनिक एल्बम असरदार है

(6) . पेट की समस्या

गैसट्रिक समस्या के लिए भी यह होम्योपैथिक मेडिसिन बहुत लाभकारी है यह पेट में अल्सर , बवासीर , दस्त , पेचिश जैसी समस्या के लिए बहुत ज्यादा लाभकारी है बवासीर के दोरान व्यक्ति को मल त्याग करते समय बहुत दर्द होता है जलन होती है और यह दर्द और जलन मल त्याग के 1 या 2 घंटे तक बना रहता है और चलने बैठने में समस्या होती है

दस्त के मामलों में भी इस होम्योपैथिक मेडिसिन को दिया जाता है मल त्याग के साथ साथ पानी निकलता है और पेट में बहुत तेज दर्द होता है मल से ज्यादा बदबू आती है और मल हरे और भूरे रंग का होता है मल त्याग के बाद बहुत ज्यादा कमजोरी होती है और ठंडा पसीना भी आता है एसे में आर्सेनिक एल्बम अच्छा कार्य करता है

(7) . सर्दी जुकाम बुखार की समस्या

आर्सेनिक एल्बम सर्दी जुकाम बुखार जैसी समस्या के लिए बहुत ज्यादा लाभकारी है नाक से जुडी समस्या में यह बहुत अच्छा असर करती है अगर आपको बुखार है तो आपको यह मेडिसिन ले सकते है अगर आपको ठण्ड लगकर बुखार होता है तो इसे ले सकते है

साथ ही अगर किसी व्यक्ति को एन्फुलेजा की समस्या होती है जिसे फ्लू भी कहते है यह समस्या RNA वायरस के कारण होती है और यह हमारे सांस लेने वाली नली को संक्रमित कर देती है इसके कारण बुखार , खांसी , सिर में दर्द , उलटी , मतली जैसि समस्या होती है एसे में आर्सेनिक एल्बम अच्छा कार्य करती है

आर्सेनिक एल्बम के दुष्प्रभाव – side effects of arsenicum album 200 hindi

आर्सेनिक एल्बम होम्योपैथिक मेडिसिन हमारे शरीर में अलग अलग कार्य करती है और इस होम्योपैथिक मेडिसिन का हमारे शरीर पर कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है

परन्तु फिर भी आपको इस मेडिसिन का सही मात्रा में इस्तेमाल करना चाहिए ताकि कोई समस्या न हो अगर आपको इसे कोई दुष्प्रभाव होता है तो आपको डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए और कुछ समय इसका सेवन बंद कर देना चाहिए

आर्सेनिक एल्बम की सावधानियाँ – precautions of arsenicum album hindi

जब भी इस मेडिसिन का सेवन करे तो उसे पहले आपको कुछ बातो का ध्यान रखना चाहिए जो इस प्रकार है

(1) . अगर आपको होम्योपैथिक मेडिसिन या आर्सेनिक एल्बम से किसी प्रकार की एलर्जी है तो इसका सेवन नहीं करना है

(2) . अगर इस मेडिसिन का सेवन कर रहे है तो शराब का सेवन कभी नहीं करना चाहिए और न ही किसी प्रकार का कोई धुम्रपान करे

(3) . प्रेगनेंसी में आर्सेनिक एल्बम लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह ले उसके बाद ही इस मेडिसिन का सेवन करे

(4) . स्तनपान करवाने वाली महिला को आर्सेनिक एल्बम के इस्तेमाल से पहले अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए

(5) . अगर सुबह की खुराक छुट जाती है तो आपकों दोपहर की खुराक के साथ सुबह की खुराक नहीं लेनी है

(6) . ड्राइव करने से पहले और ड्राइव करते समय आपको कभी भी इस मेडिसिन का सेवन नहीं करना चाहिए

(7) . आर्सेनिक एल्बम 200 मेडिसिन को लेने से पहले उसकी exp date को जरुर चेक करे उसके बाद ही मेडिसिन को ले

आर्सेनिक एल्बम के परहेज –

इस मेडिसिन के सेवन से पहले आपको कुछ परेहज भी करने है जिसके बारे में आपको निचे देखने को मिल जाएगा

(1) . कच्चे टमाटर का सेवन आपको नहीं करना चाहिए

(2) . कच्चे प्याज और लहसुन का सेवन आपको नहीं करना चाहिए

(3) . किसी भी प्रकार की खटाई का सेवन नहीं करना चहिये

(4) . अचार का सेवन नहीं करना चाहिए

(5) . निम्बू और निम्बू के रस का सेवन नहीं करना चाहिए

(6) . चाय और कॉफ़ी का सेवन कम मात्रा में करे

इस मेडिसिन के दोरान उपर बताई गई चीजो से परहेज करे

निष्कर्ष

आशा करते है की आपको arsenicum album 200 uses hindi के बारे में पता चल गया होगा और अब आपको इसे जुडी समस्या नहीं होगी यह मेडिसिन आपकी समस्या के लिए बहुत लाभकारी है यह दिमाग , नर्वस सिस्टम , पेट , फेफड़े , बुखार आदि में अच्छा असर करती है आप इसे आसानी से ले सकते है

जानिए कुछ सवालो के जवाब

Q . आर्सेनिक एल्बम 200 को कितने दिनों तक ले सकते है?

ans . आर्सेनिक एल्बम को 15 दिन से लेकर 1 महीने तक आसानी से ले सकते है अगर इसे ज्यादा लेना चाहते है तो डॉक्टर की सलाह ले|

Q . आर्सेनिक एल्बम 200 का कार्य क्या है?

ans . यह हमारे शरीर के दिमाग , श्वशन तंत्र , पेट , नर्विस सिस्टम पर कार्य करता है|

Q . आर्सेनिक एल्बम 200 के 3 मुख्या लक्ष्ण क्या है?

ans . बेचनी , दाह और प्यास लगना इस मेडिसिन के मुख्या लक्ष्ण है|

Q . आर्सेनिक एल्बम 200 का प्राइस क्या है?

ans . यह होम्योपैथिक मेडिसिन आपको 100 रूपये तक आसानी से मिल जाएगी समय के अनुसार प्राइस कम ज्यादा हो सकता है|